Naidunia
    Thursday, April 27, 2017
    PreviousNext

    प्रदेश में 17 साल बाद बदलेंगी प्राइमरी-मिडिल की किताबें

    Published: Sun, 19 Mar 2017 08:41 PM (IST) | Updated: Tue, 21 Mar 2017 11:03 AM (IST)
    By: Editorial Team
    school books change cg 2017320 83519 19 03 2017

    संदीप तिवारी, रायपुर। 11वीं-12वीं के बाद अब पहली से 8वीं तक की किताबें राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) के अनुरूप तैयार की जाएंगी। इससे मध्यप्रदेश के जमाने से चले आ रहे 17 साल पुराने पाठों से छात्रों को मुक्ति मिलेगी। अक्टूबर में सबसे पहले छठवीं से आठवीं तक की किताबों को रिवाइज किया जाएगा। अगले चरण में पहली से पांचवीं की होंगी। राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) ने किताब लेखन से पहले एनसीईआरटी और राजस्थान, गुजरात जैसे मॉडल राज्यों का अध्ययन करेगी।

    एससीईआरटी संचालक सुधीर कुमार अग्रवाल के अनुसार पहली-दूसरी व नौवीं-दसवीं की किताबें एनसीईआरटी के अनुरूप बनाई गई हैं। बाकी 2006-07 में अंतिम बार लिखी गईं। एनसीएफ (नेशनल करिकुलम फ्रेमवर्क) के मुताबिक हर 5 साल में किताबें बदलनी हैं, लेकिन नहीं बदली गई हैं।

    एनसीईआरटी भोपाल एनालिसिस रिपोर्ट 2016 में बताया गया था कि कुछ पाठ उबाऊ व कठिन हैं, इसलिए बदलाव जरूरी है। शिक्षा सचिव विकासशील का कहना है कि अब लर्निंग आउटकम के हिसाब से पाठों का संकलन सीखने-सिखाने पर आधारित होगा।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी