Naidunia
    Wednesday, November 22, 2017
    PreviousNext

    रसोई गैस पर सब्सिडी के 25 करोड़ का हिसाब नहीं

    Published: Wed, 13 Sep 2017 11:33 PM (IST) | Updated: Wed, 13 Sep 2017 11:33 PM (IST)
    By: Editorial Team

    राजनांदगांव। रसोई गैस पर मिलने वाली सब्सिडी अघोषित तौर पर बंद कर दी गई है। बैंकों की लापरवाही के चलते करीब छह माह से उपभोक्ताओं को अनुदान मिल ही नहीं रहा है। इससे जिले के करीब डेढ़ लाख उपभोक्ताओं को केंद्र सरकार की योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। इन छह महीनों के सब्सिडी के लगभग 25 करोड़ रुपए कहां गए, यह कोई नहीं बता पा रहा। खबर है कि एंजेसियों की ओर से डेटा अपडेट करने के बाद भी बैंकों द्वारा राशि खातों में ट्रांसफर नहीं की जा रही। आधार लिकिंग में लापरवाही के कारण भी कुछ उपभोक्ताओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

    जिले में सारी कंपनियों को मिलाकर करीब 2.50 लाख गैस उपभोक्ता हैं। एक अनुमान के अनुसार शहरी क्षेत्रों में लगभग एक लाख गैस कनेक्शनधारी हैं। अभी घरेलू रसोई गैस प्रति सिलेंडर कीमत 654 रुपए है। रुपए घर पहुंच सेवा लेने वालों को 672 रुपए देने होते हैं। सरकार की ओर से अनुदान के रूप में 172 रुपए दिए जा रहे हैं जो कायदे से बैंक खाते में दूसरे दिन जमा होने हैं, जो नहीं हो रहे। छह माह का औसत निकाला जाए तो ढाई लाख उपभोक्ताओं का हर माह करीब सवा चार करोड़ अनुदान बनता है जिसका हिसाब हितग्राहियों को दिया ही नहीं जा रहा। बैंकों की ओर से कोई ठोस जानकारी नहीं दिए जाने के कारण लोगों को अनावश्यक परेशान होना पड़ रहा है। हालांकि उज्जवला योजना के तहत जिन्हें हाल में कनेक्शन मिला है, उन्हें बराबर सब्सिडी मिल रही है।

    दो दिनों में हो जाता था

    गैस पर अनुदान की राशि बैंक खातों में सिलेंडर डिलीवरी के दो दिनों के भीतर ट्रांसफर हो जाया करती थी। बाद में इसके लिए बैंक हफ्तेभर का समय लगा लगाने लगा। जिनके एक से अधिक बैंक खाते हैं, उनके किसी भी खाते में यह राशि जमा कर दिए जाने से भी पहले लोगों में असमंजस था। लेकिन अब किसी भी खाते में अमाउंट नहीं आने से लोग परेशान हैं। कई ग्राहकों को छह माह से सब्सिडी नहीं मिल रही तो किसी के खाते में तीन-चार माह से अमांउंट ट्रांसफर नहीं हुआ है।

    मैसेज भी नहीं आ रहा

    सब्सिडी की रकम बैंक खाते में जमा होने के बाद ग्राहकों को बकायदा एसएमएस के माध्यम से इसकी सूचना दी जाती थी। करीब छह माह से बैंकों ने यह व्यवस्था भी अघोषित तौर पर बंद कर दी है। मैसेज मिलने के बाद ग्राहक संतुष्ट हो जाते थे कि सब्सिडी मिल गई। अब वह भी नहीं होने से लोगों में यह भ्रम होने लगा है कि कहीं सरकार ने अनुदान खत्म तो नहीं कर दिया है।

    ऐसे चेक करें अनुदान

    जिस बैंक खाते नंबर के साथ एजेंसियों में आधार लिंक कराया गया है, उसकी पासबुक की इंट्री। या फिर स्टेटमेंट। इसके अलावा हितग्राही ने अंतिम बार जिस बैंक में अपने खाते के साथ आधार लिंक कराया है, वहां से भी अनुदान का पता लगाया जा सकता है। इसके लिए भी पासबुक की इंट्री या फिर स्टेटमेंट निकालकर जानकारी पुख्ता की जा सकती है। जिन्होंने पेमेंट बैंक में खात खुलवाया है, उन्हें वहीं से इसकी जानकारी आसानी से मिल सकती है। लेकिन कई उपभोक्ता उक्त तरीकों से भी संतुष्ट नहीं हो पा रहे हैं।

    आंकड़ों में अनुदान

    2.50

    लाख ग्राहक जिले में

    1.00

    हजार शहर में

    654

    रुपए प्रति सिलेंडर

    672

    रुपए घर पहुंच सेवा

    172

    रुपए अनुदान

    चुपके से बदल दिया

    'तीन-चार माह तक इंतजार किया। तब बैंक जाकर पता किया तो गोलमोल जवाब मिला। बाद में पतासाजी की तो जानकारी हुई एयरटेल बैंक में अनुदान राशि जमा होने की बात कही गई। आखिर हमारी जानकारी के बिना बैंक क्यों बदल दिया गया।'

    -विट्ठल राव बुराडे, रिटायर कर्मचारी व उपभोक्ता

    लोग समझ नहीं रहे

    'अनुदान राशि बैंक खातों में नियमित जा रही है। दरअसल एक से अधिक बैंकों में खाते होने के कारण लोग कंफ्यूज हैं। जहां आखिरी बार आधार लिकिंग कराई गई, राशि उसी खाते में जा रही है। कुछ लोगों की अनुदान राशि पेंमेंट बैंक में ट्रांसफर हो रही है।'

    -नरेंद्र डाकलिया, संचालक, इंडेन गैस एजेंसी

    बड़ा घोटाला है यह

    'रसोई गैस पर यह देश का सबसे बड़ा घोटाला है। जब उपभोक्ताओं ने एजेंसियों को आधार के साथ बैंक पासबुक की कापी दी है तो अनुदान की राशि भी उसी खाते में आनी चाहिए। बैंक वाले गड़बड़ी कर रहे हैं। मैंने इसकी शिकायत कलेक्टर से की है। उन्होंने जांच का भरोसा दिलाया है।'

    -मोहन अग्रहरि, वरिष्ठ नागरिक व समाजसेवी

    एजेंसी वाले बताएंगे

    'मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। किसी ने शिकायत भी नहीं की है। वैसे इस बारे में गैस एजेंसियों के संचालक ही बेहतर ढंग से बता सकते हैं।'

    -विश्वजीत सिंह तिग्गा, एसबीआई प्रबंधक, मुख्य शाखा

    --

    और जानें :  # CG News # Rajnandgaon News
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें