Naidunia
    Tuesday, August 22, 2017
    PreviousNext

    भ्रष्टाचार मामले में आईएएस अधिकारी बीएल अग्रवाल को जमानत

    Published: Thu, 04 May 2017 10:35 PM (IST) | Updated: Thu, 04 May 2017 10:38 PM (IST)
    By: Editorial Team
    babulala 04 05 2017

    नई दिल्ली। पटियाला हाउस कोर्ट ने छत्तीसगढ़ के आईएएस अधिकारी बीएल अग्रवाल व तीन अन्य को भ्रष्टाचार के मामले में जमानत दे दी है। बीएल अग्रवाल के अलावा उनके रिश्तेदार आनन्द अग्रवाल, मध्यस्थता कराने वाले भगवान सिंह और खुद को प्रधानमंत्री कार्यालय का कर्मचारी बताने वाले बुरहानुद्दीन को भी जमानत मिल गई है। समय के अभाव के चलते जमानत के लिए कानूनी प्रक्रिया पूरी नहीं हो सकी। शुक्रवार को सभी आरोपी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद तिहाड़ जेल से बाहर आएंगे।

    विशेष सीबीआई जज विरेंद्र कुमार गोयल की अदालत ने अपने आदेश में कहा कि यह मामला भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम की धारा-आठ से जुड़ा है। अब तक हुई जांच में सरकारी कर्मचारी की भूमिका स्पष्ट नहीं हो सकी है और न ही जांच में सीबीआई सरकारी कर्मचारी की पहचान को साफ कर पाई है।

    सीबीआई की जांच फिलहाल जारी है। आरोपी 60 दिन से भी अधिक समय से जेल में है। आरोपपत्र भी दाखिल किया जा चुका है। बीएल अग्रवाल की पत्नी की तबीयत भी ठीक नहीं है। ऐसे में उन्हें व अन्य तीन आरोपियों को आगे जेल में रखने से कुछ हासिल नहीं होगा।


    यह है मामला : 1988 बैच के आइएएस अधिकारी बीएल अग्रवाल पर आरोप है कि उन्होंने खुद पर पहले से चल रहे भ्रष्टाचार के दो मामलों का निपटारा कराने के लिए सह-आरोपी बुरहानुद्दीन को 60 लाख नकद व दो किलो सोना दिया। बुरहानुद्दीन ने खुद को प्रधानमंत्री कार्यालय का कर्मचारी बताया था।

    अग्रवाल पर आरोप : 2010 में स्वस्थ्य सचिव रहते हुए अग्रवाल पर भ्रष्टाचार के दो मुकदमे दर्ज हुए थे। एक मामले में सीबीआइ आरोपपत्र दाखिल कर चुकी है, जबकि दूसरे मामले की जांच अभी जारी है। सीबीआई का कहना है कि अग्रवाल अपने रिश्तेदार आनन्द अग्रवाल के माध्यम से नोएडा निवासी भगवान सिंह के संपर्क में आया। भगवान ने उसे सैय्यद बुरहानुद्दीन से मिलवाया था।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें