Naidunia
    Friday, November 24, 2017
    PreviousNext

    मधुमेह एक धीमी मौत हैःडॉ. ईपी चेलक

    Published: Wed, 15 Nov 2017 07:43 PM (IST) | Updated: Wed, 15 Nov 2017 07:43 PM (IST)
    By: Editorial Team

    फोटो 15 एमएसएमडी 17, 18

    फोटो कैप्शन-कार्यक्रम में उपस्थित प्राध्यापक एवं छात्र-छात्राएं ।

    महासमुंद । नईदुनिया न्यूज

    शासकीय महाप्रभु वल्लभाचार्य स्नातकोत्तर महाविद्यालय में विश्व मधुमेह दिवस पर जागरुकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि महाविद्यालय के प्रभारी प्राचार्य डॉ. अनसूया अग्रवाल रही। उन्होंने अपने उद्बोधन में विज्ञान, साहित्य और संस्कृति महत्व को बताई कि जीवन में अनुशासित रहे। कार्यक्रम का संचालन कर रहे वनस्पति शास्त्र विभाग में विभागाध्यक्ष डॉ. ईपी चेलक ने विश्व मधुमेह दिवस पर बताया कि इसे धीमी मौत भी कहा जाता है। क्योंकि रक्त में ग्लूकोश की मात्रा बढ़ जाती है। जिसके कारण आंतरिक अंगों को नुकसान होता है। विशिष्ट अतिथि के रूप में करुणा दुबे, विज्ञान संकाय प्रभारी द्वारा, मधुमेह दिवस पर इसके भौतिक कारणों एवं खान-पान को संतुलित करने की सलाह दी। सरस्वती सेठ, सहायक प्राध्यापक रसायन शास्त्र ने बताई कि मधुमेह तीन स्टेज होती है। टाईप एक, टाईप दो, टाईप तीन में टाईप एक सबसे घातक स्टेज होती है। लिहाजा नियमित रूप से स्वास्थ्य के प्रति सर्तक एवं जागरूक रहने की सलाह दी।

    कार्यक्रम में लोकेश सतपथी, प्रदीप कन्हेर, अतिथि व्याख्याता अंजन भोई, सिद्धार्थ तिवारी, एसआर मानकर, पीजी बंसा़ेड, जीएल चंद्राकर, डूलेश्वर ठाकुर, शेषनारायण, कृतिका नेताम, पूर्णिमा साहू, कुन्दन देवांगन उपस्थित थे।

    19

    और जानें :  # mahasmund news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें