Naidunia
    Thursday, November 23, 2017
    PreviousNext

    नड्डा, सलोनी और मिक्चर बनाकर ऐसे कमा रहे लाखों रुपए

    Published: Tue, 12 Sep 2017 03:49 AM (IST) | Updated: Tue, 12 Sep 2017 01:48 PM (IST)
    By: Editorial Team
    saloni 2017912 13416 12 09 2017

    बीजापुर। मजदूरी कर जीवनयापन करने वाली महिलाओं का जीवन संवारने में दीनदयाल अंत्योदय योजना व राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन महती भूमिका निभा रहे हैं। नगर की 13 महिलाओं ने जिनका घर- परिवार मजदूरी की बदौलत चलता था, उन्हें नगर पालिका ने शासन की योजनाओं से जोड़कर नई दिशा दी है।

    इन महिलाओं को एकत्रित कर एकता महिला स्व-सहायता समूह का गठन कर न्यूनतम ब्याज पर ऋण देकर व्यवसाय प्रारंभ करने प्रेरित किया गया है। 2 सितम्बर 2015 को दीनदयाल अंत्योदय योजना व राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के अंतर्गत एकता स्व-सहायता समूह का गठन किया गया था।

    समूह गठन से पूर्व इनके परिवारों का मुख्य व्यवसाय मजदूरी रहा है जिसके चलते परिवार का भरण पोषण काफी कठिन हुआ करता था। समूह गठन के माध्यम से महिलाओं ने प्रारंभ में छोटी छोटी बचत प्रारंभ कर बचत राशि को आपस में जरूरत के अनुसार न्यूनतम ब्याज दर पर बांटा।

    इस तरह कुछ समय में समूह के पास स्वयं की बचत राशि एवं ब्याज की राशि एकत्रित हो गई। समूह की क्रियाशीलता को देखते हुए नगर पालिका ने दीनदयाल अंत्योदय योजना व राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के माध्यम से समूह को प्रोत्साहित करने के लिए 10 हजार रूपए प्रदान किया।

    इस आवर्ती निधि से समूह के सदस्यों ने नड्डा, सलोनी व मिक्चर जैसे खाद्य सामग्री बनाना प्रारंभ कर आसपास के हाट बाजार के साथ गंगालूर, चेरपाल, आवापल्ली, बासागुडा, नैमेड, कुटरू आदि स्थानों पर स्थानीय दुकानों में विक्रय करना प्रारंभ किया।

    व्यवसाय को बढ़ाने के लिए समूह ने बैंक से दो लाख रूपये का ऋण लेने पालिका के माध्यम से आवेदन किया। समूह सदस्यों को खाद्य लाइसेंस व खाद्य सामग्री के निर्माण में सुविधाजनक स्थिति हेतु उज्जवला योजना अंतर्गत गैस कनेक्शन, मास्क ग्लव्स प्राप्त करने मे सहयोग किया गया।

    समूह को खाद्य सामग्री की पैकिंग एवम रख रखाव के लए प्रशिक्षित कर सुविधाजनक व्यवस्था की गई। समूह ने अपना व्यवसाय इतना बढ़ा लिया कि रोजाना 10 हजार रूपए का कारोबार होने लगा।

    महीने भर का कारोबार लगभग 3 लाख रूपये के आस-पास होने से महिलाओं को आधी राशि आमदनी के रूप मे मिलने लगी। इस तरह 13 सदस्यों वाले समूह की हर महिला की आमदनी वर्तमान में लगभग 8 से 10 हजार हो गई है जो अन्य महिलाओं के लिए प्रेरणा का काम कर रही है।

    वाहन व दुकान की मिलेगी सुविधा : सीएमओ

    एकता समूह की सफलता बताते सीएमओ नगर पालिका मोबिन अली ने कहा कि दीनदयाल अंत्योदय योजना व राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन की भूमिका महिला समूह के लिए प्रभावशाली साबित हो रही है। समूह का कार्य काफी सराहनीय है। इनके व्यवसाय को बढ़ाने भारतीय स्टेट बैंक से महिंद्रा पिकअप तथा नया बस स्टैण्ड निर्माणाधीन कॉम्प्लेक्स में दुकान भी आबंटित किया जा रहा है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें