Naidunia
    Tuesday, June 27, 2017
    PreviousNext

    अकुशल श्रमिकों को बनाया जाएगा बेयरफूट इंजीनियर

    Published: Tue, 20 Jun 2017 10:21 PM (IST) | Updated: Tue, 20 Jun 2017 10:21 PM (IST)
    By: Editorial Team

    पᆬोटो : 20जानपी 5

    स्क्रीनिंग टेस्ट में शामिल हुए 85 अभ्यार्थी

    पास होने पर मिलेगा 100 दिवस का प्रशिक्षण

    जांजगीर-चांपा।नईदुनिया न्यूज। महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के अकुशल श्रमिकों को बेयरफूट इंजीनियर बनाया जाएगा। इसके लिए मंगलवार को स्क्रीनिंग टेस्ट जिला पंचायत परिसर के लाइवलीहुड कॉलेज में दोपहर 12 बजे से आयोजित किया गया। स्क्रीनिंग टेस्ट महात्मा गांधी नरेगा परिषद छग के अधीक्षण अभियंता आरके शर्मा की उपस्थिति में लिया गया।

    जिला पंचायत सीईओ अजीत वसंत ने बताया कि महात्मा गांधी नरेगा के तहत प्रत्येक 2500 क्रियाशील जॉबकार्ड पर एक बेयरफूट इंजीनियर रखा जाना है। इसी के तहत प्रथम चरण आयोजित किया गया था, जिसमें 6 बेयरफूट इंजीनियरों का चयन किया गया है। इन्हें 90 दिन का प्रशिक्षण भी दिया जा चुका है। द्वितीय चरण में 20 जून को स्क्रीनिंग टेस्ट लिया गया, जिसमें सभी 9 जनपद पंचायतों से 85 अभ्यार्थियों ने परीक्षा दी। डेढ़ घंटे के स्क्रीनिंग टेस्ट में 50 प्रश्न पूछे गए। टेस्ट के उपरांत परीक्षा में सफल अभ्यार्थियों के लिए 100 दिवस का प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण के बाद बेयरफूट इंजीनियरों की नियुक्ति की जाएगी। बेयरफूट इंजीनियर की पारिश्रमिक भुगतान योजनांतर्गत निर्माण कार्यों के प्राक्कलन में प्रावधानित 1 प्रतिशत की राशि से किया जाएगा। यह राशि गैर मजदूरी मद की राशि 40 प्रतिशत के अंतर्गत होगी। परीक्षार्थियों के स्क्रीनिंग टेस्ट एवं प्रशिक्षण में सफल होने के बाद उनकी भूमिका एवं कुशल श्रमिक की तरह होगी और उन्हें कुशल श्रमिक की दर से भुगतान किया जाएगा। स्क्रीनिंग टेस्ट में नोडल अधिकारी आरईएस कार्यपालन अभियंता अशोक सिंह, सहायक अधिकारी महात्मा गांधी नरेगा एपीओ विजयेन्द्र सिंह शामिल हुए।

    ----------------------------------------------------

    और जानें :  # AKUSAL KO
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी