Naidunia
    Saturday, November 18, 2017
    PreviousNext

    जिम्मेदारों की लापरवाही से गिरी निर्माणाधीन पानी टंकी

    Published: Sun, 17 Sep 2017 10:03 PM (IST) | Updated: Sun, 17 Sep 2017 10:03 PM (IST)
    By: Editorial Team

    पांडातराई। नईदुनिया न्यूज

    नगर को वर्षों बाद 34 हजार लीटर क्षमता वाली पानी टंकी की सौगात मिली थी, जिसका निर्माण पूर्ण होने से पहले ही भरभरा कर गिर गई। हालांकि इससे किसी के जान-माल का नुकसान नहीं हुआ है। लेकिन ठेकेदार व इंजीनियर की लापरवाही और निर्माण कार्य में चल रहे भ्रष्टाचार की पोल खुल गई है। स्थानीय सांसद अभिषेक सिंह व विधायक मोतीराम चंद्रवंशी ने बीते 26 फरवरी को इसका भूमिपूजन कर जनता को समर्पित किया था।

    घटना की यह है वजह

    पांडातराई के मजार सब्जी हटरी के पास जल आवर्धन योजना के तहत दो करोड़ छियानबे लाख रुपए की लागत से पानी टंकी व पाइप लाइन का विस्तारीकरण का निर्माण कार्य जारी है। इसकी गुणवत्ता पर शुरू से ही सवाल उठ रहे हैं। पानी टंकी का नीचे का कार्य लगभग पूर्ण किया जा चुका है। टंकी का स्लेब ढालने का कार्य पूरा हो गया था, लेकिन सही ढंग से सेंटरिंग नहीं बांधने व छड़ बंधाई नहीं होना के साथ-साथ छत ढ़लाई का मसाला अनुपातहीन था। इसके चलते पानी टंकी का छत भरभरा कर पूरी बांस बल्ली के साथ नीचे जमींदोज हो गया। हालांकि जिस समय यह घटना हुई, उस समय काम बंद हो गया था। अन्यथा मजदूरों को अपनी जान गंवानी भी पड़ सकती थी।

    पूर्व में भी गुणवत्ता को लेकर दिया था ज्ञापन

    इस निर्माण पर सवाल उठाते हुए कांग्रेसियों ने कलक्टर व नगर पंचायत को ज्ञापन भी दिया था। निर्माण कार्य में भ्रष्टाचार व लापवाही को लेकर कांगे्रस पार्षद सहित नगरवासियों ने नगर पंचायत का घेराव भी किया था। बावजूद इसके संबंधित विभाग ने ध्यान नहीं दिया और आखिर में पानी टंकी गिर गया। इसमें ठेकेदार, सब इंजीनियर व पीएचई विभाग के उधाअधिकारी की लापरवाही देखने को मिली।

    नगरवासियों ने लगाए कई आरोप

    नेता प्रतिपक्ष भीषण तिवारी, पार्षद संतोष गोयल, रीमा सीटू सलुजा, मुकेश गुप्ता, दाउराम पाटस्कर सहित नगरवासी किशोर पांडे, निरंजन गुप्ता, शिव बंजारे, प्रदीप जायसवाल ने बताया जिस तरह पानी टंकी का निर्माण कराया जा रहा है, उसमें गुणवत्ता का जरा भी ख्याल नहीं रखा गया। हालात यह है कि जिस इंजीनियर को कार्य का जिम्मा मिला है, वह घर में बैठकर काम देख रहे हैं। इस तरह निर्माण कार्य की पूरी तरह अनदेखी की जा रही है। लोगों ने जब पानी टंकी की निर्माण में गुणवत्ता को लेकर आवाज उठाई गई तब आवाज नहीं सुनी गई। वही नगरवासियों में इस हादसे के बाद निर्माण एजेंसी के प्रति नाराजगी देखी जा रही है और लापरवाह ठेकेदार व अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की शिकायत कलेक्टर, सांसद, विधायक से करने की तैयारी में हैं।

    और जानें :  # CG News # Kawardha News
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें