Naidunia
    Thursday, November 23, 2017
    PreviousNext

    बिना ईंट चार मंजिला इमारत बनाएगा निगम

    Published: Sat, 22 Apr 2017 03:58 AM (IST) | Updated: Sat, 22 Apr 2017 03:58 AM (IST)
    By: Editorial Team

    बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

    शहर के अशोक नगर की 15 एकड़ जमीन पर केंद्र सरकार की हाउसिंग फॉर आल योजना के तहत जिले की पहली कॉलोनी बनने जा रही है। इसमें बनने वाली इमारतें 4 मंजिल की होंगी। वहीं किसी भी में ईंट का इस्तेमाल नहीं होगा। स्लैब से लेकर दीवार तक सभी कांक्रीट की होंगी। इससे इमारत सामान्य से दुगुनी मजबूत रहेंगी।

    हाउसिंग फॉर ऑल योजना के तहत दो प्रोजेक्ट अशोक नगर और नूतन चौक को मंजूरी मिली है। अशोक नगर में भवन बनाने का काम पहले शुरू हो रहा है। इसमें बनने वाली इमारतें अपने निर्माणगत विशेषताओं के कारण बनने से पहले ही चर्चा में है। खास बात यह है कि निर्माण के दौरान ठेकेदार कंपनी एक भी ईंट का उपयोग नहीं करेगी। बिना ईंट के बनने वाली यह जिले की पहली इमारत होगी। आम घरों में दीवार ईंट से ही तैयार होती है। जबकि इस भवन में दीवार भी कांक्रीट की होगी। ठेकेदार पहले बिंब तैयार करेगा। इसके बाद उसके ऊपर सेंट्रिंग तैयार कर उसमें ढलाई करके दीवार खड़ी करेगा। इस नई तकनीक को मोनोलेथिक पद्धति कहा जा रहा है। दीवार भी पूरी तरह कांक्रीट का होने से इसे आम मकानों की तुलना में बहुत ज्यादा मजबूत होने का दावा किया जा रहा है। निगम के पिछले निर्माण कार्यों में आम गरीबों के मकान या फ्लैट के लिए जहां 3.50 लाख रुपए तक खर्च हुए हैं, तो इसमें 5.75 लाख रुपए प्रति फ्लैट खर्च आएगा। इसे बनाने के लिए भी विशेषज्ञों की मदद ली जा रही है। पूरी इमारत कंसलटेंट पिल्लेवार एसोसिएट के मार्गदर्शन में बनेगी। ठेकेदार कंपनी बीएसबीके ने अशोक नगर में काम शुरू करने के लिए अपनी साइट ऑफिस तैयार कर ली है और निर्माण शुरू करने वाला है।

    1 बीएचके का होगा फ्लैट

    इमारत में तैयार होने वाले एक फ्लैट का क्षेत्रफल 320 वर्गफीट होगा। इसमें 1 कमरा,1 हॉल, रसोईघर और शौचालय होगा। इसके निर्माण में 5.75 लाख रुपए खर्च होंगे। गरीबों को इसे 60 हजार रुपए में दिया जाएगा। इससे पहले आईएचएसडीपी योजना के तहत भी गरीबों को फ्लैट दिए जा रहे थे। उनमें फ्लैट का क्षेत्रफल 270 से 290 वर्गफीट तक था।

    निगम की मॉनिटरिंग, कंसलटेंट कराएगा काम

    बिना ईंट के मकान बनाने का जिले में यह पहला प्रयोग है। इससे पहले निगम के इंजीनियरों ने इस तरह के मकानों का निर्माण नहीं कराया है। इसे देखते हुए निर्माण कंसलटेंट की देखरेख में ही होगा। निगम के इंजीनियर बस काम की मानिटरिंग करेंगे।

    आवासहीनों को ही मिलेंगे

    योजना के तहत फ्लैट ऐसे लोग ही ले पाएंगे, जिनके नाम पर देश में कहीं भी मकान नही है। इसमें किराएदार, झुग्गी में रहने वाले और आम लोग भी सीधे ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। लोक सेवा केंद्र के जरिए इसके लिए ऑनलाइन आवेदन किए रहे हैं। इसमें किराएदारी एग्रीमेंट, कहीं मकान नहीं होने का शपथ पत्र, स्थानीय निवासी होने का प्रमाण पत्र, 3 लाख से कम आयवर्ग का होने का सर्टिफिकेट आदि आवेदन के साथ ऑनलाइन जमा करना होगा।

    ऐसे होगा निर्माण

    योजना हाउसिंग फॉर आल

    स्थल अशोक नगर

    फ्लैट तैयार होंगे 1232

    ठेकेदार बीएसबीके भिलाई

    कंसलटेंट पिल्लेवार कंसलटेंट

    लागत प्रति फ्लैट 5.75 लाख

    प्रति फ्लैट क्षेत्रफल 320 वर्गफीट

    कुल जगह 15 एकड़

    हितग्राही अंशदान 60 हजार

    मकान तैयार होंगे 18 माह

    अशोक नगर में हाउसिंग फॉर आल योजना के तहत बनने वाली इमारतों में ईंट का उपयोग नहीं होगा। उसकी जगह कांक्रीट की ढलाई होगी। यह आम भवन से कहीं ज्यादा मजबूत होंगे। जिले में इस तरह का यह पहला प्रयोग है।

    पीके पंचायती

    प्रोजेक्ट प्रभारी, हाउसिंग फॉर ऑल योजना

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें