Naidunia
    Thursday, December 14, 2017
    PreviousNext

    करंट से छात्रा की मौत की जांच करने पहुंची पीसीसी टीम

    Published: Fri, 13 Oct 2017 12:01 AM (IST) | Updated: Fri, 13 Oct 2017 12:01 AM (IST)
    By: Editorial Team
    12octp33 13 10 2017

    0 जांच दल को मिली कई खामियां, अधिकारियों से किया जवाब तलब

    0 लुंड्रा विधायक चिंतामणी व स्थानीय विधायक अमरजीत भगत रहे उपस्थित

    बतौली । नईदुनिया न्यूज

    मंगलवार की सुबह पहाड़ी कोरवा आश्रम भटको से भाग रही सात छात्राओं में से एक पहाड़ी कोरवा छात्रा की करंट की चपेट में आने से मौत का मामला काफी संवेदनशील हो गया है। गुरुवार को प्रदेश कांग्रेस कमेटी का एक जांच बतौली पहुंचा था। जांच दल के साथ स्थानीय विधायक अमरजीत भगत और लुंड्रा विधायक चिंतामणि महाराज भी थे। लगभग चार घंटे की गहन जांच में जांच दल को काफी खामियां मिली है। संकलित रिपोर्ट प्रदेश कांग्रेस कमेटी और नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव को सौंपी जाएगी।

    बतौली के भटको में स्थित पहाड़ी कोरवा आश्रम से मंगलवार की सुबह भाग रही छात्रा की करंट की चपेट में आने से मौत हो गई थी। मामला काफी संवेदनशील होने की वजह से अब बतौली क्षेत्र के आश्रम, छात्रावासों में व्याप्त समस्याएं भी प्रकाश में आने लगी है। इसी संदर्भ में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भूपेश बघेल ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष बालकृष्ण पाठक के संयोजकत्व में सात सदस्य जांच समिति का गठन किया है। जांच समिति में अमरजीत भगत विधायक सीतापुर, चिंतामणी विधायक लुंड्रा, मधु सिंह सचिव प्रदेश कांग्रेस कमेटी, संध्या रवानी अध्यक्ष शहर महिला कांग्रेस, रेवती सिंह अध्यक्ष जिला महिला कांग्रेस और प्रदीप गुप्ता युकां नेता शामिल थे। जांच दल ने गुरुवार को बतौली के भटको में स्थित पहाड़ी कोरवा आश्रम का निरीक्षण किया व घटना के संबंध में पूरी रिपोर्ट तैयार की है। इस बात की भी जांच की गई कि सात बालिकाएं सुबह आश्रम से क्यों भागना चाहती थी? इसके अलावा आश्रम में भोजन व्यवस्था, बिजली, छात्राओं के ठहरने के इंतजाम की भी जांच की है। जांच दल ने मंडल संयोजक जय गोविंद गुप्ता, बीआरसी विष्णु राम पैकरा से भी जवाब तलब किया। नई दुनिया ने बुधवार के अंक में एक करोड़ से अधिक की राशि से निर्मित कन्या छात्रावास भवन के संबंध में भी समाचार प्रकाशित किया था। इस संबंध में भी जांच दल ने काफी गहनता से जांच की है। गौरतलब है कि भटको स्थित कन्या छात्रावास भवन पांच वर्ष पहले राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा मिशन द्वारा बनाया गया है, लेकिन आज तक इस का उद्घाटन नहीं किया गया है। इस वजह से यह भवन लगातार खंडहर में तब्दील होता जा रहा है। जानकारी मिली की छात्रावास का संचालन न होने की वजह से 9वीं और 10वीं की छात्राएं बाजू में स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में निवास कर रही हैं, जिसका खामियाजा छात्राओं को भुगतना पड़ रहा है। घुटन भरे माहौल में कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय के सौ बिस्तरों में 180 छात्राएं सोती हैं। जांच दल की टीम के सदस्य कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में भी पहुंचे। यहां एक-एक बिस्तर में दो-दो छात्राओं को सोना पड़ता है। भवन सीपेज का शिकार है। इस वजह से सभी पंखे खराब हो गए हैं। रात को मच्छरों और गर्मी से छात्राओं की हालत बहुत खराब रहती है। छात्राओं ने जांच दल को यह भी बताया कि अधीक्षिका के पति भी कभी-कभी छात्रावास कैंपस में आते हैं और भवन के बाहर स्थित कमरे में रात को भी निवास करते हैं। कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में आज भी कोयले से भोजन बनाया जा रहा है। एक कमरे में पर्याप्त मात्रा में बोरों में भरकर कोयला रखा गया है। गुरुवार को जांच दल के साथ कांग्रेस के कार्यकर्ता राकेश सिंह, अरविंद गुप्ता, पालू गुप्ता, नवीन गुप्ता, विधायक प्रतिनिधि राजकुमारी पाल, प्रज्ञा गुप्ता, सरपंच भटको राम प्रसाद, प्रशांत गुप्ता उपस्थित थे। चार घंटे चली मैराथन जांच के बाद स्थानीय जिम्मेदार अधिकारियों को कांग्रेस प्रदेश कांग्रेस कमेटी के जांच दल ने जल्द व्यवस्था दुरुस्त करने के साथ एक रिपोर्ट प्रस्तुत करने कहा है।

