Naidunia
    Wednesday, September 20, 2017
    PreviousNext

    सरपंच ने जनपद पंचायत अध्यक्ष के पति पर लगाया कमीशनखोरी का आरोप

    Published: Thu, 18 May 2017 12:55 AM (IST) | Updated: Thu, 18 May 2017 12:55 AM (IST)
    By: Editorial Team

    तिल्दा-नेवरा। नईदुनिया न्यूज

    जनपद पंचायत तिल्दा के अंतर्गत ग्राम पंचायत छछानपहरी की सरपंच रमशीला यदु ने अपने खिलाफ पंचायत में पारित अविश्वास प्रस्ताव पर हाईकोर्ट ने स्थगन आदेश ले लिया। जिसके बाद सरपंच ने पुनः कार्यभार संभाल लिया। कार्यभार संभालते ही सरपंच ने जनपद पंचायत अध्यक्ष सुशीला मनहरे के पति वेदराम मनहरे पर कमीशनखोरी, सरपंच को धमकाने और षणयंत्र पूर्वक अविश्वास प्रस्ताव लाने का आरोप लगाया। मामले में जनपद पंचायत अध्यक्ष के पति वेदराम ने मामले की कोई जानकारी नहीं की बात कहते हुए कहा कि मेरी छवि खराब करने के लिए ऐसे आरोपी लगाए जा रहे है।

    गौरतलब है कि ग्राम पंचायत छछापहरी में निर्वाचित सरपंच समशिला यदु के खिलाफ पंचों ने 2 फरवरी 2017 को अविश्वास प्रस्ताव पेश कर पारित किया था। जिसके बाद से पंच तामेशवरी वर्मा कार्यकारी सरपंच बन गयी थी। मई माह में सरपंच ने बिलासपुर उधा न्यायालय से अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ स्टे आर्डर मिलने के बाद पुनः कार्यभार संभाल लिया है। कार्यभार संभालते ही फिर से सरपंच व पंचों के बीच तालमेल के आभाव में विवाद शुरू हो गया है। जिस पर बडा खुलासा करते हुए सरपंच ने जनपद अध्यक्ष के पति बेदराम मनहरे पर आरोप लगाया है कि अपनी पहुंच का धौंस दिखाकर पंचायत में होने वाले विकास कार्यों को स्वयं करने की मांग करते हैं। कार्य नहीं मिलने पर मोटी कमीशन की मांग करते हैं नही तो सरपंच का राजनीतिक जीवन समाप्त करने की धमकी देते हैं। सरपंच ने बताया कि अविश्वास प्रस्ताव से पहले जब गांव में 13 लाख 50 हजार की लागत से सीसी रोड निर्माण का कार्य चल रहा था तब बेदराम मनहरे ने कहा कि ये काम उसे दे दिया जाए। जब सरपंच ने ऐसा करने में समर्थता जताई तो कार्य की रकम में 40 प्रतिशत कमीशन की मांग बेदराम मनहरे ने की। जिससे इंकार करने पर बेदराम पंचायत के सभी पंचों को धुमाने ले जाने के बहाने अपने साथ ले गया और वहां उन्हें प्रभावित कर वापस आने पर सरपंच के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया गया था। सरपंच ने कहा कि अब पुनः प्रभार संभालने के बाद भी उन्हें परेशान किया जा रहा है। ग्राम पंच भी उक्त व्यक्ति के प्रभाव में आकर किसी भी प्रस्ताव को पास करने के लिए हस्ताक्षर की एवज में कमीशन की मांग करते हैं।

    मामले में बात करने कार्यकारी सरपंच रही तामेश्वरी वर्मा से फोन लगाया गया तो फोन उनके पति ने उठाया और उन्होंने सरपंच के खिलाफ अपना आक्रोश व्यक्त किया। वहीं जनपद पंचायत अध्यक्ष के पति बेदराम मनहरे कुछ भी जानकारी होने से साफ इंकार कर दिया और कहा कि उनकी छवि खराब करने की कोशिश की जा रही है।

    और जानें :  # balodabazar news # CG news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें