Naidunia
    Sunday, October 22, 2017
    PreviousNext

    खतरे में बैंक वालों की नौकरी, 5 साल में 30% हो सकते हैं बेरोजगार

    Published: Fri, 15 Sep 2017 09:41 AM (IST) | Updated: Sun, 17 Sep 2017 07:48 AM (IST)
    By: Editorial Team
    robots banking 15 09 2017

    मुंबई। बैंकों के कुछ काउंटर हमेशा के लिए बंद होने वाले हैं। मसलन, पासबुक अपडेट करने वाले क्लर्क नजर नहीं आएंगे। उनके जैसे कुछ अन्य बैंक कर्मचारियों की भी जरूरत नहीं रह जाएगी। ऑटोमेशन के दौर में ऐसी नौकरियां खत्म हो रही हैं।

    कुछ बैंक शाखाओं में ये बदलाव अभी से नजर आने लगे हैं। ग्लोबल बैंकिंग कंपनी सिटीग्रुप को साल 2008 के वित्तीय संकट से उबारने वाले विक्रम पंडित ने बैंकिंग सेक्टर में बढ़ते ऑटोमेशन का समर्थन किया है।

    पंडित का कहना है कि टेक्नोलॉजी के बढ़ते इस्तेमाल की वजह से अगले पांच वर्षों में करीब 30 फीसदी नौकरियां खत्म हो जाएंगी। पंडित ने एक इंटरव्यू में कहा है कि आने वाले समय में बैंक-ऑफिस जैसे कामकाज के लिए काफी कम कर्मचारियों की जरूरत रह जाएगी। आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (कृत्रिम बुद्घि) और रोबोटिक्स ऐसे काम निपटाने में सक्षम हैं।

    हालांकि, पंडित का यह नजरिया और अनुमान अमेरिका और यूरोप के लिए है, लेकिन भारतीय बैंक भी इसी राह चलते नजर आ रहे हैं। घरेलू बैंकिंग सिस्टम में यह चलन देखा जा सकता है। अब पासबुक अपडेट, कैश डिपॉजिट, केवाईसी (अपने ग्राहक को जानें) वेरिफिकेशन और खातों में वेतन का ट्रांसफर डिजिटल तरीके से होने लगा है। नतीजतन कर्मचारियों की जरूरत कम होती जा रही है।

    एक्सिस बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और एचडीएफसी बैंक ज्यादा से ज्यादा टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करने लगे हैं। देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई भी इस मामले में काफी आगे नजर आ रहा है। इन सभी बैंकों ने रोजमर्रा के कामकाज सेंट्रलाइज करने के लिए रोबोटिक्स का इस्तेमाल शुरू कर दिया है। इस वजह से इन बैंकों की शाखाओं पर कर्मचारियों की जरूरत कम रह गई है।

    राहत की बात केवल इतनी है कि पिछले कुछ वर्षों से कर्मचारियों की जगह मशीनों का इस्तेमाल करने के मामले में भारतीय बैंकिंग उद्योग की रफ्तार थोड़ी कम हुई है। फिर भी मशीनों का इस्तेमाल बढ़ने से कर्मचारियों की भर्ती घट गई है। जो भर्तियां हो रही हैं, उनमें ऐसी हुनर होनी चाहिए, जो बैंकों में ऑटोमेशन को बढ़ावा देने में जरूरी हो।

    बदलता बैंकिंग सेक्टर

    डिजिटलाइजेशनः एक रिपोर्ट में एक्सिस बैंक के रिटेल बैंकिंग हेड राजीव आनंद के हवाले से कहा गया है कि बैंकिंग सेक्टर में फिलहाल चेकबुक के लिए 75 फीसद आवेदन डिजिटली निपटाए जा रहे हैं। पहले इस काम के लिए बैंक जाना पड़ता था।

    सेंट्रलाइजेशनः बीसीजी के सीनियर पार्टनर व डायरेक्टर सौरभ त्रिपाठी का कहना है कि अगले तीन वर्षों में निचले स्तर के कर्मचारियों (जैसे डेटा एंट्रीज) की जरूरत नहीं रह जाएगी। पक्केतौर पर बैंकिंग सेक्टर में नई नौकरियां पैदा होने की दर घटेगी।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=
    • hukum 15 Sep 2017, 02:00:37 PM

      पासबूक अपदेत कर्नेवले तो अभि भि नहि मिलते है .

    जरूर पढ़ें