    अधीक्षिका और सुरक्षा कर्मचारी बदले गए

    भटको स्थित पहाड़ी कोरवा आश्रम में मंगलवार को हुई घटना के बाद प्रशासन ने संज्ञान लिया और अधीक्षिका और सुरक्षाकर्मी के निलंबन के बाद नए अधीक्षिका के रूप में श्रीमती कपिला और सुरक्षाकर्मी की बहाली कर दी गई है।

    अवैध कनेक्शन पर गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज

    बतौली पुलिस ने मंगलवार को हुई घटना के संबंध में अवैध कनेक्शन के लिए जिम्मेदार अशोक प्रधान पिता नेहरू प्रधान निवासी भटको के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज कर लिया है। इसके तहत पुलिस ने धारा 304 और विद्युत अधिनियम 2003 की धारा 135 के तहत कार्रवाई की है। इस संबंध में थाना प्रभारी अविनाश सिंह ने बताया कि धारा 174 सीआरपीसी कायम कर जांच पंचनामा रिपोर्ट तैयार की गई। मामला कभी संवेदनशील था, इसलिए विद्युत विभाग द्वारा प्राप्त रिपोर्ट और पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद करवाई संभव हो पाई है ।

    कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय मैं काफी समस्याएं व्याप्त है। जिला मिशन समन्वयक इसकी निगरानी रखते हैं। यदि कन्या छात्रावास भवन का उद्घाटन समय पर कर दिया जाता है तो अतिरिक्त रूप से 80 छात्राओं को कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में नहीं रहना पड़ेगा और समस्या नहीं रहेगी। क्षेत्र के आश्रमों और छात्रावासों में सीसीटीवी व्यवस्था भी होना चाहिए ताकि इस तरह की घटनाओं को रोका जा सके और सुरक्षा मानक तय की जा सके।

    बालकृष्ण पाठक

    उपाध्यक्ष, प्रदेश कांग्रेस कमेटी

    छात्रावासों में आदिवासी बालिकाओं के लिए विशेष व्यवस्था होनी चाहिए। इस तरह की घटना दोबारा ना हो इस बात का ध्यान रखना चाहिए। जितनी भी अवस्थाएं और समस्याएं जांच दल के सामने आई हैं, उन सब की एक विस्तृत रिपोर्ट प्रदेश कांग्रेस कमेटी को सौंपी जाएगी। इस संबंध में शासन को गंभीरतापूर्वक विचार करना चाहिए और आदिवासी बालिकाओं के साथ खिलवाड़ करना बन्द करना चाहिए।

    अमरजीत भगत

    विधायक सीतापुर

    और जानें :  # Death by current
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें