Naidunia
    Sunday, October 22, 2017
    PreviousNext

    लोक सुराज में मिले 28 लाख आवेदनों में सबसे अधिक पंचायत के

    Published: Sat, 20 May 2017 07:32 AM (IST) | Updated: Sat, 20 May 2017 07:32 AM (IST)
    By: Editorial Team

    - दूसरे नंबर पर नगरीय प्रशासन विभाग, 26 लाख आवेदन निपटाने का दावा

    - 27 फरवरी से शुरू हुए लोकसुराज का आज होगा समापन

    रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

    सरकारी जन समस्या निवारण अभियान 'लोक सुराज' का शनिवार को अंतिम दिन है। 27 फरवरी से तीन चरणों में चले इस अभियान के दौरान करीब 28 लाख आवेदन मिले। इनमें से लगभग 26 लाख के निराकरण का दावा किया जा रहा है। पेडिंग रह गए करीब दो लाख आवेदनों का भी अलगे दो महीने में निराकरण करने का लक्ष्य रखा गया है। सबसे ज्यादा शिकायत और मांग पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग में आई। अफसरों के अनुसार पंचायत विभाग में 25 हजार से अधिक शिकायतें मिलीं। इनमें सबसे ज्यादा मनरेगा मजदूरी और मटेरियल भुगतान में देर व गुणवत्ता को लेकर है।

    अफसरों के अनुसार लोक सुराज अभियान में इस बार रिकॉर्ड आवेदन प्राप्त हुए हैं। पंचायत विभाग के बाद नगरीय प्रशासन विभाग में सबसे ज्यादा शिकायत और मांगों के आवेदन प्राप्त हुए। पिछले साल तक शिकायत के मामले में राजस्व विभाग सबसे आगे था। इस बार यह तीसरे नंबर पर है। राजस्व विभाग में 11 हजार शिकायतें तथा करीब डेढ़ लाख विभिन्न मांगों से संबंधित आवेदन प्राप्त हुए हैं।

    शिकायत और मांग

    विभाग शिकायत मांग

    पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग 25916 1620103

    नगरीय प्रशासन विभाग 11603 136471

    राजस्व विभाग 11297 156342

    खाद्य नागरिक आपूर्ति विभाग 5362 356590

    ऊर्जा विभाग 4987 50888

    स्कूल शिक्षा विभाग 1775 20467

    लोक निर्माण विभाग 1225 23464

    वन विभाग 1134 12017

    स्वास्थ्य विभाग 881 25169

    महिला एवं बाल विकास विभाग 738 10875

    गृह विभाग 676 1149

    कृषि विभाग 647 48363

    जन शिकायत निवारण विभाग 604 903

    श्रम विभाग 592 33729

    जल संसाधन विभाग 53 21440

    ...........

    लोक सुराज में प्राप्त आवेदनों की स्थिति

    कुल आवेदन- 2854408

    ऑनलाइन- 8197

    शहरी क्षेत्र- 259622

    ग्रामीण क्षेत्र- 2586589

    ............

    इस बार तीन चरणों में चला सुराज

    पहला चरण- 26 से 28 फरवरी तक आवेदन लिए गए

    दूसरा चरण- पूरा मार्च आवेदनों का निराकरण किया गया

    तीसरा चरण- 03 अप्रैल से 20 मई शिविरों का आयोजन

    ........

    अभियान समाप्त होने के बाद भी बजट सहित अन्य कारणों से जो आवेदन पेंडिंग रह गए हैं, उनका भी समाधान डेढ़-दो महीने में कर दिया जाएगा। इसके लिए पेंडिंग मामलों की लगातार मॉनिटरिंग की जाएगी।

    सुबोध सिंह, सचिव, मुख्यमंत्री सचिवालय

    आरटीएफ

    संजीत 19 मई 02- संतोष

    समय- 10.00

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें