Naidunia
    Sunday, December 4, 2016
    PreviousNext

    कर्मचारी ने हेराफेरी कर वसूली के 10 लाख रुपए दबाए और हो गया गायब

    Published: Fri, 02 Dec 2016 04:00 AM (IST) | Updated: Fri, 02 Dec 2016 04:00 AM (IST)
    By: Editorial Team

    बिलासपुर। नईदुनिया न्यूज

    तिफरा ओवरब्रिज स्थित टाटा कैपिटल फाइनेंस कंपनी के कर्मचारी ने फ्रेंचाइजी लेने वाले पार्टनर को धोखे में रखकर वसूली के 10 लाख रुपए की हेराफेरी की। फिर मामला उजागर होने पर रकम लेकर गायब हो गया। रिपोर्ट पर पुलिस ने उसके खिलाफ गबन व धोखाधड़ी का अपराध दर्ज कर लिया है।

    जानकारी के अनुसार घटना सिरगिट्टी थाना क्षेत्र की है। तिफरा ओवरब्रिज के पास टाटा कैपिटल फाइनेंस सर्विसेज लिमिटेड कंपनी का ऑफिस है। फाइनेंस कंपनी की फ्रेंचाइजी फास्टट्रेक सर्विस के पार्टनर व भिलाई शिवाजी नगर निवासी वीजी चांडी (43) ने ली है। उन्होंने यहां तिफरा स्थित ऑफिस में न्यू लोको कॉलोनी निवासी अहमद शाहनवाज रजा पिता अब्दुल नइम को वसूली एजेंट के रूप में रखा था। वह 2007 से काम कर रहा था। इस बीच उसने कंपनी का भरोसा जीत लिया था। बीते 22 जून से उसने गड़बड़ी करना शुरू किया। वह बिलासपुर सहित आसपास के ग्राहकों से रकम वसूली करता था। ग्राहकों के रजिस्टर में वह वास्तविक रकम लिख देता था। वहीं अपने पास रखे रजिस्टर में हेराफेरी कर वसूली गई रकम में कटौती कर देता। इस तरह से धीरे-धीरे कर सितंबर माह तक उसने 10 लाख रुपए गबन कर लिया। कंपनी ने कुछ ग्राहकों से संपर्क किया, तब उन्होंने रकम देने की जानकारी दी और एजेंट द्वारा दिए गए रसीद दिखाए तो उनके होश उड़ गए। कंपनी के मैनेजर व एकाउंटेंट ने कार्यालयीन स्तर पर जांच की, तब पता चला कि अहमद शाहनवाज करीब 10 लाख रुपए गबन कर चुका है। इस गड़बड़ी का खुलासा होने के बाद वह काम छोड़कर चंपत हो गया। लिहाजा, वीजी चांडी ने इस मामले की शिकायत सिरगिट्टी थाने में दर्ज कराई। उसकी रिपोर्ट पर पुलिस ने जांच के बाद आरोपी अहमद शाहनवाज के खिलाफ धारा 406, 467, 468, 471, 420 के तहत अपराध दर्ज कर लिया है।

    भरोसे में लेकर करता रहा गबन व धोखाधड़ी

    पुलिस ने वीजी चांडी का बयान दर्ज किया, तब पता चला कि आरोपी अहमद शाहनवाज ने पहले कंपनी को भरोसे में लिया। फिर वह ग्राहकों से रकम वसूली कर उन्हें बकायदा रसीद देता रहा। लेकिन, वह कंपनी के रजिस्टर सहित अन्य दस्तावेजों में वसूली गई रकम को कम दर्ज करने लगा। इस पर कंपनी ने भी ध्यान नहीं दिया। लेकिन, जब ग्राहकों से संपर्क किया गया और उन्होंने रसीद दिखाई तब आशंका हुई। फिर कंपनी में एंट्री की गई रकम से मिलान किया गया, तो गड़बड़ी का खुलासा हुआ। मामला उजागर होने के बाद उन्होंने इसकी शिकायत की।

    आरोपी को पकड़ने टीम रवाना

    सिरगिट्टी टीआई राहुल तिवारी ने बताया कि इस मामले में गबन व धोखाधड़ी का अपराध दर्ज किया गया है। युवक ने दस्तावेजों में हेराफेरी कर धोखाधड़ी की है। पुलिस उसके मोबाइल नंबर के आधार पर पतासाजी कर रही है। उसे पकड़ने के लिए टीम रवाना किया गया है। उम्मीद है कि वह जल्द ही पुलिस गिरफ्त में होगा।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी