Naidunia
    Friday, November 24, 2017
    PreviousNext

    2 रुपये के सिक्के से रोक लेते थे तेज रफ्तार ट्रेन और फिर करते थे लूटपाट

    Published: Wed, 15 Nov 2017 11:24 AM (IST) | Updated: Thu, 16 Nov 2017 08:34 AM (IST)
    By: Editorial Team
    train robbery with coin img 20171115 124435 15 11 2017

    नोएडा। सूरजपुर व रेलवे पुलिस के संयुक्त अभियान के तहत ट्रेन में लूट करने वाले गिरोह के दो बदमाशों को गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ के दौरान इन बदमाशों ने ट्रेन रोकने के नायाब तरीके का खुलासा किया।

    ट्रेन रोकने के लिए ये बदमाश पटरी के बीच दो रुपये का सिक्का डाल कर अर्थिंग के जरिए हरे सिग्नल को लाल कर देते थे और ट्रेन चालक खतरा समझ कर ट्रेन को रोक देता था। ट्रेन रुकते ही बदमाश उसमें दाखिल हो जाते थे और सवारियों के साथ लूटपाट करते थे।

    गिरोह में कुल आठ सदस्य है, तीन बदमाशों को गत दिनों रामपुर पुलिस ने गिरफ्तार किया था, अब दो को ग्रेटर नोएडा में पकड़ा गया है।

    सीओ प्रथम अमित किशोर श्रीवास्तव ने बताया कि बदमाश लगातार दिल्ली-हावड़ा रूट व मुरादाबाद रूट पर ट्रेनों में घुसकर लूटपाट की घटनाओं को अंजाम दे रहे थे। दादरी-अलीगढ़ रूट बदमाशों का सॉफ्ट टारगेट था। शिकायत के आधार पर पुलिस ने इन रूट पर लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले।

    फुटेज की मदद से एक बदमाश की पहचान हो गई। सोमवार रात भी बदमाश तिलपता कंटेनर डिपो के समीप एकत्र हुए थे और दादरी-अलीगढ़ रूट पर ट्रेन में यात्रियों से लूट की योजना थी।

    बदमाशों की लोकेशन के आधार पर तिलपता के समीप से दो बदमाशों को गिरफ्तार किया गया, जबकि दो मौके से भाग निकले। पकड़े गए बदमाशों की पहचान बुलंदशहर के रहने वाले राजन व दिनेश के रूप में हुई है।बदमाशों के पास से तमंचा, दो रुपये का सिक्का बरामद किया गया है। पुलिस ने बताया कि सभी बदमाश एक ही गांव के रहने वाले हैं।

    ऐसे करते थे हरे सिग्नल को लाल-

    पुलिस ने बताया कि जब कोई ट्रेन पटरी से गुजरती है तो कुछ देर के लिए पटरी के जोड़ के बीच थोड़ी सी जगह बन जाती है। इसमें रबड़ आ जाती है। मौका पाकर बदमाश पटरी के बीच में दो रुपये का सिक्का डाल देते थे। सिक्का डालते ही रबड़ भी बीच से हट जाती थी।

    ऐसा करने से पटरियों को अर्थिंग नहीं मिलता और इस वजह से सिग्नल ग्रीन के बजाए लाल हो जाता था और ट्रेन रुक जाती थी।

    सिग्नल लाल होते ही ट्रेन चालक को लगता था कि आगे खतरा है और चालक ट्रेन को रोक देते थे। जैसे ट्रेन रुकती थी, हथियारों से लैस बदमाश स्लीपर व एसी डिब्बे में सवार हो जाते थे और लूटपाट की घटनाओं को अंजाम देते थे।

    हर बदमाश की तय होती थी भूमिका-

    पुलिस पूछताछ में पता चला है कि दो रुपये का सिक्का लगाने के बाद एक बदमाश पटरी से दूर हो जाता था और अन्य बदमाश दो किलोमीटर दूर खड़े रहते थे, जिससे कि सिग्नल ग्रीन से लाल होने पर ट्रेन रूके और बदमाश उसमें दाखिल होकर लूटपाट कर सके।

    गिरोह के एक बदमाश की भूमिका लूट के सामान को बेचने की होती थी। गिरोह के तीन बदमाश लोकेश, मोनू और राजू को बीते दिनों रामपुर पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

    तीन से पांच मिनट का लगता था समय-

    सिग्नल हरा से लाल होने पर ट्रेन रुकती थी। विशेषज्ञ द्वारा सिग्नल को फिर से हरा करने में तीन से पांच मिनट का समय लगता था। ऐसे में बदमाशों के पास महज तीन से पांच मिनट का समय ही लूटपाट के लिए रहता था। बदमाश कम समय में ही लूट कर मौके से फरार हो जाते थे।

    बदमाश अपने पास दो रुपये का लकी सिक्का रखते थे, जिससे कि सबसे ज्यादा बार सिग्नल हरे से लाल होता था। बदमाशों के पास से सात सिक्के भी बरामद किए गए हैं।

    हो सकता था बड़ा हादसा-

    पुलिस का मानना है कि पटरी के बीच में सिक्का लगाने से कई बार ट्रेन पटरी से भी उतर जाती है। यदि बदमाशों को समय पर नहीं पकड़ा जाता तो उनकी वजह से बड़ा ट्रेन हादसा हो सकता था।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें