Naidunia
    Friday, July 21, 2017
    PreviousNext

    शहीद के परिजन को न अनुकंपा नियुक्ति मिली, न पेंशन

    Published: Fri, 19 May 2017 01:16 AM (IST) | Updated: Fri, 19 May 2017 04:50 PM (IST)
    By: Editorial Team
    martyr family 2017519 121630 19 05 2017

    कांकेर। मावलीपारा निवासी शहीद पुष्पराज नागवंशी के परिजनों को शहादत के एक वर्ष बीतने के बाद भी अनुकंपा नियुक्ति और पारिवारिक पेंशन का लाभ नहीं मिल पा रहा है। 14 जून 2016 को कोंडागांव और नारायणपुर जिले की संयुक्त सर्चिंग टीम की नक्सलियों से मुठभेड़ हुई थी।

    इस दौरान पुष्पराज नागवंशी को गोली लगी। 10 दिनों तक रायपुर के एक अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष करने के बाद पुष्पराज ने 23 जून को आखरी सांस ली।

    उन्हें शहीद हुए 11 माह बीत चुके पर आज तक उनके परिजनों को न तो अनुकंपा नियुक्ति का लाभ मिला और न ही पारिवारिक पेंशन मिलना शुरू हो पाया।

    चूंकि पुष्पराज अविवाहित थे इसलिए उनकी मां कुंती नागवंशी अपने पुत्र धनराज को अनुकंपा नौकरी दिलाना चाहती है। वह शैक्षणिक और शारीरिक मापदंडों में फिट भी है। मगर आज तक पुलिस प्रशासन की उपेक्षा के चलते वह निराश है।

    पुलिस विभाग को ही प्राथमिकता

    शहीद पुष्पराज के पिता स्व.रामसत्तू सिंह नागवंशी भी जिला पुलिस बल में अपनी सेवाएं देते रहे। उनकी आकस्मिक मौत हो गई। इसके बाद कुंती नागवंशी ने अपने पुत्र पुष्पराज को भी खो दिया। मगर अभी भी पुलिस प्रशासन से आस लगाए बैठी है कि उनका एक और बेटा धनराज पुलिस की नौकरी में जाए और देश की रक्षा करें। अनुकंपा नियुक्ति में काफी विलंब होने से नागवंशी परिवार मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से भी रायपुर जाकर फरियाद कर चुका है।

    निराकरण के प्रयास होंगे : डांगी

    इस संबंध में डीआईजी रतनलाल डांगी से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि पुष्पराज के मामले में क्यों विलंब हो रहा है, इसका पता करता हूं। यदि सारे दस्तावेज सही हैं तो अनुकंपा व अन्य मांगों के लिए शीघ्र प्रयास करूंगा।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी