Naidunia
    Sunday, July 23, 2017
    PreviousNext

    छात्र 14 किमी में एक नाला तीन बार पार करें, तब पहुंचते हैं स्कूल

    Published: Tue, 18 Jul 2017 08:15 AM (IST) | Updated: Tue, 18 Jul 2017 10:01 AM (IST)
    By: Editorial Team
    student river 2017718 10023 18 07 2017

    कांकेर। स्कूल जाने के लिए रोजाना जान जोखिम में डालकर छात्र एक ही नाले को तीन बार पार करते हैं। साथ ही 14 किलोमीटर की दूरी तय कर स्कूल जाते हैं। ग्रामीणों ने नाले में कई बार पुल निर्माण कराने की मांग की, लेकिन अब तक नाले पर पुल का निर्माण नहीं हुआ है।

    बारिश के दिनों में जल स्तर बढ़ जाने पर छात्र स्कूल भी नहीं जा पाते। रोजाना जान जोखिम में डालकर स्कूल जाने से चिंतित ग्रामीणों ने अब गांव में स्कूली छात्रों के लिए छात्रावास निर्माण की मांग की है।

    भानुप्रतापपुर क्षेत्र के ग्राम परवी के ग्रामीणों ने जिला कार्यालय पहुंचकर गांव में स्कूली बच्चों के लिए छात्रावास खोले जाने की मांग की है। ग्रामीणों ने बताया कि गांव में हाई स्कूल व पूर्व माध्यमिक शाला संचालित है। उत्तर माध्यमिक विद्यालय में 82 व पूर्व माध्यमिक शाला में 80 छात्र-छात्राएं अध्ययनरत हैं।

    स्कूल में ग्राम परवी के साथ ही ग्राम खोरा, खड़का, भुरका, जलहूर सहित आसपास के गांव से बच्चे पढ़ने के लिए आते हैं, जिन्हें स्कूल तक पहुंचने के लिए 12 से 14 किलो मीटर की दूरी तय करनी होती है। साथ ही ग्राम परवी तक पहुंचने वाले मार्ग पर मंगहरी नाला है, जो रास्ते में तीन बार पड़ता है।

    इस नाले में पुल निर्माण की कई बार मांग की जा चुकी है, लेकिन अब तक पुल का निर्माण नहीं हुआ है। परवी में पढ़ने आने वाले विद्यार्थियों को रोजाना तीन बार इस नाले को पार करना पड़ता है। बारिश के दिनों में नाले पार करने में स्कूली छात्रों के लिए जान का जोखिम बना रहता है।

    बारिश में अक्सर जल स्तर अधिक होने पर कई दिनों तक छात्र स्कूल भी नहीं जा पाते, जिससे उनकी पढ़ाई भी प्रभावित होती है। उक्त समस्या से परेशान ग्रामीण जिला कार्यालय पहुंचे और उन्होंने ग्राम परवी में ही बालक व बालिकाओं के लिए छात्रावास बनाने की मांग की।

    ग्रामीणों ने कहा कि गांव में छात्रावास का निर्माण होने से बच्चों को रोजाना न तो लंबी दूरी तय करनी होगी और न ही जान जोखिम में डालकर नाला पार करना होगा। इस दौरान ग्रामीण बृजलाल उइके, श्रवण कुमार ध्रुव, राधेराम मंडावी, धनसिंह, श्यामलाल, जमाल सिंह, अजीतराम, बज्जूराम आदि मौजूद थे।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी