Naidunia
    Sunday, October 22, 2017
    PreviousNext

    रमन, भूपेश और सिंहदेव पर बिफरे जोगी, कहा-सत्र न चलने को फिक्सिंग की थी

    Published: Sat, 12 Aug 2017 11:09 PM (IST) | Updated: Sat, 12 Aug 2017 11:14 PM (IST)
    By: Editorial Team
    jogi 12 08 2017

    रायपुर। 'कुर्सी छोड़ो आंदोलन" के बहाने जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ ने शनिवार को राजधानी में अपना शक्ति प्रदर्शन किया। पार्टी के सुप्रीमो और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी हजारों समर्थकों को लेकर सड़क पर उतरे और मुख्यमंत्री समेत अन्य मंत्रियों पर निशाना साधा।

    उन्होंने विधानसभा के मानसून सत्र को ढाई दिन में खत्म करने को साजिश बताया। कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल और नेता-प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव तीनों ने एक-दूसरे का बचाव करने के लिए 11 दिन चलने वाले सत्र को तीसरे दिन ही खत्म कर दिया।

    आरोप लगाया कि यह सभी लोग भ्रष्टाचार में लिप्त हैं। पनामा पेपर लीक, बीपीएल परिवार के हिस्से की जमीन की अवैध तरीके से खरीदी और 35 एकड़ तालाब पर कब्जे का मामला विधानसभा में न उठे, लिहाजा सत्र समाप्त कर दिया गया। 'कुर्सी छोड़ो आंदोलन" की शुस्र्आत और सीएम हाउस का घेराव करने के लिए राजीव गांधी चौक पर हजारों समर्थकों के साथ इकट्ठा हुए।

    जोगी ने कहा कि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने 16 विधायकों के दस्तखत से नेता प्रतिपक्ष सिंहदेव का तालाब पर कब्जे का मामला उठाने वाले थे। यह बात सिंहदेव को पता चल गई। विधायक अमित जोगी, आरके राय और सियाराम कौशिक, भूपेश बघेल के खिलाफ लोक आयोग में पेंडिंग चार मामलों पर सरकार से सवाल-जवाब करने वाले थे।

    जोगी ने आरोप लगाया कि मंत्री रहते हुए बघेल ने पाइप खरीदी में घोटाला किया था। इस कारण बघेल दहशत में आ गए। मुख्यमंत्री को पहले से पता था कि जकांछ समर्थित विधायक पनामा पेपर लीक का मामला उठाने वाले हैं।

    जोगी ने कहा कि वे शुरू के शब्द नहीं बोलेंगे,... तीनों मौसेरे भाइयों ने मिलकर यह तय किया कि मामले उठने से पहले ही विधानसभा सत्र को खत्म करा दिया जाए। जोगी ने कहा कि पनामा पेपर लीक में 424 हिंदुस्तानियों के नाम हैं, जिसमें से सात छत्तीसगढ़ के हैं। जोगी ने दावा किया कि मुख्यमंत्री, सांसद अभिषेक सिंह और उद्योगपति कमल सारडा का भी नाम शामिल है।

    उन्होंने कहा अगर, ये गलत है तो मानहानि का मुकदमा और आपराधिक प्रकरण दर्ज करा दिया जाए। जोगी ने दोनों राष्ट्रीय दलों पर निशाना साधते हुए कहा, भाजपा और कांग्रेस में आदिवासियों व गरीबों की जमीन लूटने की होड़ मची हुई है। किसी ने रिसॉर्ट बना लिया है तो किसी ने आलीशान मकान।

    विधायक अमित जोगी ने कहा कि ताश के पत्तांे की तरह जब राजा मुसीबत में होता है तो विपक्षी दल के दो जोकर बचाने पहुंच जाते हैं। लेकिन, अब जनता भाजपा-कांग्रेस के महागठबंधन को समझ चुकी है। इसलिए छत्तीसगढ़ के नवाज शरीफ का कुर्सी से हटना तय है।

    राहुल आते रहें, कांग्रेस को नुकसान होता रहेगा

    पूर्व विधायक धरमजीत सिंह ने कहा, कांग्रेसी राहुल गांधी को यहां बुलाती रहे। क्योंकि वो जब भी आते हैं, तभी कांग्रेस को दो लाख वोट का नुकसान होता है। सिंह ने कहा कि भाजपा के अमित शाह का दिमाग तो गुजरात की जनता ने ठीक कर दिया है। छत्तीसगढ़ की जनता भी यही करने वाली है।

    पार्टी बनाने के दो कारण, सोनिया गांधी को बताया

    जोगी ने बताया कि जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ का गठन करने से पहले उन्होंने कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को अलग पार्टी बनाने की जानकारी दी थी।

    जोगी के मुताबिक सोनिया गांधी ने कारण पूछा, तो दो कारण बताए। पहला, छत्तीसगढ़ में दो राष्ट्रीय दलों का राज चलता रहा है, दोनों के अंतिम फैसले दिल्ली से होते हैं। इसलिए, एक ऐसी पार्टी होगी, जो छत्तीसगढ़ के फैसले यहां की जनता के साथ मिलकर लेगी।

    दूसरा, भाजपा सरकार ने छत्तीसगढ़ की दौलत, नदियां, खनिज, खेत, जंगल, अस्मिता और सम्मान लूटा है। जोगी ने कविता पढ़ने के अंदाज में कहा, लूट मची है लूट, अब थोड़ा समय बचा है, सत्ता जाएगी छूट।

    उन्होंने कहा कि प्रदेश को लूटने की शुस्र्आत अगस्ता वेस्टलैंड मामले से हुई। यहां घोटाला और भ्रष्टाचार करके पैसा विदेश भेजा जा रहा। प्रदेश और यहां की जनता ने जो खोया है, उसे वापस लेने के लिए पार्टी बनाई गई है।

    सीएम हाउस घेरने निकले 7000 समर्थक, गिरफ्तारी 2763 ने दी

    जकांछ नेताओं का दावा है कि सभास्थल में 7000 से अधिक समर्थक जुटे। 12 बजे से सभा शुरू हुई तो शाम साढ़े चार बजे तक चली। इसके बाद जोगी के नेतृत्व में सभी सीएम हाउस का घेराव करने निकले।

    पुलिस ने सारे रास्तों को सुबह से ब्लॉक कर दिया था। गॉस मेमोरियल मैदान के पास युवा कार्यकर्ताओं ने बेरिकेड्स को तोड़ने की कोशिश की। इस कारण पुलिस ने हल्का बल प्रयोग किया।

    इस कारण कार्यकर्ता अशोक सोनवानी घायल हो गये। पुलिस ने एम्बुलेंस से उन्हें अस्पताल भिजवाया। अजीत जोगी के अलावा दो विधायक अमित जोगी, आरके राय समेत 2763 लोगों ने गिरफ्तारी दी, जिसमें 2514 पुस्र्ष और 247 महिलाएं शामिल थीं।

    गिरपतारी देने वालों की संख्या अधिक थी, इसलिए पुलिस नाम नोट करने के लिए 140 पुलिस कर्मियों को लगाया था। ओसीएम चौक पर स्थित पीडब्ल्यूडी कार्यालय को अस्थायी जेल बनाया गया था।

    नहीं दिखे कौशिक

    इस बार जोगी के आंदोलन में कांग्रेस विधायक सियाराम कौशिक नहीं दिखे। कौशिक को विधानसभा में कांग्रेस विधायक दल का साथ नहीं देने पर निलंबन का नोटिस दिया गया है, जिसका जवाब वे दे चुके हैं। कांग्रेस ने अभी आगे की कार्रवाई नहीं की है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें