Naidunia
    Wednesday, June 28, 2017
    PreviousNext

    पैर में आई चोट से फैला इंफेक्शन, पंजा गलकर अलग

    Published: Fri, 21 Apr 2017 04:09 AM (IST) | Updated: Fri, 21 Apr 2017 04:09 AM (IST)
    By: Editorial Team

    अंबिकापुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

    पत्थर तोड़ते समय लगभग डेढ़ दशक पूर्व पैर में आई चोट ने पहाड़ी कोरवा को ऐसा जख्म दिया कि उसके दाहिने पैर की हड्डियां तक गलकर अलग हो गई हैं। गांव के सरपंच ने उसकी गंभीर स्थिति को देखकर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में गुरूवार को दाखिल कराया है। चिकित्सक ने जांच के बाद उसकी मरहम पट्टी की है और सर्जरी के पूर्व पैर में हुए इंफेक्शन की स्थिति को जानने के लिए एक्स-रे कराया है। गरीब पहाड़ी कोरवा की मदद के लिए गांव के सरपंच के आगे बढ़ने से उसके जीवनरक्षा की उम्मीद बढ़ गई है।

    जानकारी के मुताबिक सूरजपुर जिले के जयनगर थाना क्षेत्र अंतर्गत जगतपुर, आंवराडांड ग्राम निवासी रामचरण पहाड़ी कोरवा 48 वर्ष, युवावस्था में लगभग 14-15 वर्ष पूर्व कोरिया जिले के बैकुंठपुर में घूम-घूमकर बोल्डर, पत्थर तुड़ाई का काम करता था। दाहिने पैर में आई चोट के बाद लगभग छह माह तक वह कोई काम करने योग्य नहीं रहा। इस बीच उसका उचित उपचार भी नहीं हो पाया। पैर का जख्म कुछ ठीक होने के बाद वह मजदूरी करके जीवकोपार्जन कर रहा था। पुराने जख्म में हुए इंफेक्शन से पंजे के हिस्से में सूजन के साथ पानी निकलने लगा। इसका सही उपचार नहीं कराने से जख्म नासूर का रूप ले लिया और हड्डी गल गई, जिससे पंजे का पूरा हिस्सा गलकर अलग हो गया था। इसकी जानकारी जगतपुर ग्राम के सरपंच महेश्वर पैकरा को मिलने पर गुरूवार को रामचरण को लेकर वे मेडिकल कॉलेज अस्पताल अंबिकापुर पहुंचे, जहां डॉक्टर ने पहाड़ी कोरवा ग्रामीण के जख्म को देखकर पैर में पुराने जख्म से इंफेक्शन फैलना बताया है। पंजे से पैर का हिस्सा पूरी तरह से गलकर अलग होने के कारण मरहम-पट्टी करके उसे राहत देने की कोशिश की गई है। एक्स-रे के बाद पैर में फैले इंफेक्शन की स्थिति स्पष्ट हो पाएगी।

    स्मार्ट कार्ड तक नहीं-

    पहाड़ी कोरवा रामचरण का एक पुत्र है, जो काफी छोटा है। बच्चे के सिर पर मां का साया नहीं है। परिवार में किसी अन्य सदस्य के नहीं होने के कारण बच्चे की परवरिश कैसे होगी, इसकी चिंता बनी हुई है। पेट के लिए पत्थर की तुड़ाई करते वक्त आए जख्म से उसका पैर गलकर अलग हो जाएगा, यह उसने नहीं सोचा था। पहाड़ी कोरवा रामचरण का स्मार्ट कार्ड भी नहीं बना है। ऐसे में पहाड़ी कोरवाओं के ईलाज के लिए दी जाने वाली सरकारी सुविधा और पंचायत के सरपंच द्वारा किए जा रहे सहयोग से रामचरण को बेहतर उपचार सुविधा मिलने की उम्मीद है।

    और जानें :  # foot infection
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी