Naidunia
    Friday, June 23, 2017
    PreviousNext

    तांदुला गंगरेल लिंक योजना पर काम जल्द

    Published: Sat, 20 May 2017 12:07 AM (IST) | Updated: Sat, 20 May 2017 12:07 AM (IST)
    By: Editorial Team

    बालोद। प्रदेश के तीन जिले बालोद, दुर्ग, बेमेतरा की 34 लाख आबादी की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए तांदुला गंगरेल लिंक नहर परियोजना का क्रियान्वयन जल्द होने के आसार हैं। इसके लिए विभाग की उधा स्तरीय टीम निरीक्षण के लिए बालोद आने वाली है। इसके बादतांदुला लिंक नहर योजना पर काम शुरू होगा। जल संसाधन विभाग ने रविशंकर जलाशय गंगरेल को तांदुला जलाशय से लिंक नहर के जरिए जोड़ने का प्रस्ताव बनाया है। परंतु लगातार इसमें कई परेशानियां आई। पहले भी एक बार सर्वे किया जा चुका है। इसमें ढाई करोड़ खर्च हुए। 2012 से अटके इस परियोजना पर सभी केंद्र से लेकर अब राज्य और जिले के अधिकारी जनप्रतिनिधियों ने सक्रियता दिखाई है। जल संसाधन विभाग बालोद से मिली जानकारी के अनुसार परियोजना के बाद यह फाइल ठंडे बस्ते में चली गई थी। परंतु अब इस परियोजना के शुरू होने के आसार नजर आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि अब तक यह परियोजना बजट में शामिल नहीं हो पाई है। केंद्रीय स्तर के टीम इसकी जांच करेगी इस जिसके बाद कुछ कहा जा सकता है। उल्लेखीय है कि इस योजना को लेकर लगातार कवायद की जा रही है। सिंचाई विभाग का कहना है कि तीनों जिले को लाभ होगा।

    सवा लाख हेक्टेयर रकबा

    तीनों जिले बालोद दुर्ग बेमेतरा का सवा लाख हेक्टेयर रकबा सिंचाई के लिए तांदुला पर निर्भर है। जलाशय भरा रहेगा तो सिंचाई के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी उपलब्ध कराया जाएगा। किसानों के लिए ग्रीष्मकालीन फसल के लिए पानी उपलब्ध हो जाएगा।

    तालाबों में भी जाएगा

    गर्मी में ग्रामीण व शहरी क्षेत्र के एक हजार से अधिक निस्तारी तालाब तांदुला व उसके सहयोगी जलाशयों से भरे जाते हैं। बांध भरा रहेगा तो डिमांड के अनुसार निस्तारी तालाबों को भरने के लिए पानी दिया जाना आसान होगा। इसके अलावा बीएसपी सहित अन्य छोटे बड़े कारखानों को पानी देने में दि-त नहीं आएगी। तांदुला के माध्यम से बीएसपी को हर साल 4 हजार मिलियन घन फीट पानी दिया जाता है तांदुला में पानी कम होने पर बीएसपी के लिए गंगरेल से पानी मंगाना पड़ता है।

    गंगरेल का वेस्टेज पानी आएगा

    प्रस्तावित लिंक नहर परियोजना में गंगरेल बांध का 3 हजार मिलियन घन फीट वेस्टेज पानी तांदुला में लाया जाना है। इसके लिए 54 किलोमीटर लिंक नहर बनाने की योजना है। अच्छी बारिश होने पर गंगरेल बांध ओवरफ्लो होता है। जब भी ओवरफ्लो होता है पानी व्यर्थ बह जाता है। महानदी में छो़ेडे जाने वाले अतिरिक्त पानी लिंक नहर के जरिए तांदुला में पहुंचेगा।

    परियोजना पूरा कराने 354 करोड़ खर्च होंगे

    लिंक नहर परियोजना की लागत 354 करोड़ रुपए खर्च होगा। प्रक्रिया में देरी होने से परियोजना के क्रियान्वयन नहीं हो पा रहा है। लिंक नहर नदियों को जोड़ने वाली योजना की तरह ही है। तांदुला व गंगरेल बांध इस नहर के जरिए जुड़ जाएंगे। पहले परियोजना की प्रक्रिया व सर्वे की जिम्मेदारी पर खरखरा मेहंदीपाठ को सौंपी गई थी।

    'परियोजना को लेकर निरीक्षण के लिए उधा स्तरीय विभागीय टीम आने वाली है। इसके बाद ही कुछ कह पाएंगे।'

    -एसके जार्ज, जल संसाधन विभाग, बालोद

    और जानें :  # CG News # Balod News
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी