Naidunia
    Thursday, November 23, 2017
    PreviousNext

    अगले साल से कॉलेजों में सिर्फ एक बार होगा दाखिला

    Published: Tue, 18 Jul 2017 08:15 AM (IST) | Updated: Tue, 18 Jul 2017 09:51 AM (IST)
    By: Editorial Team
    chhattisgarh college 2017718 9493 18 07 2017

    रायपुर। उच्च शिक्षा विभाग कॉलेजों के विद्यार्थियों के लिए बेहतर सुविधा देने जा रहा है। अब किसी भी विवि के अध्ययनशालाओं या फिर कॉलेजों में एक बार दाखिला या पंजीयन कराने के बाद अगली कक्षा में जाने के लिए पंजीयन या फार्म नहीं भरना पड़ेगा।

    फर्स्ट इयर के आधार पर ही यदि वह परीक्षार्थी पास हो जाता है तो अगली कक्षा में दाखिला दे दिया जाएगा। इससे परीक्षार्थियों को दाखिले के लिए बार-बार फीस या प्रॉस्प्रैक्ट्स आदि खरीदने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इसके लिए युद्घ स्तर पर चिप्स और एक निजी सॉफ्टवेयर कंपनी सेतु सॉफ्टवेयर को अपडेट करने में जुट गई है।

    अगली कक्षा में प्रमोट करने की जिम्मेदारी कॉलेज के प्राचार्य या कक्षा प्राध्यापक को होगी। उन्हें यूजर आईडी और पासवर्ड दिया जाएगा। वे खुद-ब-खुद परीक्षार्थी के पास होने पर अगली कक्षा में प्रमोट कर देंगे। उच्च शिक्षा विभाग के इस निर्णय से राज्य के 20 विवि और 600 कॉलेजों में करीब पांच लाख युवा लाभान्वित होंगे।

    हाल में उच्च शिक्षा विभाग ने राज्य के सभी विश्वविद्यालयों के कुलसचिव की बैठक लेकर इसके लिए निर्देश जारी किया है। पंडित रविशंकर शुक्ल विवि, बिलासपुर विवि, सरगुजा विवि, बस्तर विवि , दुर्ग विवि और कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विवि के प्रबंधन ने इस व्यवस्था पर सहमति दी है।

    अब हर कॉलेज की वेबसाइट

    उच्च शिक्षा विभाग के नए नियम के अनुसार अब हर कॉलेज की अपनी वेबसाइट होगी। इसका मेंटनेस करने का काम भी चिप्स ही करेगा। कॉलेज के वेबसाइट पर भी सारे परीक्षार्थियों का ऑनलाइन डेटा दिया जाएगा।

    सिर्फ मेंटनेस के लिए 50 रुपए चार्ज

    ऑटोमैटिक ऑनलाइन दाखिले के लिए हर छात्र का डेटाबेस मेंटनेस का काम चिप्स करेगा। इसके लिए हर साल सिर्फ 50 रुपए प्रति विद्यार्थी से मेंटनेस चार्ज लिया जाएगा। इस तरह स्नातक स्तर पर बीए, बीएससी, बीकॉम, बीएएलएलबी, बीबीए , बीसीए आदि कक्षाओं में विद्यार्थियों को सिर्फ एक बार ही रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसी तरह एमए और एमकॉम कक्षाओं में भी यही प्रक्रिया होगी।

    अभी 5 हजार तक वसूली

    अभी कॉलेजों में यदि कोई छात्र बीए फर्स्ट इयर में पास हो जाता है तो अगली कक्षा के लिए उसे दोबारा कॉलेज में प्रॉस्प्रैक्ट्स खरीदकर दाखिले के लिए फीस देनी पड़ती है। खासकर निजी कॉलेजों में सिर्फ दाखिले के नाम पर 500 से 5 हजार रुपए तक वसूली हो रही है। इस प्रक्रिया से प्राइवेट कॉलेज में पढ़ने वाले युवाओं को फायदा होगा।

    अभी डेवलप हो रहा सॉफ्टवेयर

    चिप्स के साथ ऑटोमैटिक दाखिले की प्रक्रिया के लिए सॉफ्टवेयर डेवलप करवा रहे हैं। इसमें कॉलेज के प्राचार्य को यह अनुमति दी जाएगी कि वह वैरीफाई करके विद्यार्थियों को अगली कक्षा में प्रमोट करें। - बसव एस राजू, आयुक्त, उच्च शिक्षा

    मेंटनेस चार्ज लगेगा

    अभी तक हमने फर्स्ट इयर में दाखिले की प्रक्रिया पूरी करवा ली है। पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत दूसरी एजेंसियां भी इसके लिए काम करेंगी। इसलिए नॉमिनल मेंटनेस चार्ज लिया जाएगा। - अलेक्स पाल मेनन, सीईओ, चिप्स

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें