Naidunia
    Saturday, July 29, 2017
    PreviousNext

    पढ़ने के लिए नहीं अलग से कोई कमरा, फिर भी टॉपर

    Published: Fri, 21 Apr 2017 07:38 PM (IST) | Updated: Sat, 22 Apr 2017 11:19 AM (IST)
    By: Editorial Team
    vivek 2017421 20246 21 04 2017

    बालोद। इस बार छतीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल के दसवीं की परीक्षा में बालोद जिला के ग्राम भोइनापार के एक छात्र ने सफलता हासिल की है। इस छात्र ने लाटाबोड़ के प्रियदर्शिनी हायर सेकेण्डरी स्कूल में पढ़ाई कर 96.67 प्रतिशत अंक हासिल कर टॉपराें की सूची में प्रदेश में सातवें स्थान पाया है।

    सामान्य परिवार का यह छात्र प्रारंभ से ही मेधावी छात्रों की गिनती में रहा है। पिताजी गांव में सामान्य किसान हैं। 13 लोगों के परिवार में इस छात्र के पढ़ने के लिए न कोई अलग से कमरा है न कोई विशेष सुविधा फिर में दृढ़ इच्छा शक्ति ने इसे टॉपरों की श्रेणी में पहुंचा दिया।

    कहते हैं मन में सच्ची लगन हो तो मंजिल मिल ही जाती है। इस कहावत को चरितार्थ कर दिखाया है ग्राम भोइनापार के छात्र विवेक प्रकाश साहू ने जिसने सीमित साधन व गांव से दस किलोमीटर दूर लाटाबोड़ के एक स्कूल में अध्ययन करते हुए आज 96.67 प्रतिशत अंक हासिल कर प्रदेश के टॉपरों की सूची में सातवां स्थान प्राप्त किया है। विवेक पांचवीं व आठवीं में भी प्रथम श्रेणी में पास हुआ है। इनके पिता माखनलाल साहू गांव में खेती किसानी का काम करते हैं।

    साइकिल से हर रोज चार किमी का सफर

    विवेक प्रकाश अपने गांव से प्रतिदिन चार किलोमीटर की दूरी तय कर सुबह स्कूल जाता और शाम को घर लौट आता था। शाम को आते ही थोड़ी देर बाद पढ़ाई में जुट जाता था। विवेक के अनुसार वह पढ़ाई के लिए कोई विशेष टाइम टेबल नहीं बनाया था। पर सुबह चार बजे उठकर जरूर पढ़ता था। स्कूल को छोड़कर कुल लगभग सात से आठ घंटे पढ़ाई करता था।

    इंजीनियर बनने की तमन्ना

    बेहद सामान्य परिवार का यह होनहार छात्र प्रारंभ से ही मेधावी रहा है। स्कूल की पढ़ाई के अलावा इसने ट्यूशन या अन्य जगह पढ़ाई नहीं की। इनका परिवार संयुक्त परिवार है जहां वह अपने दादा, चाचा, चाची के अलावा मां पिताजी व बहनों के साथ रहता है। इनके धर में कुल 13 सदस्य हैं। अपने इस कामयाबी का श्रेय विवेक प्रकाश अपने माता पिता व स्कूल के गुरुजनों को देते हुए भविष्य में इंजीनियर बनना चाहता है।

    पूरे क्षेत्र में खुशी

    शुक्रवार को परीक्षा परिणाम की घोषणा के बाद प्रावीण्य सूची में स्थान बनाने की जानकारी मिलते ही समूचे क्षेत्र में खुशी की लहर दौड़ गई। विवेक प्रकाश के घर बधाई देने वालों का तांता लगा रहा। इस मौके पर घर पर मौजूद लोगों ने इस कामयाबी पर जमकर खुशियां मनाई। विवेक प्रकाश भाई उत्तम कुमार व बहन हेमलता साहू अपने भाई की इस कामयाबी पर बेहद खुश हैं। उन्हें अपने भाई पर पूरा भरोसा था कि उनका भाई बेहतर अंक प्राप्त कर परीक्षा उत्तीर्ण करेगा। इस दौरान अपने भाई की कामयाबी पर उनकी बहन की आंखों में खुशी के आंसू साफ दिखाई दिए।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी