Naidunia
    Friday, September 22, 2017
    PreviousNext

    एक साथ 25 हजार कांवड़ियों ने शिव का किया जलाभिषेक

    Published: Mon, 17 Jul 2017 07:28 PM (IST) | Updated: Tue, 18 Jul 2017 01:15 PM (IST)
    By: Editorial Team
    kavad 17 07 2017

    जबलपुर। जीवनदायिनी नर्मदा नदी के तट सिद्धघाट, ग्वारीघाट से सोमवार की सुबह 7.30 बजे संस्कार कावड़ यात्रा शुरू हुई। इस यात्रा में लगभग 25 हजार कावड़िए सहभागी बने और ग्वारीघाट से कैलाशधाम मटामर तक पैदल यात्रा की। शहर की मुख्य सड़कों से यह कावड़िए करीब 3 किमी. लंबी कतार में निकले, लेकिन कहीं भी जाम नहीं लगा। कावड़ियों ने अपनी-अपनी कावड़ों के एक पात्र में नर्मदाजल और दूसरे में देवरूपी वृक्ष रखकर 35 किमी. की दूरी पैदल तय की।

    संस्कार कावड़ यात्रा शुरू होने से पहले सिद्धघाट में नर्मदा मिशन के संस्थापक संत भैयाजी सरकार व पुजारी रामू दादा ने मां नर्मदा का विधिवत पूजन-अर्चन किया। फिर कावड़ियों ने अपनी कावड़ों में नर्मदाजल, देवरूपी वृक्ष रखा। इसके बाद कावड़ियों के लिए यात्रा संयोजक शिव यादव, अध्यक्ष नीलेश रावल, पूर्व महापौर विश्वनाथ दुबे, पूर्व विधायक लखन घनघोरिया, महापौर डॉ. स्वाति गोडबोले ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

    कावड़िए निर्धारित यात्रा मार्ग पर निकले और लगातार आगे बढ़ते गए। सुबह 9.30 बजे इस यात्रा का पहला सिरा शास्त्री ब्रिज पर पहुंचा। इसी समय पर रामपुर चौक से अंतिम हिस्से में चल रहे कावड़िए निकल रहे थे। यात्रा का अनेक जगह स्वागत किया गया। स्वागत मंच के सदस्यों ने कावड़ियों को पेयजल, फल देकर विदा किया।

    1.15 बजे किया शिवाभिषेक

    संस्कार कावड़ यात्रा निर्धारित मार्ग पर आगे बढ़ी और 11 बजे घमापुर चौक, दोपहर 12.30 बजे रांझी पहुंच गई। इस पैदल यात्रा के पहले हिस्से के कावड़िए दोपहर 1.15 बजे कैलाशधाम मटामर पहुंचे। यहां कावड़ियों ने भगवान शिव का पूजन-अर्चन करके नर्मदाजल से अभिषेक किया।

    कावड़ यात्रा बीच में रोकी

    मालवीय चौक से करीब 3 किमी. लंबी कावड़ यात्रा निकलते समय कई वाहन चालकों को रुकना पड़ा। करीब आधा घंटे में यहां सैकड़ों वाहन चालक जाम की स्थिति में खड़े हो गए। तब समिति के वालेंटियर्स ने कावड़ यात्रा कुछ-कुछ देर को रोकी और नागरिकों के वाहनों की आवाजाही कराई।

    घमापुर, कांचघर में नहीं लगा जाम

    वरिष्ठ उपाध्यक्ष जगत बहादुर अन्नू, राजेश यादव, कमलेश सिंह, धर्मेन्द्र नामदेव, रविन्द्र कुशवाहा, राजेन्द्र मिश्रा, अजय पटेल, आनंद पटेल की मदद से वालेंटियरों ने सराफा चौक, फूटाताल, घमापुर, कांचघर चौक में व्यवस्था बनाए रखी, जिससे कावड़ यात्रा निकलते समय कहीं भी जाम नहीं लगा।

    अलग-अलग हिस्से हुए

    समिति के वालेंटियरों की कमान पवन यादव, महेन्द्र पटेल, रंजीत सिंह, गोविंद आदि ने कावड़ यात्रा कुछ देर को रोकी। इससे यात्रा अलग-अलग हिस्सों में बट गई, लेकिन नागरिकों को परेशान नहीं होना पड़ा।

    21 हजार देवरूपी वृक्ष जमा किए

    कैलाशधाम, मटामर में शाम 4 बजे तक कावड़िए पहुंचे। यहां कावड़ों के पात्र से देवरूपी वृक्ष को एक स्थान पर रखकर नर्मदाजल से भगवान शिव का अभिषेक किया। मटामर में कावड़ियों ने 21 हजार देवरूपी वृक्ष जमा किए हैं, जो सोमवार को कैलाशधाम पहाड़ी पर लगाए जाएंगे।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें