Naidunia
    Saturday, November 25, 2017
    PreviousNext

    उत्कृष्ट स्कूल की 10 वीं की छात्रा ने लगाई फांसी

    Published: Wed, 15 Nov 2017 06:49 PM (IST) | Updated: Wed, 15 Nov 2017 06:49 PM (IST)
    By: Editorial Team

    कोतमा। नईदुनिया न्यूज

    नगर के शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय में कक्षा 10वीं की छात्रा गंगा पिता संजय सेन 15 वर्ष ने मंगलवार की शाम घर आकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। परिजन का आरोप है कि छात्रा ने यह आत्मघाती कदम विद्यालय के शिक्षक व प्रभारी प्राचार्य आर के मिश्रा द्वारा सार्वजनिक स्थान पर मारपीट किए जाने और दुर्व्यवहार किए जाने से क्षुब्ध होकर ग्लानीवश उठा लिया था। छात्रा की मौत के बाद परिजन और नागरिकों ने बुधवार को स्कूल के प्रभारी प्राचार्य के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर पुराने अस्पताल के सामने रास्ता अवरूद्घ कर प्रदर्शन किया गया जिससे जाम के कारण ढाई घंटे तक आवाजाही प्रभावित रही।

    परिजन एवं नागरिकों ने उक्त प्रभारी शिक्षक के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने एवं नाबालिग की प्रताड़ना का प्रकरण दर्ज किए जाने की मांग उठाई। घंटो चले बवाल एवं हंगामा के बाद जनप्रतिनिधियों एवं प्रशासनिक समझाइश के बाद जाम खुल सका और परिजन शव का अंतिम संस्कार किया गया।

    समय से स्कूल से बाहर आने पर लगाई थी फटकार

    परिजन के अनुसार पूरे मामले के बारे में बताया जाता है कि 14 नवंबर को कक्षा 10 में पढ़ने वाली छात्रा गंगा देवी सेन निवासी विकास नगर वार्ड 10 अपने दो अन्य छात्राओं के साथ दोपहर 3 बजे के लगभग स्कूल से वापस घर आ रही थी जिसे रास्ते में प्रभारी आरके मिश्रा ने समय पूर्व विद्यालय से बाहर आने को लेकर तीनों छात्राओं को सरेआम जमकर फटकार लगाने के साथ मारपीट भी की, इसके बाद एक चार पहिया वाहन रोकते हुए तीनों छात्राओं एवं अन्य छात्रों को वापस स्कूल लाकर खुले परिसर में पुनः मारपीट की गई।

    घर में लगाई फांसी

    मारपीट एवं प्रताड़ना से क्षुब्ध होकर उक्त छात्रा घर पहुंचते के बाद माता-पिता की गैर हाजिरी में कमरे में जाकर पंखे में दुपट्टा के सहारे फांसी लगा ली। उस वक्त परिजन पास में खेत मे धान काटने गए थे, घर में छोटा भाई ही था। परिजन जब घर आए तो गंगा को फांसी मे देखा और फंदे से नीचे उतार गंगा को तत्काल भालूमाड़ा कालरी अस्पताल ले गए जहां से उसे कोतमा सीएचसी लाया गया जहां डाक्टरो ने गंगा को मृत घोषित कर दिया। बताया गया सार्वजनिक रूप से प्रताड़ित होने और परिजनों को जानकारी होने से गंगा काफी डर गई थी।

    आक्रोशितजन ने प्रभारी प्राचार्य को पीटा

    छात्रा की मौत के खबर के बाद मंगलवार को ही परिजन एवं जनता में उक्त प्रभारी प्राचार्य की हरकत पर भारी आक्र ोश रहा। जब यह शिक्षक अस्पताल पहुंचा तो नाराज लोगों की भीड़ ने जमकर धुनाई कर डाली। भीड़ को देखते हुए अस्पताल स्टाफ एवं अन्य लोगो द्वारा बीच-बचाव किया गया और पुलिस को सूचना दी। मामले की गंभीरता को देखते हुए इस सूचना पर थाना प्रभारी राजकुमार मिश्रा अस्पताल पहुंचे और हालात को नियंत्रण मे किया। घटना को लेकर परिजनो एवं लोगो में आक्रोश बना हुआ था। भीड़ का एक समूह पुलिस थाना जाकर कार्रवाई की मांग को लेकर डटा रहा।

    पीएम बाद शुरू प्रदर्शन

    15 नवंबर को पुराने अस्पताल में मृतिका के पीएम उपंरात परिजन एवं वार्ड वासी जमकर नाराज होते हुए बीच सड़क को जाम कर प्रभारी प्राचार्य को आरोपी बनाते हुए अपराध पंजीबद्ध करने को लेकर अड़ गए। जाम एवं हंगामे की खबर के बाद मौके पर विधायक मनोज अग्रवाल, पूर्व नपा अध्यक्ष राजेश सोनी, धर्मेन्द्र वर्मा, प्रभात मिश्रा, नितिन सिरौठिया, ब्रदी ताम्रकार, देवशरण, चन्दु वारसी, रोशन वारसी सहित सैकड़ो की संख्या में लोग स्थल पर पहुंच गए। जाम की वजह से लोग काफी देर परेशान हुए।

    पुलिस ने दर्ज किया बयान

    लोगों की बढ़ती नाराजगी एवं प्रभारी प्राचार्य आरके मिश्रा के खिलाफ मुकदमा पंजीबद्ध को लेकर किए जा रहे प्रदर्शन के बाद कोतमा पुलिस ने मृतका के साथ रही कक्षा 9 वीं की एक छात्रा, कक्षा 10 वीं की 2 छात्राओं, चाचा सुधीर सेन सहित अन्य लोगों के बयान दर्ज किए। परिजनो के अनुसार गंगा ने अपने साथ हुए प्रताड़ना एवं मारपीट की घटना को कई लोगों से बताया था।पूरे मामले में पुलिस ने अस्पताली तहरीर पर मर्ग कायम कर विवेचना में लिया है। सुबह साढ़े 10 बजे शुरू हुआ जाम दोपहर 1 बजे तक रहा जिस दौरान महिला, पुरूष सहित युवाओ की भीड़ रही जिनके द्वारा शिक्षक आर के मिश्रा एवं पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की जाती रही।

    प्रशासन और सुरक्षा बल तैनात रहा

    प्रदर्शन स्थल पर एसडीएम मिलिन्द्र नागदेवे, तहसीलदार श्रीमती भावना डेहारिया, प्रभारी एसडीओपी उमेश गर्ग, नायब तहसीलदार मनीष शुक्ला, थाना प्रभारी राजकुमार मिश्रा, केके त्रिपाठी, महेन्द्र सिंह चौहान सहित भारी संख्या में पुलिस बल सुरक्षा को लेकर तैनात रहे।

    ...........

    घटना बहुत दुखद है, पूरे मामले की जॉच गंभीरता के साथ करवाई जा रही है। बयान एवं साक्ष्य उपरांत दोषी पाए जाने पर तत्काल मामला दर्ज किया जाएगा

    सुनील जैन पुलिस अधीक्षक अनूपपुर

    और जानें :  # nn nnn
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें