Naidunia
    Tuesday, June 27, 2017
    PreviousNext

    'युगपुरुष' में दिखा मोहनदास से कैसे महात्मा बने गांधी

    Published: Tue, 21 Mar 2017 08:08 AM (IST) | Updated: Tue, 21 Mar 2017 08:08 AM (IST)
    By: Editorial Team

    बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

    भारतीय जैन संगठना की ओर से सोमवार को लखीराम स्मृति सभागार में युगपुरुष नाटिका की प्रस्तुति दी गई। इसमें कलाकारों ने मोहनदास जैसे आम आदमी के महात्मा गांधी बनने तक के सफर को दिखाया गया। नाटिका में गांधीजी के सत्य व अहिंसा के सिद्धांत और उनके जीवन चरित्र को भी प्रभावी ढंग से पेश किया गया।

    मंचन के दौरान इस नाटक में महात्मा गांधी की मान्यताओं को गढ़ने वाले श्रीमद् राजचंद्र के सिद्घांतों और अहिंसा व सत्य के भाव को भी दिखाया गया। पहले राष्ट्रगान गाया गया। इसके बाद महात्मा के महात्मा का सफर शुरू हुआ। नाटक की शुरुआत मोहनदास के बैरिस्टर बनकर विदेश से स्वदेश लौटने के साथ हुई। वे स्वदेश आते हैं और उनकी मुलाकात श्रीमद् राजचंद्र से होती है। उनके सिद्घांतों का असर धीरे-धीरे मोहनदास में गहरा होने लगता है और उनकी महात्मा बनने की यात्रा की शुरुआत भी होने लगती है। नाटक में महात्मा गांधी और उनके आध्यात्मिक मार्गदर्शक कवि-दार्शनिक श्रीमद्रायचंद्र के बीच के गहरे संबंधों को भी पेश किया गया। इसमें बताया गया कि उनके प्रभाव से ही महात्मा गांधी राष्ट्रपिता बने। पूरा नाटक फ्लेशबैक में चलता है। जहां महात्मा गांधी अपने साथियों और अनुयायियों को अपनी जीवन गाथा का विस्तार करते हुए अपने महात्मा बनने के सफर को बताते हैं। वे श्रीमद्रायचंद्र के जीवन की घटनाओं और उनके ज्ञान से प्रभावित होते हैं। फिर अपने में बदलाव महसूस करते हैं। इस अवसर पर बड़ी संख्या में दर्शकों की उपस्थित रही। आयोजन को सफल बनाने में अमरेश जैन, रितेश जैन, प्रवीण कोचर, प्रमोद बरडिया, प्रवीण गोलछा, संदीप दुग्गड़, तुषार मेहता सहित बड़ी संख्या में भारतीय जैन संगठना और सकल जैन समाज का सहयोग रहा।

    0 बताई गुरुगाथा

    नाटक की शुरुआत में श्रीमद् रायचंद्र और गुरु राकेश भाई के आध्यात्मिक यात्रा को विस्तार से बताया गया। इसके साथ ही श्रीमद् रायचंद की बुद्घि कुशलता और उनके सेवाभावों को प्रस्तुत किया गया।

    बाक्स

    0 सहयोग राशि से बनेगा अस्पताल

    नाटक का प्रमुख उद्देश्य श्रीमद् रायचंद्र के सिद्घांतों का प्रसार और दक्षिण गुजरात में मानव सेवा के उद्देश्य से 200 बिस्तरों के मल्टी-स्पेशलिटी चैरिटी अस्पताल का निर्माण करना है। नाटक के माध्यम से मिलने वाली सहयोग राशि से उसकी नींव रखी जाएगी।

    और जानें :  # yug purush
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी