Naidunia
    Friday, November 24, 2017
    Previous

    IT : आठ लाख करोड़ रुपये बकाया आयकर की वसूली मुश्किल

    Published: Sat, 11 Mar 2017 08:53 PM (IST) | Updated: Sat, 11 Mar 2017 09:33 PM (IST)
    By: Editorial Team
    income-tax 11 03 2017

    नई दिल्ली। आयकर विभाग भारी-भरकम कर राजस्व वसूलने में नाकाम रहा है। देशभर में करीब सवा आठ लाख करोड़ रुपये कर मांग (एरियर डिमांड) बकाया है।

    चिंता की बात यह है कि इसमें लगातार तेजी से वृद्धि हो रही है। हाल यह है कि खुद आयकर विभाग इस बात को मानता है कि इस बकाया कर राशि में से करीब 97 प्रतिशत राशि को वसूलना मुश्किल है।

    इस बात की जानकारी नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की एक ताजा ऑडिट रिपोर्ट में मिली है। प्रत्यक्ष करों के संबंध में यह रिपोर्ट शुक्रवार को संसद में पेश हुई।

    रिपोर्ट के अनुसार वित्त वर्ष 2015-16 में कुल 8.24 लाख करोड़ रुपये की कर राशि बकाया है। इसमें से 8.02 लाख करोड़ रुपये कर राशि को वसूलना कठिन है। दरअसल बकाया कर के बहुत से मामलों में करदाता की संपत्ति बहुत कम है। वहीं कई मामलों में करदाता का अता-पता ही नहीं है।

    इसके अलावा बकाया कर के कई मामलों में अदालतों ने रोक लगा रखी है। यही वजह है कि कर मांग के मामले साल दर साल बढ़ते जा रहे हैं और कर्ज वसूलने की रफ्तार जस की तस बनी हुई है। वित्त वर्ष 2015-16 में कर मांग में 156,356 करोड़ रुपये का इजाफा हुआ है जो बीते पांच साल में रिकॉर्ड है।

    रिपोर्ट के मुताबिक वित्त वर्ष 2011-12 में बकाया कर मांग 4.08 लाख करोड़ रुपये थी जो पांच साल के भीतर ही बढ़कर दोगुनी हो गयी है। रिपोर्ट में कर आधार बढ़ाए जाने की जरूरत को भी रेखांकित किया गया है।

    रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में कंपनी रजिस्ट्रार के समक्ष 10.16 लाख कंपनियां पंजीकृत हैं लेकिन वर्ष 2015-16 में इनमें से 6.88 लाख कंपनियों ने ही रिटर्न दाखिल किया।

    नियमानुसार सभी वर्किंग कंपनियों को रिटर्न करना चाहिए लेकिन कैग रिपोर्ट बताती है कि करीब 48 प्रतिशत कंपनियों ने आयकर रिटर्न दाखिल नहीं किया।

    आयकर का बढ़ता एरियर वर्ष--- बकाया कर मांग (करोड़ रुपये) 2011-12 ---- 4,08,418 2012-13 ---- 4,86,180 2013-14 ---- 5,75,340 2014-15 ---- 7,00,148 2015-16 ---- 8,24,211

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें