Naidunia
    Tuesday, August 22, 2017
    PreviousNext

    अस्पताल ने लापरवाही में नवजात को बताया मृत, दफनाने के पहले चलने लगी सांसे

    Published: Mon, 19 Jun 2017 07:38 AM (IST) | Updated: Tue, 20 Jun 2017 10:33 AM (IST)
    By: Editorial Team
    newborn baby dead 2017619 92653 19 06 2017

    नई दिल्ली। दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल और उसके स्त्री रोग विभाग की एक और लापरवाही रविवार को सामने आई। गायनिक विभाग के डॉक्टरों ने अस्पताल में जन्मे प्रीमैच्योर नवजात बच्चे को मृत घोषित कर दिया और उसे मृतक की तरह पॉलीथिन में सील करके परिजन को सौंप दिया। परिजन जब घर पहुंचे तो देखा कि बच्चा जीवित है। इसके बाद आनन-फानन में बच्चे को अस्पताल में दोबारा भर्ती कराया गया। परिजनों ने पुलिस व अस्पताल प्रशासन से मामले की शिकायत की।

    अस्पताल प्रशासन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मेडिकल प्रोटोकॉल का हवाला देकर डॉक्टरों की गलती मानने से इन्कार कर दिया। हालांकि मामले की जांच के लिए कमिटी गठित कर दी गई है। बच्चे के पिता रोहित का कहना है कि वह बदरपुर इलाके में रहता है। उनकी पत्नी 24 सप्ताह की गर्भवती थी।

    रोहित ने बताया कि रक्तस्राव के कारण पत्नी को सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया था, जहां रविवार सुबह प्रसव हुआ। इसके बाद डॉक्टरों ने बताया कि बच्चा जीवित नहीं है। नर्सिंग कर्मचारियों ने बच्चे को कपड़े में लपेटकर पॉलीथिन में सील करके हमें सौंप दिया।

    घर पहुंचने के बाद बच्चे को दफनाने जा ही रहा था कि पॉलीथिन में हलचल देख धड़कन की जांच की तो पाया कि बच्चे की धड़कन चल रही थी। इसके बाद बच्चे को सफदरजंग अस्पताल लाकर भर्ती कराया। जहां उसका इलाज चल रहा है।

    अस्पताल का कहना है कि यह मामला प्रसव का नहीं गर्भपात का है। यह महिला का तीसरा बच्चा है उसे पहले भी गर्भपात के लिए अस्पताल में लाया गया था। रक्तस्राव के कारण उसका गर्भपात हुआ है और बच्चे का वजन महज 460 ग्राम था। अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. एके रॉय ने कहा कि कमिटी मामले की जांच कर रही है।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें