Naidunia
    Wednesday, April 26, 2017
    PreviousNext

    बंकर बनाकर छिपाई शराब, पुलिस ने खोदकर निकाली 4 हजार पेटियां

    Published: Mon, 10 Apr 2017 12:52 AM (IST) | Updated: Mon, 10 Apr 2017 05:11 PM (IST)
    By: Editorial Team
    dig for wine 2017410 155523 10 04 2017

    भिलाई। सरकार द्वारा खुद शराब बेचने के फैसले के बाद माफियाओं ने हाथ से धंधा जाता देख बड़ी मात्रा में शराब छुपाने की कोशिश की। इसका खुलासा शनिवार को हुआ और रविवार को पुलिस ने दो और स्थानों पर जमीन में बंकर बनाकर छुपाई गई शराब बरामद करने में सफलता पा ली। कल और आज पक़ डी गई करीब चार हजार पेटी से ज्यादा शराब एक ही परिवार से ताल्लुक रखने वाले कारोबारियों की बताई जा रही हैं। हालांकि पुलिस अभी सिर्फ शराब बरामद करने में जुटी है। शराब के मालिकों के बारे में औपचारिक पुष्टि नहीं हो सकी है। बरामद की गई चार हजार से ज्यादा पेटी शराब की कीमत करीब दो करो़ ड से ज्यादा आंकी जा रही है।

    बीते दो दिन में जमीन से निकल रही शराब की पेटियों ने पुलिस और आम लोगों को सन्ना कर दिया है। शनिवार को पुलगांव थाना क्षेत्र के उरला-बेलौदी शिवनाथ एनीकट के पास स्थित स्नो वाइट बार के पीछे खेत में लोहे के कंटेनर का बंकर बनाकर रखी गई व निर्माणाधीन कमरों से भारी मात्रा में शराब बरामद की गई। छुपा कर रखी गई शराब को बरामद करने के लिए वहां पूरी रात खुदाई चली और दूसरे दिन तक की स्थिति में 2000 पेटी से ज्यादा शराब बरामद की जा चुकी थी। बार के पीछे जिस खेत से शराब बरामद की गई थी, वह पूरी जमीन एक ही चक का हिस्सा है। करीब 30 एक़ ड के क्षेत्रफल में फैले खेत में बार के ठीक पीछे जमीन में दबे लोहे के दो कंटेनर से शराब बरामद की गई। इसके बाद बार के दाहिने तरफ निर्माणाधीन मकान और अंत में जमीन में गाड़ी गई शराब की पेटियों को निकाला गया।

    बार के पीछे जमीन पर चार ऊंचे टीलानुमा स्थान दिख रहे हैं और पुलिस ने वहां की खुदाई शुरू कराई है। वहां से 500 पेटी से ज्यादा शराब बरामद होने की संभावना है। जमीन के भीतर जिस कंटेनर को दबाकर उसमें शराब छिपाई गई थी, वह भी खास तरह से बनवाया गया था। अमूमन इस तरह के कंटेनर से मिलता जुलता कंटेनर ट्रैक्टर ट्रॉली के टैंकर के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन जमीन से निकले कंटेनर का आकार काफी ब़ डा है। अंदाजा लगाया जा रहा है कि इसे विशेष ऑर्डर के तहत बनवाया गया होगा।

    गिट्टी खदान में भी दफन थी शराब

    रविवार की दोपहर उतई थाना क्षेत्र के सेलूद की गिट्टी खदान के पास की जमीन ने भी शराब की पेटियां उगली। करीब 12 एक़ ड की जमीन की खुदाई करने पर पुलिस को भारी मात्रा में शराब मिली। शाम तक हुई खुदाई में 500 पेटी से ज्यादा शराब बरामद की गई। आशंका जताई जा रही है कि वहां पर भी 2000 पेटी से ज्यादा शराब जमीन में दबा कर रखी गई है। पुलिस ने जेसीबी और मजदूरों की मदद से शराब निकालने का काम शुरू किया है।

    उरला में एक और जगह मिली शराब

    उरला में ही एक और स्थान पर पुलिस ने 190 पेटी गोवा शराब और 238 पेटी बीयर जब्त की है। उरला रेलवे फाटक के पास राम मैरिज पैलेस के पास एक कमरे में शराब और बीयर की 428 पेटियां रखी हुई थीं। मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने शराब को जब्त किया है। जिस स्थान पर शराब मिली है, वह स्नो वाइट बार से करीब 3 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। पुलिस मकान के मालिक के बारे में जानकारी जुटा रही है।

    महीने भर में ही छिपाई गई शराब

    सूत्रों के मुताबिक बरामद की जा रही शराब को महीने भर के भीतर ही छिपाया गया है। शराब दुकानों के बंद होने की सुगबुगाहट होते ही ठेकेदारों ने ठेके की दारू को दबा लिया। ठेका खत्म होने पर बची शराब को आबकारी विभाग को वापस सरेंडर करना होता है, लेकिन ऐसा करने से ठेकेदारों को कोई फायदा नहीं होता। इसलिए दुकानों की बची शराब को माफियाओं ने अपने ठिकानों पर छिपा दिया। ताकी उसे बाद में बेचकर कमाई की जा सके। जब्त की गई शराब में अधिकांश शराब की पैकिंग दिसंबर 2016 और जनवरी 2017 के बाद की है।

    एक ही परिवार के लोग है शराब के मालिक

    बताया जा रहा है कि स्नो वाइट बार और खेत दुर्ग की राजकुमारी सिंह के नाम पर पंजीकृत है। वहीं बार का संचालक राजेश सिंह उर्फ राजेश बिहारी है। उरला में राम मैरिज पैलेस के पास मिली शराब भी राजेश बिहारी और उसके भाई का नाम चर्चा में है। वहीं सेलूद में जिस गिट्टी खदान से शराब बरामद की गई है, वह संजय बिहारी की है। हालांकि बरामद शराब किसने छुपाई इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी