Naidunia
    Friday, August 18, 2017
    PreviousNext

    90 सीटों पर खड़े करेंगे प्रत्याशी, रेणु और अमित लड़ेंगे चुनाव : जोगी

    Published: Tue, 21 Mar 2017 03:52 AM (IST) | Updated: Wed, 22 Mar 2017 10:52 AM (IST)
    By: Editorial Team
    ajit jogi cg congress 2017321 9210 21 03 2017

    अनिल मिश्रा, रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के संस्थापक पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने भाजपा की चुनावी तैयारियों को देखते हुए डेढ़ साल पहले ही खम ठोंक दिया है। उन्होंने एलान किया है कि उनकी पार्टी जकांछ राज्य की सभी 90 सीटों पर प्रत्याशी उतारेगी। नईदुनिया से खास बातचीत में जोगी ने कहा कि भाजपा का मुकाबला करने की ताकत कांग्रेस में नहीं है। वह जल्द ही राष्ट्रीय दल का दर्जा खो देगी। मोदी को हराने का दम सिर्फ सेकुलर क्षेत्रीय दलों में है। जोगी ने कहा हमारी सभी सीटों पर तैयारी चल रही है।

    हम किसी दल से समझौता नहीं करेंगे। मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा और पूरे प्रदेश में प्रचार करूंगा। उन्होंने कहा कांग्रेस प्रदेश में अप्रसांगिक हो चुकी है। उसमें केवल पदाधिकारी बचे हैं। मेरी सभाओं में हो रही भीड़ उमड़ रही है, जबकि उनका जनाधार समाप्त हो चुका है। आज की तारीख में राष्ट्रीय दलों में किसी के भी पास मोदी के टक्कर का नेता नहीं है। नईदुनिया से बातचीत में जोगी ने कई सवालों के जवाब दिए। उनसे हुई बातचीत के प्रमुख बिंदु-

    सवाल- आरोप है कि आप दिल्ली जाते हैं तो गुपचुप आस्कर फर्नांडीस और अहमद पटेल आदि कांग्रेस नेताओं से मिलते हैं?

    जवाब- झूठ है। पार्टी बनाने के बाद मैं तीन बार दिल्ली गया। पहली बार एक विवाह समारोह में, फिर पार्टी के चुनाव चिन्ह के लिए आवेदन देने और अभी वृंदावन जाते हुए रास्ते में दिल्ली रुका था। यह अफवाह जानबूझकर फैलाई जा रही है। कांग्रेस को चिंता है कि उनके कार्यकर्ता थोक में उन्हें छोड़कर यहां आ रहे हैं। वे कार्यकर्ताओं को संदेश देना चाहते हैं कि जोगी तो वापस आ रहे। यही हाल बीजेपी का है। उनके लोग भी हमारे दल में आ रहे हैं। वे बताना चाहते हैं कि जिस कांग्रेस के खिलाफ आप लड़ते रहे जोगी तो उसी कांग्रेस में लौट जाएंगे। यह दोनों दलों की साजिश है।

    सवाल- रेणु जोगी कांग्रेस में हैं। क्या उन्हें पीसीसी अध्यक्ष नहीं बनाया जाना चाहिए?

    जवाब- रेणु मेरी पत्नी हैं। हम 46 साल से विवाहित हैं। अगर कोई उन्हें मुझसे अलग देख रहा तो मैं उसे मूर्ख ही मानूंगा। वे पति को छोड़ेगी थोड़े ही। पर यह बात कहने की क्या जरूरत।

    सवाल- आपकी बहू रिचा जोगी आजकल मरवाही बहुत सक्रिय हैं। क्या वे वहां से प्रत्याशी होंगी?

    जवाब- मेरे परिवार से दो एमएलए हैं। वही दोनों चुनाव लड़ेंगे। रिचा पति के चुनाव क्षेत्र में जाती है। वहां के लोग उसे बड़ी बहू मानते हैं और बहुत प्यार करते हैं। अमित हर शादी, छठी, तेरहवीं, दशगात्र में नहीं जा पाते। वे पूरे प्रदेश का दौरा करते हैं। ज्यादातर जगहों पर रिचा ही जाती है।

    सवाल- आपकी पार्टी कितनी सीटों से चुनाव में उतरेगी? घर से कौन लड़ेगा और क्या किसी दल से गठबंधन होगा?

    जवाब- हम सभी 90 सीटों पर प्रत्याशी उतारेंगे। मेरे परिवार से रेणु और अमित चुनाव लड़ेंगे। किसी दल से कोई गठबंधन नहीं होगा।

    सवाल- आरोप है कि जोगी और रमन की गाढ़ी दोस्ती है?

    जवाब- कौन किसका दोस्त है, अभी साबित कर सकता हूं। रमन सरकार ने मुझ पर हत्या का झूठा मुकदमा चलाया। गंडई में मुझे पकड़ने दो जिले के एसपी, 12 डीएसपी और दो सौ जवान भेजे गए थे। रात में अचानक पहुंचे और हत्या का वारंट थमा दिया। गंडई की जनता को धन्यवाद। महिलाएं झाड़ू लेकर पहुंच गईं। लोगों ने गैंती, फावड़ा लेकर घेराव कर दिया। पहली ही पेशी में केस खारिज हो गया। एक दिन डोंगरगढ़ गया था दर्शन करने। इसी व्हील चेयर पर। मुझपर आरोप लगाया गया कि मैंने किसी की सोने की चेन और 10 हजार रुपया लूट लिए। डोंगरगढ़ में मामला दर्ज हुआ हालांकि पुलिस आज तक चालान नहीं पेश कर पाई है। एक ओर मुझ पर हत्या व डकैती का केस दर्ज कराया। दूसरी ओर कांग्रेस के भूपेश बघेल और सिंहदेव से क्या संबंध हैं उसे भी जानें। अंबिकापुर में राजपरिवार के पूर्वजों का तालाब था। रजवाड़े खत्म हुए तो उसे जनता के निस्तार के लिए रिजर्व किया गया। उसका पानी सुखा दिया फिर आवेदन दिया कि हमारे पूर्वजों ने निस्तार के लिए दिया था अब पानी नहीं है तो जमीन वापस दें। तीन सौ करोड़ की संपत्ति वापस ले ली। भाजपा के ही एक कार्यकर्ता ने शिकायत की। मैंने भी पत्र लिखा। आज तक रमन सिंह ने कोई एक्शन नहीं लिया है। भूपेश का भिलाई 3 में जो दो मंजिला भव्य मकान है उसका निर्माण 12 बीपीएल हितग्राहियों की जमीन पर हुआ है। गरीबों की जमीन हथियाकर मकान बनाया। कई बार शिकायत हुई। जांच में आरोप सही पाए गए। अगर भूपेश से दोस्ती न होती तो कब से बुलडोजर चलाकर गरीबों को जमीन वापस दे देते। इधर मेरे बेटे को लोवर कोर्ट ने हत्या के आरोप से बरी किया तो सरकार हाईकोर्ट गई। हाईकोर्ट से मामला खारिज हुआ तो सुप्रीम कोर्ट चले गए। अगर मुझसे दोस्ती होती तो कुछ तो निभाते। इससे समझा जा सकता है कौन दोस्त है और कौन दुश्मन।

    सवाल- कांग्रेस अंतागढ़ टेप चलाकर आपकी रमन से दोस्ती का खुलासा करेगी तो?

    जवाब- ऑडियो टेप की विश्वनीयता नहीं मानी जा सकती है। आवाज कॉपी की जा सकती है। वैसे उस कथित ऑडियो में मेरे हवाले से एक ही बात कही गई बताई जा रही। कि मैंने पूछा- श्रीमती सीएम की तबीयत कैसी है। वो टेप झूठा है। मैंने मानहानि का दावा किया हुआ है। जो यह कह रहे कि मैंने मंतूराम पवार को अंतागढ़ उप चुनाव से नाम वापस लेने को कहा वे झूठ बोल रहे हैं। जिस दिन मंतू को टिकट मिला उसके बाद से जब वह नाम वापस लिया तब तक मेरी उससे कोई बात या संपर्क नहीं हुआ। वे एक बार टेप बजा चुके हैं फिर भी मेरी लोकप्रियता और बढ़ी है। इसका प्रमाण मेरी सभाओं में उमड़ रही भीड़ है। जनता ने इस आरोप को नकार दिया है। वे और चलाएं। मैं स्वागत करता हूं। मुझे न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है। इस मामले में उन्हें कोर्ट से सजा दिलाकर रहूंगा।

    सवाल- यूपी चुनाव के नतीजों को किस नजरिए से देखते हैं?

    जवाब- अब संदेह नहीं रहा कि मोदी के कद को कोई दूसरा नेता देश में नहीं है। किसी भी राष्ट्रीय दल के पास ऐसा नेता नहीं, जो मोदी को टक्कर दे सके। एंटी इंकंबेंसी बड़ा फैक्टर है। लोग बदलाव चाहते हैं।

    आंचलिक पार्टी बन गई कांग्रेस

    सवाल-आप लंबे समय तक कांग्रेस में रहे। अब कांग्रेस का क्या भविष्य देख रहे?

    जवाब- कांग्रेस राष्ट्रीय पार्टी के रूप में खत्म हो गई है। उन्हें यूपी में सिर्फ 07 सीट मिली। वह सिकुड़कर आंचलिक पार्टी बन गई है। एकाध राज्य में सरकार बची है बस। देश में कांग्रेस का कोई भविष्य नहीं। छत्तीसगढ़ में इससे अलग हालत नहीं है। कांग्रेस में नेतृत्व का संकट है। लोकप्रियता रही नहीं। 50-60 साल तक राज किया है। इतनी लंबी एंटी इंकंबेंसी का भी असर कांग्रेस पर पड़ेगा ही। सब मिलाकर सामने है कि कांग्रेस युग का समापन हो चुका है। भाजपा की लड़ाई गैर सांप्रदायिक आंचलिक दलों से होगी। वे ही भाजपा को जवाब दे पाएंगे।

    सवाल- कांग्रेस में बीच में भूपेश को बदलने की भी चर्चा थी। क्या इससे कुछ फायदा होता?

    जवाब- यह कांग्रेस का आंतरिक मामला है। इसमें कुछ नहीं कहना। कांग्रेस अब अप्रासंगिक हो चुकी है। केवल पदाधिकारी बचे हैं। जनाधार खत्म हो चुका है।

    सवाल- आप कहते रहे हैं कि दिल्ली में आम आदमी के प्रदर्शन को आप यहां दोहराएंगे। क्या मोदी का जादू यहां यूपी की तरह नहीं चलेगा?

    जवाब- छत्तीसगढ़ की तुलना यूपी से नहीं की जा सकती। वहां ध्रुवीकरण आसान है, क्योंकि करीब 20 प्रतिशत मुस्लिम अल्पसंख्यक हैं। जहां कम से कम 10 प्रतिशत मुस्लिम हों, वहीं धु्रवीकरण हो सकता है। यहां सिर्फ 2 प्रतिशत मुस्लिम हैं। दूसरी बात है कि यूपी में जातिवाद की लड़ाई होती है। यहां जातिवाद नहीं, बल्कि छत्तीसगढ़िया की भावना प्रभावी है। लोगों को लगता है कि इतने साधन संपन्न होने के बाद भी राज्य के साथ न्याय नहीं हुआ तो इसकी मुख्य वजह यही है कि यहां हमेशा राष्ट्रीय दलों का राज रहा। यहां मजबूत क्षेत्रीय दल की जरूरत थी जिसे हमने पूरा किया है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें