Naidunia
    Sunday, October 22, 2017
    PreviousNext

    जेल में बंदियों को दी जमानत संबंधी जानकारी

    Published: Sat, 20 May 2017 07:34 AM (IST) | Updated: Sat, 20 May 2017 07:34 AM (IST)
    By: Editorial Team

    कांकेर। नईदुनिया प्रतिनिधि

    जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव अमृता ने जिला जेल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान विशेष से उन्होंने जेल में ऐसे बंदियों के संबंध में जानकारी ली, जिनके पास अधिवक्ता नहीं है। साथ ही जेल की व्यवस्था देखी और बंदियों से मिलकर उनकी समस्याएं भी सूनी। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से बंदियों को मिलने वाली सुविधाओं से भी अवगत कराया।

    शुक्रवार दोपहर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव श्रीमती अमृता जिला जेल के निरीक्षण के लिए पहुंची। जहां उन्होंने बैरखों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने जेल में बंद कैदियों से यह जानने का प्रयास किया कि जेल में ऐसा कोई कैदी तो निरुद्ध है, जिसके पास उसके प्रकरण के लिए अधिवक्ता नहीं है। उनके पूछे जाने पर बंदी मनीदास मानिकपुरी ने बताया कि उनके पास अधिवक्ता नहीं है। उन्हें 151 के तहत तहसीलदार न्यायालय से जेल भेजा गया था, लेकिन अब तक उनकी जमानत नहीं हो सकी है और पिछले कई दिनों से वे जेल में है। इसी प्रकार मोहम्मद असलम ने बताया कि उन्हें मारपीट के प्रकरण में जेल भेजा गया था, लेकिन वकील नहीं होने के कारण उन्हें जमानत नहीं मिली है। जिस पर उन्हें बताया गया कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से विधिवत आवेदन करने पर उनके लिए अधिवक्ता की व्यवस्था की जाएगी। साथ ही उन्होंने जेल में बंदियों की अन्य समस्याएं भी सुनी और उनका समाधान किया। अमृता ने बंदियों को बताया कि जिन बंदियों की जमानत हो चुकी है और आर्थिक अक्षमता के चलते उन्होंने अब तक जमानत पेश नहीं की है, ऐसे व्यक्ति न्यायालय में आवेदन कर सकते हैं। जेल में बंद ऐसे बंदी जिनका मामले में सजा से आधा समय जेल में काट चुके हैं, वह भी जमानत के लिए आवेदन कर सकते हैं। जिन बंदियों के पास अधिवक्ता नहीं है, वे अधिवक्ता की मांग को लेकर आवेदन कर सकते हैं और ऐसे आवेदक को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर अधिवक्ता प्रदान किया जाएगा, जिनका शुल्क विधिक सेवा प्राधिकरण वहन करेगा। उन्होंने कहा कि शीघ्र विचारण एक संवैधानिक अधिकार है। इस दौरान उप जेल अधीकक्ष एसपी भार्गव, अधिवक्ता सागर गुप्ता, श्री नाग आदि मौजूद थे।

    बाक्स

    कैदियों के संबंध में ली जानकारी

    जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव का पदभार ग्रहण करने के बाद जिला जेल का निरीक्षण करने पहुंची अमृता ने जिला जेल पहुंचकर, जेल में बंद कैदियों के संबंध में विस्तार से जानकारी ली। इस दौरान उन्होंने जेल में बने बैरखों, जेल में बंद पुरुष व महिला कैदियों की संख्या, उनको दी जा रही सुविधाओं, उनके हुनर विकास के लिए चलाई जा रही योजनाओं के संबंध में विस्तार से जानकारी ली। उप जेल अधीक्षक एसपी भार्गव ने बताया कि वर्तमान में जेल में 310 पुरुष बंदी व 23 महिला बंदी है। साथ ही उन्होंने बताया कि प्रत्येक सोमवार को कैदी परेड होती है, जिसमें बंदियों से पूछा जाता है कि उनके पास वकील हैं या नहीं। यह भी पूछा जाता है कि क्या वे अपना अपराध कबूल करना चाहते हैं। साथ ही उन्होंने अन्य जानकारी भी प्रदान की।

    --

    और जानें :  # CG News # Kanker News
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें