Naidunia
    Saturday, September 23, 2017
    PreviousNext

    खाता खुलवाने में मांगा सहयोग और कागज की गड्डी थमाकर ले उड़े 30 हजार

    Published: Tue, 23 Sep 2014 09:01 PM (IST) | Updated: Tue, 23 Sep 2014 09:01 PM (IST)
    By: Editorial Team

    रायपुर। राजधानी में लगातार दूसरे दिन बैंक में ठगी की वारदात हुई। मंगलवार को जयस्तंभ चौक स्थित एसबीआई में एक युवक ठगी का शिकार हो गया। दो लोगों ने खाता खुलवाने में एक युवक से सहयोग मांगा और उसे रूमाल में बंधी कागज की गड्डी थमाकर उसके 30 हजार रुपए ले उड़े। पीड़ित युवक ने मौदहापारा थाने में शिकायत की है। पुलिस ने बैंक से सीसीटीवी फुटेज मांगी है।

    मौदहापारा पुलिस ने बताया कि मूलतः राजस्थान सीकर निवासी भीमा सेन गादड़ी (30) छोकरा नाला स्थित कांकेर रोडवेज में मैकेनिक है। वह मंगलवार सुबह अपने घर पैसा भेजने के लिए 30 हजार रुपए लेकर जयस्तंभ चौक स्थित एसबीआई पहुंचा। वह पैसा जमा करने के लिए बैठा था, तभी उसके बाजू में दो व्यक्ति आकर बैठ गए। एक व्यक्ति ने दूसरे से कहा-दिखाओ में तुम्हारा पैसा जमा कर देता हूं। दूसरे ने कहा-मेरा यहां बैंक खाता नहीं है। पैसा जमा करने के लिए खाता खोलना पड़ेगा। मैंने अपने बेंगलुरू वाले मालिक का पैसा चोरी करके लाया है। उसने कई माह से मुझे पैसा नहीं दिया था। ये 80 हजार रुपए हैं। फिर पहले वाले ने कहा-बाजू वाले भाई (भीमा) ने हमारी बात सुन ली है। वे खाता खुलवाने में हमारी मदद कर सकते हैं। दोनों व्यक्ति भीमा को लेकर बाहर निकल आए। दोनों ने भीमा से कहा किसी को बताना नहीं, ये चोरी के पैसे हैं। तुमको हम बदले में 20 हजार रुपए देंगे। बैंक वालों ने खाता खुलवाने के लिए 20 हजार रुपए मांगा है। आप हमारा खाता खुलवा दीजिए। पहले वाले व्यक्ति ने नोट बंधे रूमाल को खोलने का प्रयास किया, पर खोला नहीं। उसने भीमा से कहा- तुम अपना पैसा मुझे दे दो, नोट का बंडल तुम रखो। पहले खाता खुलवा लेते हैं। भीमा ने अपना पैसा देकर रूमाल में बंधा नोटो का बंडल ले लिया। दूसरे व्यक्ति ने पहले वाले से कहा कि तुम यहीं रुको हम लोग खाता खुलवाकर आते हैं। जब तुमको बुलाएं तब आना। भीमा और दूसरा व्यक्ति दोनों बैंक के गेट तक आए। तभी दूसरे व्यक्ति ने कहा कि तुम यहीं रुको मैं उसको समझाकर आता हूं कि क्या बात करना है। भीमा रूमाल को लिए आधा घंटा खड़ा रहा, लेकिन दोनों में से कोई वापस नहीं आया। जब भीमा ने बाहर जाकर देखा तो वहां कोई नहीं था। भीमा ने रूमाल खोलकर देखा तो उसमें कागज की गड्डी थी।

    पहले भी ठगी

    सोमवार को पचपेड़ी नाका स्थित एक्सीस बैंक में पैसा जमा करने पहुंचे सुपरवाइजर भोजराम पंडिल ठगी का शिकार हुए थे। दो अज्ञात युवक पैसा जमा करने के लिए फार्म भरने का झांसा देकर उनके 50 हजार रुपए ले उड़े। पुलिस को आशंका है कि दोनों जगह एक ही गिरोह ने घटना को अंजाम दिया है। ज्ञात हो कि पिछले साल शहर में पांच बैंकों में इस तरह की घटना को अंजाम दिया गया था। सभी वारदात का तरीका एक था। हालांकि पुलिस ने आरोपियों को पकड़ लिया था। लेकिन इस साल फिर उसी तरह से वारदात हो रही है।

    और जानें :  # Bank # 420 case # Bank Account
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें