Naidunia
    Wednesday, June 28, 2017
    PreviousNext

    पागलपन में बेटे ने बाप को उतार दिया मौत के घाट

    Published: Thu, 16 Feb 2017 10:04 PM (IST) | Updated: Fri, 17 Feb 2017 10:24 AM (IST)
    By: Editorial Team
    murder 2017216 22824 16 02 2017

    बालोद। बालोद से अर्जुन्दा मार्ग में ग्राम जुंगेरा में गुरुवार सुबह 10.30 बजे पागलपन के शिकार एक बेटे ने अपने ही बाप की निर्मम हत्या कर दी। इस घटना के बाद गांव में सनसनी फैल गई। जैसे तैसे ग्रामीणों ने आरोपी को पकड़ा और बांधकर पुलिस के हवाले किया।

    आरोपी कौशल साहू (25) ने अपने पिता को बेरहमी से मार डाला। कुदाली से उसके सीने में आठ बार वार किया। इतने में भी जी नहीं भरा तो सीधे सिर में वार कर दिया। बेटे के इस वार से 65 वर्षीय पिता नारायण साहू ने घटना स्थल पर ही दम तोड़ दिया। बाप को मौत के घाट उतारने के बाद आरोपी पुत्र ने उसके लाश को घसीटते हुए कमरे से बाहर निकाला और उठाकर पड़ोसी (चचेरा भाई) जग्गू राम साहू की बाड़ी में फेंक दिया। हत्या के बाद खुद आरोपी उस खाट पर आराम से सो गया। जिसे उसने थोड़ी देर पहले लहूलुहान कर दिया था।

    सुबह नौ बजे से मचा रहा था उत्पात, बर्तन टीवी सब तोड़ दिए

    ग्राम जुंगेरा निवासी पिता की हत्या करने वाले आरोपी कौशल की मानसिक हालत कुछ दिनों से ठीक नहीं थी। पागल जैसी हरकत करते हुए वह गांव के साथ घर में भी उत्पात मचा रहा था। गुरुवार सुबह नौ बजे से घर में उसका उत्पात शुरू हो चुका था। घर के छप्पर में चढ़कर खपरैल से राह चलते लोगों पर फेंक रहा था। घर के सभी सामान को तोड़फोड़ रहा था।

    यहां तक कि टीवी, बिजली बोर्ड, बर्तन को भी कुदाली से वार कर तोड़ दिया था। घटना के दौरान आरोपी ने अपनी दीदी गायत्री बाई, अमेश्वरी, जीजा हलधर साहू व दो भांजियों को घर से बाहर निकालकर अंदर से दरवाजा बंद कर दिया। घर के अंदर आरोपी की मां सोनी बाई व बड़ी मां सोह्द्रा बाई मौजूद रही। वहीं बीमार पिता नारायण साहू एक कमरे में खाट पर सोया था। बेटे का उत्पात देख सोनी बाई व सोह्द्रा बाई भी जैसे तैसे घर से बाहर निकल गई और पड़ोसियों को आवाज देने लगी। सामानों को तोड़ने के बाद पागल बेटे ने होश हवास खोते हुए सो रहे पिता पर कुदाली से ताबड़तोड़ हमला कर दिया। कुल आठ बार सीने में वार किया फिर सिर पर मारा।

    कमरे में जाकर ग्रामीणों ने पकड़ा आरोपी को

    पिता को मारने के बाद उसकी लाश पड़ोसी की बाड़ी में फेंक दिया। कुदाली को भी दूसरे के घर में फेंक दिया। आराम से आरोपी उसी खाट में जाकर सो गया, जिस पर पहले पिता सोया था। तोड़फोड़ की आवाज शांत होने के बाद घर के बाहर खड़े परिजनों व पड़ोसियों ने हिम्मत करके घर के अंदर प्रवेश किया। ग्रामीणों ने खाट की ओर देखा तो नारायण साहू गायब था। ग्रामीणों को हत्या की आशंका हुई।

    मौके पर खून के छींटे व मांस के टुकड़े देख सभी को माजरा समझ में आ गया। आरोपी ने ग्रामीणों को हंसते हुए बताया कि उसने अपने पिता को मार डाला है। ग्रामीणों ने आसपास देखा तो जग्गू राम साहू के बाड़ी में नारायण की लाश पड़ी थी। ग्रामीण सुदामा साहू, धनेश साहू, लेखराज साहू, उपेन्द्र चन्द्राकर, दीपक साहू, पूर्व सरपंच दुर्जन साहू सहित 20 ग्रामीणों ने जैसे तैसे आरोपी को पकड़ा और हाथ पैर मोड़कर बांधकर घर से बाहर निकाला व सड़क किनारे रेत के ढेर में सुला दिया।

    पागलपन में बाप को मारने के बाद भी आरोपी उसके पास आने वाले ग्रामीणों को गंदी गंदी गालिया देता रहा। जब पुलिस उसे गिरफ्तार करने के लिए पहुंची तो वह खूब चिल्लाता व रोता रहा। आरोपी फिर कोई हरकत न करे इसलिए उसे बंधक की तरह ही ट्रैक्टर में सुलाकर बालोद थाने लाया गया। थाना आने तक आरोपी शांत हो गया था। कोर्ट में पेश कर शाम तक जेल भेज दिया है।

    इसके बाद से वह गांव में रोजी मजदूरी कर रहा है। ट्रैक्टर में काम करने जाता था। परिजन शादी के लिए लड़की भी देख रहे थे, लेकिन कहीं रिश्ता नहीं जचने के कारण इस साल के लिए शादी टाल दिया गया था। हाल ही में युवक ने सेकंड हेंड हौंडा बाइक 30 हजार में खरीदी है। एक परिचित व्यक्ति से खरीदे गये इस बाइक का पैसा 24 हजार पहली किश्त के रूप में देने के लिए उसके गांव गया था वहां से आने के बाद उसके व्यवहार में परिवर्तन आया।

    इनका कहना है

    मामले में आरोपी युवक के पास धारा 302 हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है। गुरुवार शाम को उसे रिमांड पर जेल में दाखिल किया गया। आरोपी ने कुदाली से हमला कर अपने पिता की हत्या की है। आरोपी की मानसिक हालत ठीक नहीं है जिसके चलते उसे बांधकर थाने लाया गया था।

    जितेन्द्र रंगी टीआई बालोद थाना

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी