Naidunia
    Friday, December 15, 2017
    PreviousNext

    स्कूल से आधे किमी दूर जाकर प्यास बुझाते हैं छात्र

    Published: Fri, 08 Dec 2017 01:49 PM (IST) | Updated: Fri, 08 Dec 2017 01:54 PM (IST)
    By: Editorial Team
    water problem 08 12 2017

    नारायणपुर। जिला प्रशासन के नाक के नीचे चेचनपारा में स्कूली बच्चों की प्यास आधे किमी दूर से पानी लाने पर बुझ रही है। ज्ञान ज्योति प्राथमिक शाला चेचनपारा (पालकी) के इस स्कूल की खासियत यह है कि इसका निर्माण दान में मिली जमीन पर किया गया है।

    स्कूल के बाजू में किचन शेड पंचायत ने बनवाया है। स्कूल के सामने से वाहन के गुजरने पर धूल का गुबार शेड के नीचे रखे खाने पर जम जाता है। बारिश के दिनों में किचन शेड के अंदर बैठकर स्वसहायता समूह की महिलाएं बच्चों के लिए मध्यान्ह भोजन भी नहीं बना पाती है।

    पानी के साथ आंधी तूफान आने पर कंकड़ भी खाने में गिरते हैं, जिससे समूह की महिलाओं को काफी दिक्कतों का सामना करना पडता है। नईदुनिया रिपोर्टर से शिक्षक मनहेर राम कुमेटी कहते हैं कि गांव में सरकारी जमीन नहीं होने पर स्कूल नहीं बन रहा था।

    इसे देखते चिहरीपारा के मेहतर राम दुग्गा ने अपनी 10 डिसमिल जमीन पंचायत को दान दी। इसके बाद झोपडी में अस्थायी रूप से चलने वाले स्कूल को भवन मिल पाया। उनका कहना है कि भवन बनाने के दौरान गुणवत्ता का पालन नहीं किया गया जिससे बारिश के दिनों में पानी कमरों के अंदर आ जाता है।

    स्कूल में 28 बच्चे शिक्षा हासिल कर रहे हैं। मनहेर राम कुमेटी के मुताबिक स्कूल में पीने के पानी की भारी किल्लत है। बच्चों के लिए आधे किमी दूर से पानी लाया जा रहा है।

    वहीं 28 बच्चों के लिए जिला प्रशासन ने चार शौचालय बनाए हैं। पानी की किल्लत से इनका उपयोग भी बच्चे नहीं कर पा रहे हैं। दंतेश्वरी स्वसहायता समूह की अध्यक्ष सुरेशवती ने बताया कि किचन शेड की जर्जर हालात को लेकर कई दफे अधिकारियों से शिकायत की गई लेकिन उनकी बातों को तरजीह नहीं मिल रही है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें