Naidunia
    Friday, April 28, 2017
    Previous

    एसबीआई में होगा भारतीय महिला बैंक का विलय

    Published: Mon, 20 Mar 2017 11:04 PM (IST) | Updated: Tue, 21 Mar 2017 09:47 AM (IST)
    By: Editorial Team
    sbi 20 03 2017

    नई दिल्ली

    केंद्र सरकार भारतीय महिला बैंक का विलय देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआइ) के साथ करेगी। केंद्र ने सोमवार को इसकी आधिकारिक घोषणा की।

    महिलाओं के लिए इस अनूठे बैंक की स्थापना पूर्ववर्ती संप्रग सरकार ने की थी। वित्त मंत्रालय ने भारतीय महिला बैंक के एसबीआइ में विलय के निर्णय की प्रमुख वजह भी बताई है।

    मंत्रालय ने कहा कि एसबीआइ की महिलाओं के लिए 126 विशेष शाखाएं हैं। जबकि बीएमबी की मात्र सात ब्रांच हैं। इसलिए भारतीय महिला बैंक की प्रशासनिक व प्रबंधकीय लागत काफी अधिक है।

    एसबीआइ के माध्यम से काफी कम लागत पर महिलाओं को ज्यादा कर्ज मुहैया कराया जा सकता है। महिलाओं को सस्ता कर्ज मुहैया कराने के उद्देश्य को पूरा करने की जरूरत है।

    साथ ही उन्हें व्यापक नेटवर्क के जरिये सेवाएं दिलाने की आवश्यकता है। भारतीय महिला बैंक की स्थापना को तीन साल हो चुके हैं। अब तक यह महिलाओं को करीब 192 करोड़ रुपये का कर्ज दे चुका है।

    दूसरी ओर एसबीआइ समूह ने महिलाओं को 46,000 करोड़ रुपये बतौर कर्ज मुहैया कराया है। हाल ही में सरकार ने एसबीआइ के सहयोगी बैंकों का उसके साथ विलय करने का निर्णय किया था।

    भारतीय स्टेट बैंक की देशभर में लगभग 20 हजार बैंक शाखाएं हैं। इसके करीब दो लाख कर्मचारियों में 22 प्रतिशत महिलाएं हैं।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी