Naidunia
    Thursday, September 21, 2017
    01 Jan 2017-31 Dec 2017

    इस राशि के जातक सुंदर, आकर्षक व्यक्तित्व के धनी होते हैं। भविष्य में यह जातक उत्तम सुख-संपत्ति अर्जित करते हैं। अमूमन यह लोग मधुर भाषी, उदार और सहिष्णु होते हैं। अधिक परिश्रमी और वाकचातुर्य के कारण ये जल्द ही सफलता अर्जित करते हैं।

    धार्मिक और परोपकार के कार्यों में वर्षभर योगदान देंगे। मशीनरी और भूमि संबंधी कार्यों में रुचि लेंगे। गायन, नृत्य, सिनेमा के प्रति झुकाव रहेगा। राशिचक्र का स्वामी शुक्र है। अपने सद्गुणों का लाभ लेने से मत चूकें। जब मानवीय संबंधों की बात आती है, आप बहुत सफल होंगे, क्योंकि नक्षत्र अनुकूल हैं। इस राशि के जातकों का शुभ समय सर्दी से शुरू होगा। इस दौरान इनके नक्षत्र स्थिर होंगे इसलिए ये सभी क्षेत्रों में सफलता अर्जित करेंगे। अविवाहित लोगों के लिए साथी से संपर्क स्थापित करना आसान होगा। हमसफर से मिलने का पूरा योग है।

    2017 के शुरुआत से ही मामूली बाधाओं का सामना करना पड़ेगा। करियर में जो स्थिरता आई है, इसे बेहतर होने में थोड़ा वक्त लगेगा। रिश्ते, खास तौर से लंबे समय का रिश्ता पहले से ज्यादा गंभीर होगा।

    सावधानी: इस राशि के जातकों की प्रकृति स्वार्थी होती है। ऐसे में सजग रहने की आवश्यकता है। प्रियजनों के संपर्क में रहें। सारा ध्यान रिश्तों और व्यक्तिगत उत्थान पर केंद्रित करें। करियर संबंधित कोई भी फैसला सोच समझ कर ही लें। या फिर प्रतीक्षा करें।

    उपाय : इस राशि के जातक शुक्रवार को व्रत रखें। इसी दिन मछलियों को दाना दें। श्रीयंत्र का रोज पूजन करें। और सबसे जरूरी शक्र मंत्र "ऊं शुं शुक्राय नमः" का एक माला जप रोज करें।

    आज का दिन

    शरद नवरात्र प्रारंभ। घटस्थापना। महाराज अग्रसेन जयन्ती। दक्षिण दिशा मध्यम। उत्‍तर पूर्व का मध्यभाग शुभ अन्य दिशा यात्रा करना हो तो अपने ईष्टदेव की पूजन कर बेसन निर्मित मिठाई खा कर जायें।

    व्रत-त्योहार

    आखिर सोमवार को ही क्‍यों माना जाता है शिव का दिन

    सोमवार को भगवान शिव की पूजा करने की परंपरा काफी पुराने समय से चली आ रही है। और पढ़ें »

    अंतरयात्रा

    आलोचना से पहले दूसरों को समझें, नहीं होंगे कभी परेशान

    बहुत जल्दी दूसरों की आलोचना या उन पर नाराजी जाहिर करना ठीक नहीं है। और पढ़ें »