Naidunia
    Saturday, June 24, 2017
    PreviousNext

    11 महीने से नहीं मिली पेंशन, नाराज बुजुर्गों ने की नारेबाजी

    Published: Sat, 11 Mar 2017 01:05 AM (IST) | Updated: Sun, 12 Mar 2017 04:01 PM (IST)
    By: Editorial Team
    pension 2017312 16114 11 03 2017

    धमतरी। नगर निगम क्षेत्र के हजारों पेंशनधारियों को समय से पेंशन नहीं मिल रही है। इससे नाराज पेंशनधारी बुजुर्गों ने शुक्रवार को निगम के पेंशन शाखा में पहुंचकर नारेबाजी की। बुजुगोर् का कहना था कि उन्हें समय से पेंशन नहीं मिल रही। इससे जीवन निर्वाह में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है।

    शासन द्वारा बुजुर्गों और बेसहारा लोगों को जीवन निर्वाह के लिए सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना, सुखद सहारा पेंशन योजना, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्घावस्था पेंशन योजना, विधवा पेंशन योजना, विकलांग पेंशन योजना के तहत प्रति महीने सहायता राशि दी जाती है। बीते कुछ माह से समय पर पेंशन नहीं मिल रही है। इससे बुजुर्ग खासे परेशान हैं।

    त्यौहार नजदीक होने के चलते सभी को पैसे की दरकार है। शुक्रवार को अलग-अलग वार्डों से बड़ी तादाद में बुजुर्ग पेंशनधारी निगम पहुंचे। पेंशन शाखा में पेंशन शाखा प्रभारी के अवकाश में होने से बुजुर्ग और आक्रोशित हो गए। अपनी शिकायत लेकर जब बुजुर्ग निगम महापौर अर्चना चौबे और निगम सभापति राजेन्द्र शर्मा के कार्यालय पहुंचे तो वे भी उन्हें नहीं मिले। अन्य कर्मचारियों ने बताया कि आपका पैसा भेजा जा चुका है, बैंक में जाकर पता करें तो बुजुर्ग उखड़ गए।

    पेंशनधारियों ने मायूस होकर बताया कि बैंक में कहा जाता है कि उनके खाते में पैसा ही नहीं आया है। हर महीने इसी तरह की परेशानी होती है। कभी दो महीने तो कभी एक महीने का पैसा दिया जाता है। नियमित रूप से पैसा नहीं मिलता। जोधापुर वार्ड की दशमत बाई सिन्हा, गोकुलपुर वार्ड की बैसाखिन बाई व तेजीनबाई साहू, गोकुलपुर, महिमा सागर वार्ड की बासन बाई, सकिना बाई, कुम्हार पारा की जानकी कुंभकार व अन्य बुजुर्गों ने बताया कि उन्हें 5 माह से पेंशन नहीं मिली है।

    अब तक 3 से 6 बार निगम व बैंक का चक्कर लगा चुके हैं। पिछली बार दीपावली पर्व के समय पैसा मिला था, उसके बाद से अब तक पेंशन नहीं मिली है। दानीटोला वार्ड की वृद्घा निराशा बाई को बीते 11 माह से पेंशन नहीं मिल पाई है। उसने बताया कि वह सालभर में कई बार निगम और बैंक का चक्कर लगा चुकी है। कभी बैंक तो कभी निगम से पैसा नहीं डाले जाने की बात सुनकर वह निराश हो जाती है। इसी वार्ड के कार्तिकराम साहू, खोरबाहरिन बाई साहू, महिमा सागर वार्ड की सुशीला बाई ने भी कही। निराश बाई की तरह कई और बुजुर्ग हैं, जिन्हें महीनों से पेंशन नहीं मिल पाई है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी