Naidunia
    Sunday, November 19, 2017
    PreviousNext

    नए सत्र में ड्रेस नहीं मिलने से स्कूली छात्र परेशान

    Published: Tue, 18 Jul 2017 08:24 AM (IST) | Updated: Tue, 18 Jul 2017 08:24 AM (IST)
    By: Editorial Team

    बतौली। नईदुनिया न्यूज

    बतौली क्षेत्र के स्कूलों में अभी तक नए शिक्षा सत्र की शुरुआत के बाद भी ड्रेस नहीं मिल पाने से स्कूली छात्र-छात्राएं परेशान हैं। हालत यह है कि क्षेत्र के पांच आश्रमों में पहाड़ी कोरवा बच्चों को फटे पुराने कपड़ों में पढ़ने आ रहे हैं। उधर अभी तक ड्रेस के संबंध में कोई कार्रवाई नहीं दिख रही है। यही हालात रहे तो अगस्त-सितंबर तक ड्रेस का मिलना संभव हो पाएगा।

    नए शिक्षा सत्र की शुरुआत हो चुकी है। इस वर्ष बतौली क्षेत्र में भी स्कूली छात्र-छात्राओं के लिए ड्रेस की नई खेप अभी तक नहीं आ पाई है। इस वजह से नवप्रवेशी छात्रों के साथ साथ अध्यनरत पुराने छात्र-छात्राओं को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। बतौली क्षेत्र में पहाड़ी कोरवा बस्तियों के लिए आश्रम और छात्रावास विशेष तौर पर खोले गए हैं। विशेष संरक्षित जनजाति पहाड़ी कोरवाओं के लिए शासन की ओर से विशेष इंतजामात किए जाते हैं, लेकिन नए शिक्षा सत्र में ड्रेस ना मिलने का असर पहाड़ी कोरवा बच्चों पर साफ देखा जा सकता है। फटे पुराने कपड़े कपड़े पहने यह आश्रमों में किसी तरह अध्ययन कर रहे हैं। बतौली क्षेत्र में पांच आश्रम क्रमशः गोविंदपुर, भटको, बैजनाथपुर, टीरंग और बांसझल में है। नई ड्रेस न मिलने से इन बच्चों को आश्रमों में फटे कपड़ों के साथ अध्ययन करने की मजबूरी हो गई है। बताया जा रहा है कि कक्षा एक से कक्षा पांच तक के छात्रों के लिए ड्रेस की नई खेप इस सत्र में आ गई है,लेकिन छात्रों के लिए यह सुविधा अभी तक नहीं मिल पाई है।

    ड्रेस मिलने में असमंजस की स्थिति-

    बतौली क्षेत्र में बीते वर्ष छात्र-छात्राओं के लिए ड्रेस की व्यवस्था हेतु जून महीने में रायपुर से कपड़े भेजे गए थे। इसके बाद बतौली के महिला समूहों को ड्रेस सिलने का कार्य दिया गया था। इस तरह प्रशासनिक देख रेख में अगस्त तक किसी तरह बच्चों को कपड़े बांटे गए थे,लेकिन इस बार नए शिक्षा सत्र में न ही सिले सिलाए कपड़े भेजे गए हैं और न ही ड्रेस बनाने हेतु महिला समूह को अभी तक किसी तरह का कार्य दिया गया है। ऐसे में आने वाले दिनों में कब तक छात्र छात्राओं को ड्रेस मिल पाएगी कहना मुश्किल है।

    शासन की ओर से छात्र-छात्राओं को निःशुल्क ड्रेस देने का प्रावधान है। जल्द ही ड्रेस की व्यवस्था होते ही वितरण किया जाएगा।

    जय गोविंद गुप्ता

    मंडल संयोजक

    और जानें :  # naye satra me dress
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें