Naidunia
    Thursday, August 17, 2017
    01 Aug 2017-31 Aug 2017

    वृषभ राशि के स्वामी शुक्र 21 अगस्त सुबह के समय 10.51 पर मिथुन राशि से कर्क राशि में गोचर करेंगे जोकि आपकी जन्म-कुण्डली का तीसरा भाव है। सूर्य 17 अगस्त को प्रातः 00.48 मिनट पर कर्क राशि से अपनी स्वराशि सिंह में गोचर करेंगे जोकि आपकी जन्म-कुण्डली का सुख भाव है। मंगल 27 अगस्त को सुबह के समय 8.27 मिनट पर अपनी नीच राशि कर्क से मित्र राशि सिंह में गोचर करेंगे। राहु 18 अगस्त सुबह के समय 00.37 मिनट पर कर्क राशि में गोचर करेंगे और केतु भी ठीक इसी समय पर मकर राशि में चले जायेंगे। अगस्त के महीने में बुध सिंह राशि में, बृहस्पति कन्या राशि में और वक्री शनि वृश्चिक राशि में ऱहेंगे।

    इस माह में आप आनंदपूर्वक एवं रोमांचक यात्रा का आनंद उठाएंगे। विदेशी व्यापार से जुड़े जातकों के लिए अनुकूल समय है। विदेश जाने के लिए इच्छित जातकों की भी रुकावटें दूर होंगी। इस माह सार्वजनिक जीवन में आपकी मान प्रतिष्ठा अधिक होगी। नौकरीपेशा लोगों को पदोन्नति होने का अथवा प्रमोशन होने का योग बनेगा। विद्यार्थीवर्ग को शिक्षा के लिए उत्तम समय है। नौकरी में नए अवसर मिलने का योग है।

    इस माह में आप बोल चाल के व्यवहार में स्पष्टता बनाने की कोशिश करें। आप त्वचा संबंधित रोग से भी परेशान रहेंगे। आप लंबित पड़े कार्यों को तेजी से खत्म करेंगे, जिसका लाभ आने वाले समय में होगा। इस समय में आपको प्रगति के मौके मिलेंगे, उस समय आप सफलता के शिखर पर पहुंच पाएंगे। जबकि इस समय में वैचारिक उलझनों की संभावना की वजह से गणेशजी आपको हर निर्णय लेने में धीरज, एकाग्रता एवं संयम रखने की सलाह देते हैं। अब तक किए हुए कार्यों का फल भी प्राप्त होने लगेगा।

    इस माह पैतृक संपत्ति से संबंधित विवाद में आपके पक्ष में समाधान आ सकता है। नौकरी में उच्च अधिकारी आपके कार्य से प्रसन्न रहेंगे।

    इस महीने के अंतिम चरण में आपको दान-पुण्य करने का मन होगा। महीने के अंतिम दिनों में आपको आर्थिक लाभ की संभावना अधिक रहेगी।

    उपाय--इस महीने में बुधवार की रात्रि काली उड़द नीले कपड़े में बांधकर शनि मन्दिर में दान करें।

    आज का दिन

    राहु कर्क राशि।
    दक्षिण दिशा मध्यम। उतर पूर्ण का मध्यभाग शुभ। अन्य किसी दिशा की यात्रा करना हो तो बेसन मिष्ठान का इष्टदेव को भोग लगा कर जा सकते हैं।

    व्रत-त्योहार

    आखिर सोमवार को ही क्‍यों माना जाता है शिव का दिन

    सोमवार को भगवान शिव की पूजा करने की परंपरा काफी पुराने समय से चली आ रही है। और पढ़ें »

    अंतरयात्रा

    आलोचना से पहले दूसरों को समझें, नहीं होंगे कभी परेशान

    बहुत जल्दी दूसरों की आलोचना या उन पर नाराजी जाहिर करना ठीक नहीं है। और पढ़ें »