Naidunia
    Monday, October 23, 2017
    PreviousNext

    फिर लाचार हुआ अन्नदाता, सड़क पर फेंका 3 क्विंटल सीताफल

    Published: Fri, 13 Oct 2017 12:46 AM (IST) | Updated: Fri, 13 Oct 2017 02:35 PM (IST)
    By: Editorial Team
    sitafal 20171013 143119 13 10 2017

    कांकेर। विगत दो वर्षों से जिले में सीताफल उत्पादन के लिए जिला प्रशासन ने काफी प्रचार-प्रसार किया। अच्छे सीताफल की खरीदी और अन्य प्रदेशों में भेजे जाने की प्रशासनिक तैयारियां भी की गई थी। विगत वर्ष सीताफल खरीदी-बिक्री के सरकारी स्टाल भी लगाए गए थे।

    प्रशासन की इस पहल को देखकर लोग भी सीताफल के पेड़ लगाने, उपज बढ़ाने और इसे बड़े व्यापार के रूप में अपनाने की तैयारी कर चुके थे। इससे ऐसा लग रहा था कि सीताफल की उपज करने वाले कृषकों के दिन बहुर जाएंगे, लेकिन सड़क पर फेंके गए सीताफल को देख ऐसा लगा रहा है कि अब सीताफल उत्पादन करने वाले किसानों के सपनों पर पानी फिरना शुरू हो गया है।

    रविवार की शाम ग्राम कुम्हानखार जाने वाले मार्ग पर अज्ञात किसानों ने लगभग पौने तीन क्विंटल सीताफल सड़क पर फेंक दिया। जिससे यह माना जा रहा है कि इस वर्ष सीताफल उत्पादन करने वाले किसान नुकसान में हैं। हालांकि सड़क पर फेंके गए सीताफल अच्छे थे जिन्हें खुले बाजार में बेचा भी जा सकता था।

    इतनी बड़ी मात्रा में सीता फल कौन, कहां से लेकर आया और क्यों फेंक कर चला गया इसका पता नहीं चल पाया है। सीताफल रविवार शाम से सड़क के किनारे अभी तक पड़ा हुआ है। इसमें से 20 प्रतिशत सीताफल पका हुआ है बाकी 80 प्रतिशत कच्चा सीताफल है। आने जाने-वाले कई लोग इस सीताफल का स्वाद भी बड़े मजे से ले रहे हैं।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें