Naidunia
    Saturday, April 29, 2017
    01 Jan 2017-31 Dec 2017

    इस राशि के व्यक्ति साहसी, पराक्रमी, तेजस्वी होते हैं। विपरीत बातों को सहन नहीं करते हैं। स्वतंत्र विचारों के धनी यह जातक दूसरों की हुकूमत पसंद नहीं करते। अपने इन्हीं गुणों के कारण ये जिंदगी में वांछित मान सम्मान एवं प्रतिष्ठा अर्जित करते हैं।

    इस राशि के विद्यार्थियों के लिए वर्ष अच्छा रहेगा। तकनीकी शिक्षा, विज्ञान, व्यावसायिक कोर्सेज से जुड़े जातकों के लिए वर्ष अच्छा है। उन्नति के संकेत मिलेंगे। नौकरी व कार्यक्षेत्र में अधिकारी खुश रहेंगे। पदोन्नति मिल सकती है। व्यापार में नई कार्य योजना के साथ पैसा नहीं टिक पाएगा। आर्थिक स्थिति वर्ष भर कशमकश से गुजरती दिखाई देगी। 9 सितंबर से पहले घर में शादी, सगाई या मांगलिक कार्य होने के योग हैं।

    स्वास्थ्य के दृष्टि से यह वर्ष मेष राशि के जातकों के लिए कमजोर रहेगा। शनि प्रारंभ में आठवें स्थान पर गतिशील है, इसीलिए ढैय्या का प्रभाव रह सकता है। देवगुरु बृहस्पति सितंबर तक छठे स्थान में गतिशील रहेंगे।

    सावधानी: शत्रु और षड्यंत्र करने वाले सक्रिय रहेंगे। सावधानी बरतें। व्यापार कार्यक्षेत्र में आपकी भागीदारी कुछ कम रहेगी। आर्थिक तंगी रहेगी। घर के बुजुर्ग का स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। वर्ष चुनौतीपूर्ण रहेगा। भावनाओं में बहकर कार्य न करें। अनुभव और गलतियों से सीख लेकर आगे बढ़ें। नौकरीपेशा हैं तो नौकरी में पूरी ईमानदारी से काम को बेहतर बनाने की कोशिश करते रहें। शनि की ढैय्या का प्रभाव रहेगा। ऐसे में प्रेम संबंधों में पूरी सावधानी बरतें।

    उपाय : मेष राशि का स्वामी मंगल है, जो अग्नि तत्व प्रधान होता है। इसीलिए मंगलवार को हनुमान चालीसा का पाठ करें। तांबे का बिना जोड़ का छल्ला अनामिका अंगुली में धारण करें।


    आज का दिन

    चतुर्थी तिथी क्षय। सर्वार्थ सिद्धियोग सूर्योदय से 10। 56 तक। रवियोग 10। 57 एंव अमृत सिद्धियोग। पूर्व दिशा की यात्रा हेतु मध्यम। अन्य दिशा की यात्रा करना हो तो श्री हनुमान की पूजन कर या किसी वृद्धा का आशीर्वाद लेकर चाकलेट रंग की मिष्ठान खाकर जा सकते है। 

     

    व्रत-त्योहार

    गृहस्थ जीवन की शांति के लिए कीजिए अक्षय तृतीया व्रत

    यही वजह है कि ज्यादातर शुभ कार्यों का आरंभ इसी दिन होता है। और पढ़ें »

    अंतरयात्रा

    कर्म बंधन भी है और मुक्ति भी, लेकिन कैसे? यहां जानें

    बंधन का कर्म करने के लिए आपका विवाहित होना जरूरी नहीं है। और पढ़ें »