Naidunia
    Tuesday, November 21, 2017
    PreviousNext

    डॉक्टरों के मनमाने रवैये मरीज हो रहे परेशान

    Published: Sat, 20 May 2017 01:12 AM (IST) | Updated: Sat, 20 May 2017 01:12 AM (IST)
    By: Editorial Team

    जांजगीर-चांपा। नईदुनिया न्यूज। जिला अस्पताल में पहुंचे मरीजों की परेशानी रूकने के नाम नहीं ले रही है। यहां पहुंचे मरीजों को डॉक्टरों की मनमाने रवैये के चलते बिना उपचार के बैरंग लौटना पड़ रहा है। जिला अस्पताल में आपात कालीन सेवा चरमरा गई है। यहां पहुंचे मरीज सुबह से घण्टों बैठकर डॉक्टर का इंतजार करते रहे, लेकिन आपातकाल में सेवा के लिए पदस्थ डॉक्टर परिसर के नदारत रहे। पर्याप्त स्टापᆬ व संसाधन होने के बावजूद जिला अस्पताल में आपातकालीन सेवा वार्डबॉय व नर्सो की सहारे संचालित हो रही है। इसके चलते पुलिसकर्मी भी आरोपी व शिकायतों की मुलाहिजा के लिए पूरे दिन भर भटकते रहे।

    स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिले के मरीजों को स्वास्थ्य संबंधी सुविधा मुहैया कराने के लिए विगत 11 साल पूर्व करोड़ों रूपए की लागत से जिला अस्पताल भवन का निर्माण किया गया है, बावजूद इसके मरीजों को अस्पताल में बेहतर सुविधा नहीं मिल रही है। जिला अस्पताल में हर साल जिलेवासियों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा दिलाए जाने के लिए नए-नए संसाधनों की व्यवस्था की जा रही है, ताकि गरीब वर्ग के लोगों को अस्पताल में बेहतर स्वास्थ्य लाभ मिल सके, लेकिन अस्पताल में पदस्थ डॉक्टरों के मनमाने रवैये के चलते यहां पहुंचे मरीजों को उपचार के लिए भटकना पड़ रहा है। जिला अस्पताल में ओपीडी के साथ ही साथ आपात कालीन व्यवस्था चरमराई गई है। यहां पहुंचे मरीजों को उपचार के लिए भटकना पड़ रहा है। अस्पताल प्रबंधन द्वारा आपाल काल की स्थिति में पहुंचे मरीजों को चौबीस घण्टे स्वास्थ्य सुविधा दिलाए जाने के लिए दो शिफ्टों में डॉक्टरों की ड्यूटी लगाई जाती है, ताकि आपात काल की स्थिति में भी मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मिल सके, लेकिन यहां पदस्थ डॉक्टरों की मनमानी के चलते मरीजों को उपचार के लिए भटकना पड़ रहा है। शुक्रवार को सुबह 8 से शाम 8 बजे तक आपात काल में डॉ. पीएस कुर्रे की ड्यूटी लगाई गई थी, लेकिन डॉक्टर श्री कुर्रे द्वारा कुछ घण्टे सेवा देकर वापस लौट गए। ऐसे में आपात काल में पहुंचे मरीजों को नर्से व वार्डबाय के सहारे आपाल कालीन सेवा मरीजों को दी जा रही है। ऐसे में अस्पताल पहुंचे मरीजों को बेहतर उपचार के लिए निजी अस्पतालों का चक्कर काटना पड़ रहा है।

    मुलाहिजा कराने भटकते रहे पुलिसकर्मी

    आपात कालीन व्यवस्था के लिए अस्पताल प्रबंधन द्वारा डॉ पीएस कुर्रे की ड्यूटी लगाई गई थी, लेकिन डॉक्टर यहां घण्टो नदारत रहे। इसके चलते जांजगीर थाना से पहुंचे आरक्षक युवराज सिंह व नैला चौकी से पहुंचे भुवनेश्वर साहू को मुलाहिजा कराने के लिए घण्टों बैठकर डॉक्टर का इंतजार करना पड़ा।

    ओपीडी में उपचार के लिए करना पड़ रहा घण्टों इंतजार

    शासन द्वारा दूर-दराज से पहुंचे मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य लाभ दिलाए जाने के लिए ओपीडी में समय भी सुबह 8 से दोपहर 2 बजे तक किया गया है, ताकि शासकीय अस्पतालों में पहुंचे ग्रामीणों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मिल सके। लेकिन अस्पताल में पदस्थ डॉक्टरों को मनमान रवैया रूकने का नाम नहीं ले रहा है। यहां पदस्थ अधिकाशं डॉक्टर अस्पताल में बैठने के बजाए अधिकांश समय निजी क्लीनिकों में बैठते हैं, इसके चलते यहां पहुंचे मरीजों को उपचार के लिए घण्टों बैठकर डॉक्टरों का इंतजार करना पड़ रहा है।

    ''आज डॉ. कुर्रे की ड्यूटी आपाल काल में लगाई है। श्री कुर्रे सुबह अस्पताल में ड्यूटी पर पहुंचे थे, इसकी जानकारी मिली थी। पुलिसकर्मियों द्वारा डॉक्टर के कक्ष में न होने व मुलाहिजा नहीं होने की शिकायत लेकर पहुंचे थे। इस संबंध में जानकारी ली जाएगी।''

    डॉ. पीसी जैन

    सिविल सर्जन, जिला अस्पताल

    ---------------------------------------------------

    और जानें :  # manmaani se
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें