Naidunia
    Monday, April 24, 2017
    PreviousNext

    लिट्रेसी हीरो बना भिखारी, सम्मान के साथ मिलेगा एक लाख का इनाम

    Published: Mon, 13 Feb 2017 09:58 AM (IST) | Updated: Mon, 13 Feb 2017 12:53 PM (IST)
    By: Editorial Team
    begger social service 13 02 2017

    मेहसाना। क्या कोई भिखारी समाज के लिए कुछ कर सकता है? सवाल अजीब है, लेकिन गुजरात के मेहसाना में रहने वाले खिमजी प्रजापति के काम ने उन्हें हीरो बना दिया है। खिमजी के काम को संज्ञान में लेते हुए रोटरी क्लब ऑफ इंडिया ने 'लिट्रेसी हीरो अवॉर्ड' के लिए चुना है।

    पुरस्कार के तौर पर उन्हें एक लाख रुपए और समाज में परोपकार के काम करने के लिए एक प्रशंसापत्र दिया जाएगा। एक अंग्रेजी अखबार की खबर के अनुसार, 68 साल के प्रजापति लड़कियों को शिक्षा के लिए प्रेरित करने के लिए सोने के कुंडल देते हैं। इस अनोखी समाजसेवा के लिए प्रजापति आस-पास के इलाकों में काफी मशहूर हो गए हैं।

    वह कहते हैं कि जब किसी जरूरतमंद को मैं कुछ दे पाता हूं, तब ज्यादा खुश और संतुष्ट महसूस करता हूं। रोटरी क्लब ने इस पुरस्कार के लिए प्रजापति के अलावा तीन अन्य लोगों और एक संस्थान को भी चुना है, जो जाने-माने सामाजिक कार्यकर्ता हैं। मगर, सिर्फ प्रजापति ऐसे व्यक्ति हैं, जिनके पास कोई संपत्ति नहीं है।

    फरवरी 2016 में प्रजापति उस वक्त सुर्खियों में आए थे, जब उन्होंने मेहसाना के मागपारा गांव स्थित आंगनवाड़ी स्कूल में पढ़ने वाली 10 बच्चियों को सोने के कुंडल दिए थे। इसके लिए पैसे उन्होंने इलाके में स्थित एक जैन मंदिर के बाहर भीख मांगकर जमा किए।

    प्रजापति कहते हैं कि मैंने कभी अपने लिए ऐसे किसी सम्मान की उम्मीद नहीं की थी। मेरी इच्छा है कि बच्चे पढ़ें, युवा पीढ़ी ज्यादा सशक्त बने और सब खुश रहें। इस उम्मीद को पूरा करने के लिए मैं गांवों में घूमता हूं और जरूरतमंद लोगों की तलाश करता हूं। अगर मुझे कोई जरूरतमंद मिलता है, तो मैं खुले हाथों से उसकी मदद करता हूं।

    प्रजापति ने कहा कि हाल ही में मैंने 12 लड़कियों को स्कूल यूनिफॉर्म दी। उससे पहले वह करीब तीन लड़कियों का कन्यादान भी कर चुके हैं। रोटरी क्लब ऑफ इंडिया के इस कार्यक्रम के आयोजक प्रजापति के लिए हवाई जहाज की टिकटों और उनके होटेल में रहने का इंतजाम कर रहे हैं। रोटरी क्लब ऑफ मेहसाना (लिट्रेसी) के अध्यक्ष कल्पेश शाह ने बताया कि हम उन्हें उनकी यात्रा के दौरान सभी सुविधाएं देंगे। 3 मार्च को पुरस्कार ग्रहण करने के लिए वह चेन्नै में मौजूद रहेंगे।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी