Naidunia
    Wednesday, July 26, 2017
    PreviousNext

    कार्यकर्ताओं के लिए खुले रखें दरवाजे, नहीं हो जाएंगे बाहर : रमन सिंह

    Published: Sat, 22 Apr 2017 04:03 AM (IST) | Updated: Sat, 22 Apr 2017 10:14 PM (IST)
    By: Editorial Team
    ramansingh 2017422 212951 22 04 2017

    रायगढ़। कार्यसमिति की बैठक में मुख्य मंत्री ने नेताओं को चताते हुए कहा कि कार्यकर्ताओं के लिए दरवाजे हमेशा खुला रखें किसी भी हालत में कार्यकर्ताओं की अनदेखी या अवहेलना न हो। इसे लेकर मुख्य मंत्री ने नेताओं को मर्यादा में रहने की सलाह देते हुए कार्यकर्ताओं को पूरा सम्मान देने की बात कही। उन्होंने कहा कि जो नेता कार्यकर्ताओं की नहीं सुनेंगे तो वे निश्चित तौर पर बाहर हो जाएंगे।

    कार्यसमिति के अंतिम दिवस चाहे राष्ट्रीय संगठन मंत्री हो या मुख्य मंत्री दोनों ही ने नेताओं को अपने कार्यकर्ताओं के लिए दरवाजा खुला रखने की बात कही। उन्होनें कहा कि ग्राम सुराज अभियान में जिस तरह से चिलचिलाती धूप एवं भीषण गर्मी में गांव-गांव घुम कर लोगों की समस्याओं का समाधान किया जा रहा है। इसी तरह से नेता भी मण्डल स्तर पर पहुंच कर कार्यकर्ताओं की सुनी और उनकी समस्याओं का समाधान करें।

    मुख्य मंत्री ने कार्यकर्ताओं की उपेक्षा करने वालों को चेतावनी भरे लहजे में कहा कि यदि वे कार्यकर्ताओं की नहीं सुनते हैं तो एक दिन कार्यकर्ता उन्हें अनसुना करते हुए बाहर का रास्ता दिखा देंगे। कार्यसमिति की बैठक को संबोधित करते हुए मुख्य मंत्री ने कहा कि बूथ हमारी मजबूती है यह कमजोर हो गई तो प्रधान मंत्री के 2022 का भारत कैसा हो का सपना पूरा नहीं हो सकेगा। इसके लिए सख्त लहजे में हिदायत देते हुए अगले माह से मंत्री, नेताओं, विधायक व जनप्रतिनिधियों को मैदान में उतर कर कार्यकर्ताओं की बैठक लेकर उनकी समस्याओं का समाधान करने की बात कही।

    योजनाओं का जमीनी स्तर पर करें प्रसार

    कार्यसमिति को संबोधित करते हुए सौदान सिंह ने कहा कि प्रधान मंत्री व मुख्य मंत्री की योजनाओं को लेकर मंत्री, नेता व विधायक गांव-गांव पहुंच कर चलने वाली 22 योजनाओं का व्यापक स्तर पर प्रचार प्रसार करें। अंत्योदय योजना का लाभ अंतिम पंक्ति में बैठे व्यक्ति को मिलना चाहिए इसकी जिम्मेदारी हम सब की है। उन्होंने संगठन व कार्यकर्ताओं की अहमियत पर बोलते हुए कहा कि बूथ हमारा मजबूत होगा तो हम पंचायत, राज्य व देश के चुनाव जीत कर 2022 के प्रधान मंत्री मोदी के सपने को पूरा करने में कामयाब हो सकेंगे। इसके लिए योजनाओं का प्रसार जमीनी स्तर पर करने की जरुरत है।

    शराब बंदी किसी के कहने पर नहीं

    आबकारी व नगरीय निकाय मंत्री अमर अग्रवाल ने शराब बंदी को लेकर स्पष्ट लहजे में कहा कि शराब बंदी किसी के कहने पर बंद नहीं होगी। हमें इसके दुरगामी परिणाम भी देखने की जरुरत है। हम शराब बंदी के लिए विभिन्न राज्यों जहां शराब बंदी लाई गई है वहां का व्यापक स्तर पर अध्ययन कर रहे हैं अध्ययन रिपोर्ट के अनुसार ही शराब बंदी पर कोई निर्णय लिया जा सकेगा।

    सकरात्मकता से मिलेगी सफलता

    सौदान सिंह ने कार्यसमिति को संबोधित करते हुए कहा कि सकारात्मक सोच ही सफलता की पहली सीढ़ी होती है। इसे हमें बनाकर रखना है। कार्यसमिति की बैठक मकं समग्र मार्गदर्शन विषय पर बोलते हुए सौदान सिंह ने कहा कि हम अपने पुरखों के त्याग की वजह से इतने मजबूत बने हैं कि हमें कोई परास्त नहीं कर सकता है लेकिन हमें बुथ स्तर पर और मजबूती से काम करने की जरुरत है। हमारी सरकार प्रदेश में बेहतर काम कर रही है जिसका बदलाव अब जनता के बीच देखने को भी मिलने लगा है। उन्होंने कहा कि दीनदयाल के दर्शन को घर-घर पहुंचाने की जरुरत है। वहीं मुख्य मंत्री रमन सिंह ने कहा कि बैक टू बूथ के संदेश के साथ हमें बूथ लेबल की ओर जाने की जरुरत है और अंतिम व्यक्ति तक योजना का लाभ पहुंचाना ही अंत्योदय की सफलता है।

    जीएसटी होगा सुखद अनुभव

    अमर अग्रवाल ने अपने संबोधन में जीएसटी विषय पर कहा कि जीएसटी लागू होने से देश में एक नई अर्थव्यवस्था का सूत्रपात होगा। जीएसटी के लागू होने में भले ही 13 साल का लंबा समय गुजर गया। तात्कालीन प्रधान मंत्री अटल बिहारी बाजपेयी ने इसकी नींव रखी और प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस सपने को पूरा किया है।हमें राजनैतिक भावनाओं से उपर उठकर जीएसटी का समर्थन करते हुए जन जन तक इसके फायदे को पहुंचाना है। मंत्री अमर अग्रवाल ने शराब बंदी केा लेकर बोलते हुए कहा कि हमने कोचिया राज बंद किया है जिसकी वजह से कुछ लोगों को काफी परेशानी हुई है और यही वजह है कि नई शराब नीति को लेकर लोगों के बीच अफवाह फैला रहे हैं।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी