Naidunia
    Monday, November 20, 2017
    PreviousNext

    निगम के 6 बोर फेल, 20 हजार आबादी पर गहराया जलसंकट

    Published: Sat, 22 Apr 2017 03:58 AM (IST) | Updated: Sat, 22 Apr 2017 03:58 AM (IST)
    By: Editorial Team

    बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

    भीषण गर्मी के बीच शहर का जलस्तर भी तेजी से घटने लगा है। इसी के चलते नगर निगम के 6 बोर फेल हो गए हैं। इसके चलते शहर के अलग-अलग इलाकों में कुल 20 हजार की आबादी पर जलसंकट गहरा गया है। निगम की ओर से कहीं अलग-अलग शिफ्ट में तो कहीं केवल आधे घंटे के लिए पानी की सप्लाई की जा रही है।

    निगम के पेयजल सप्लाई करने वाले बोर एक-एक कर फेल होने लगे हैं। इसके चलते पेयजल सप्लाई व्यवस्था चरमराने लगी है। अलग-अलग जगहों पर अब तक शहर के 6 बोर फेल हो चुके हैं। निगम को उन्हें बंद कर दूसरी जगहों से पानी देना पड़ रहा है। इसके अलावा 25 सीधे सप्लाई वाले पंप ऐसे भी हैं जिनसे कम पानी आ रहा है। आशंका है कि अगर इसी तरह जलस्तर नीचे जाता रहा तो कम गहराई वाले ये पंप भी बंद हो जाएंगे। ऐसे में पेयजल सप्लाई का सारा भार शहर की 21 पानी टंकी पर आ जाएगा। इधर निगम ने भी स्थिति को भांपते हुए इस बार पहले ही शहर के अंदर 15 बोर कराने का टेंडर करा दिया है। जरूरत के अनुसार अब ज्यादा गहराई वाले पंप कराने शुरू कर दिए गए हैं। निगम की पेयजल सप्लाई के अलावा बहुत से घरों में निजी बोर भी हैं। जलस्तर नीचे जाने से वे भी बड़ी संख्या में फेल हो रहे हैं। लिहाजा वे भी अब निगम की सप्लाई लाइन से अपने कनेक्शन जुड़वा रहे हैं। एक माह में ही निगम ने 1500 नए कनेक्शन अपनी पेयजल सप्लाई लाइन से दिए हैं। इससे निगम की आय जरूर बढ़ी है, लेकिन अतिरिक्त भार भी बढ़ गया है।

    केस-1

    शिफ्ट में पानी, रात 11 तक इंतजार

    सिटी डिस्पेंसरी के पास निगम के पंप से सीधे पेयजल की सप्लाई होती थी। जलस्तर नीचे गया तो यहां भी पेयजल की मारमारी शुरू हो गई है। यहां पास ही एक और पंप है, जिस पर पानी सप्लाई का सारा भार है। स्थानीय जनप्रतिनिधि अब लोगों को रात 11 बजे तक शिफ्ट में पेयजल उसी एक बोर से उपलब्ध करा रहे हैं। इससे लोगों को इंतजार करना पड़ रहा है।

    केस-2

    3 दिन से आधे घंटे के लिए सप्लाई

    तालापारा मुख्य मार्ग में पिछले तीन दिनों से लोगों को केवल आधे घंटे ही पानी मिल रहा है। इसका कारण बताया जा रहा है कि जलस्तर नीचे जाने से व्यापार विहार त्रिवेणी सभागार वाली पानी टंकी पूरी नहीं भर पा रही है। इसके चलते पेयजल सप्लाई का समय घटा दिया गया है।

    केस-3

    दूसरी जगह से आपूर्ति, नाकाफी

    टिकरापारा में पंप फेल हो गया है। यहां पानी टंकी को भरने वाला जलस्रोत भी सूख चुका है। ऐसे में पास के दूसरे पंप से यहां पेयजल सप्लाई हो रही है। इसके चलते लोगों को जरूरत से कम पानी मिल रहा है। पीएचई को नगर निगम ने गहराई तक नया पंप करके पानी टंकी भरने के लिए कहा है।

    कंपनी गार्डन के पौधे सूखने लगे

    शहर के सबसे पुराने उद्यान कंपनी गार्डन में भी पेयजल संकट का असर दिखना शुरू हो गया है। यहां पौधों को पानी देने के लिए जो बोर हुआ था, उसमें अब बहुत कम पानी आ रहा है। इससे गार्डन की पर्याप्त सिंचाई नहीं हो पाती। महापौर ने यहां इंजीनियरों को ज्यादा गहराई वाला नया बोर कराने के निर्देश दिए हैं, ताकि गार्डन में लगे पेड़-पौधों को सूखने से बचाया जा सके।

    इन जगहों पर सूखे बोर

    0 महाराष्ट्र मंडल के पास

    0 सिटी डिस्पेंसरी के पास

    0 अयप्पा मंदिर के पास

    0 टिकरापारा

    0 डबरीपारा

    0 शांतिनगर

    शहर में जहां-जहां भी कम गहराई वाले पंप हैं, वहां जलस्तर नीचे जाने का असर हो रहा है। कम बारिश होने से इस बार जलस्तर ज्यादा नीचे जा रहा है। जिन जगहों पर हमारे बोर फेल हुए हैं, वहां आसपास नया बोर भी किया जा रहा है। फिलहाल ऐसी स्थिति नहीं है कि हम पानी दे ही न पाएं।

    भागीरथ वर्मा

    अधीक्षण अभियंता, नगर निगम

    मेरे वार्ड का बोर फेल हो गया है। एक दूसरा बोर है उससे हम लोगों को समझाइश देकर शिफ्ट के अनुसार पेयजल सप्लाई कर रहे हैं। हाल यह है कि कुछ जगहों पर तो रात 10 से 11 बजे पानी देना पड़ रहा है।

    शैलेंद्र जायसवाल

    पार्षद, वार्ड क्रमांक 34

    तीन दिनों से मेरे वार्ड में सुबह के समय आधा घंटा पानी आता है। जब तक लोग पानी भरना शुरू करते हैं तब तक नल में पानी आना बंद हो जाता है। अधिकारी इसका कारण जलस्तर सूखने को बता रहे हैं। निगम से टैंकर मंगाकर लोगों को पानी उपलब्ध कराना पड़ रहा है।

    रामा बघेल

    पार्षद, वार्ड क्रमांक 14

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें