Naidunia
    Sunday, March 26, 2017
    PreviousNext

    नोटबंदी के बाद कुछ ही हफ्तों नकदी आपूर्ति सामान्य : जेटली

    Published: Fri, 17 Feb 2017 08:31 PM (IST) | Updated: Fri, 17 Feb 2017 08:34 PM (IST)
    By: Editorial Team
    remonetization-process 17 02 2017

    नई दिल्ली। सरकार के नोटबंदी के फैसले के बाद कुछ ही हफ्तों में नकदी आपूर्ति की स्थिति सामान्य हो गयी है। केंद्र का दावा है कि फिलहाल बाजार में नोटों की कमी नहीं है।

    वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को सिक्योरिटी प्रिंटिंग मिंटिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लि. (एसपीएमसीआइएल) के 11वें स्थापना दिवस पर यह बात कही। उन्होंने आठ नवंबर, 2016 को सरकार के नोटबंदी के फैसले के बाद करेंसी आपूर्ति सामान्य बनाने में एसपीएमसीआइएल के योगदान की सराहना भी की। सरकार ने जिस समय 500 रुपये और 1000 रुपये के पुराने नोट बंद करने की घोषणा की थी, उस समय कुल प्रचलित मुद्रा में इन नोटों की हिस्सेदारी 86 प्रतिशत थी।

    जेटली ने कहा कि नोटबंदी का फैसला लागू करना बेहद कठिन काम था। दुनियाभर में शायद यह सबसे बड़ा विमुद्रीकरण अभियान है। इसका उद्देश्य भ्रष्टाचार, काले धन और जाली मुद्रा की जड़ पर चोट करना था। जेटली ने नोटबंदी के आलोचकों को करारा जवाब देते हुए कहा कि नोटबंदी के दौरान सबसे आसान काम टिप्पणी करना था।

    जेटली ने कहा कि अक्सर लोगों ने यह टिप्पणी की कि नोटबंदी के बाद मुद्रा आपूर्ति की स्थिति सामान्य बनाने में सात महीने या एक साल लग जाएंगे लेकिन यह काम कुछ ही हफ्तों में हो गया। आज बैंक में पैसे की कोई कमी नहीं है। यह सब देश में एक भी अशांति की घटना के बगैर हासिल किया गया। जेटली ने कहा कि नोट मुद्रण प्रेस ने सराहनीय योगदान किया है। जेटली ने कहा कि नोट प्रिंिटंग प्रेस में काम करने वाले लोगों ने काफी समय तक 24 घंटे काम किया।

    इस मौके पर वित्त मंत्रालय के आर्थिक कार्य विभाग के सचिव शक्तिकांत दास ने कहा कि पिछले डेढ़ साल में खासकर नोटबंदी के दौरान एसपीएमसीआइएल के कर्मचारियों ने नई मुद्रा की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए कठिन मेहनत की है। उन्होंने कहा कि पहले इस प्रेस में दो शिफ्ट चलती थीं लेकिन नवंबर और दिसंबर में यहां तीन शिफ्ट में काम हुआ। इस दौरान यहां छपे नोटों की संख्या कई गुना बढ़ी। इसके अलावा देश के अलग-अलग इलाकों में मुद्रा आपूर्ति करने के लिए नासिक और देवास प्रेस से नोट हवाई यातायात के जरिये कोलकाता, गुवाहटी, चंडीगढ़, दिल्ली और लखनऊ तक पहुंचाए।

    एक लाख करोड़ से ज्यादा के 500 रुपये के नये नोट छपे

    एसपीएमसीआइएल के प्रमुख और आर्थिक मामलों में संयुक्त सचिव प्रवीन गर्ग ने कार्यक्रम में संवाददाताओं को बताया कि एक लाख करोड़ रुपये से ज्यादा मूल्य के 500 रुपये के नये नोट छापे जा चुके हैं। इन नोटों की कुल संख्या 2.2 करोड़ है।

    कर्मचारियों को बैंक खाते में वेतन देने का रास्ता साफ

    केंद्र व राज्य सरकारें अब औद्योगिक इकाइयों को कर्मचारियों को वेतन चेक या इलेक्ट्रॉनिक ट्रांसफर के जरिये सीधे बैंक खाते में देने के लिए निर्देश दे सकेंगी। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने हाल में पेमेंट ऑफ वेजेज (एमेंडमेंट) एक्ट 2017 को मंजूरी दे दी। संसद ने बजट सत्र के समाप्त हुए पहले चरण में इस विधेयक को मंजूरी दी थी। इस कानून के बाद सेवायोजक कर्मचारियों की लिखित प्रार्थना के बगैर उन्हें बैंक खाते में वेतन भुगतान कर सकेंगे।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी