Naidunia
    Thursday, December 8, 2016
    PreviousNext

    छात्राएं बोलीं- हम भी पढ़-लिखकर पाना चाहती हैं अच्छी नौकरी

    Published: Fri, 02 Dec 2016 04:00 AM (IST) | Updated: Fri, 02 Dec 2016 04:00 AM (IST)
    By: Editorial Team

    - गरीब और अपराधियों के बच्चों को पढ़ाने की एक और पहल

    - एरोड्रम थाने के पीछे हुआ संजीवनी केंद्र का उद्घाटन

    इंदौर। नगर प्रतिनिधि

    परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है। दूसरी कक्षा में ही पढ़ाई छोड़ना पड़ी। सपना है कि पढ़ लिखकर अच्छी नौकरी पाएं।

    यह कहना था पूर्वा तेलंग और काजल मोरे नाम की दो बच्चियों का। दोनों एरोड्रम थाने के पीछे संजीवनी केंद्र में पढ़ने के लिए आई थीं। गुरुवार को इस केंद्र का उद्घाटन किया गया। यहां इंदौर पुलिस इलाके के आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों व गरीब बच्चों को पढ़ाने और जागरूक करने का काम करेगी। अभी छत्रीपुरा थाने में यह व्यवस्था है।

    एरोड्रम टीआई के अनुसार इस केंद्र में 8 से ज्यादा कम्प्यूटर लगाए गए हैं। साथ ही जिम्नेशियम का भी सामान है। यहां बच्चों को अंग्रेजी, जनरल नॉलेज, भारत का इतिहास और कम्प्यूटर का ज्ञान दिया जाएगा। काफी संख्या में बच्चों न पढ़ने में रुचि दिखाई है। कार्यक्रम में डीआईजी और कलेक्टर भी पहुंचे थे।

    इस केंद्र में शाम 4 से 6 बजे तक बच्चों को पढ़ाया जाएगा। अभी 25-25 बच्चों का एक ग्रुप बनाया जाएगा, जो हर छह महीने में बदल दिया जाएगा। इन बच्चों को पुलिस कर्मियों के अलावा अन्य लोग भी पढ़ा सकते हैं। इसमें एरोड्रम थाना प्रभारी की पत्नी (एमटेक) ने भी बच्चों को पढ़ाने में रुचि दिखाई। उधर उद्घाटन करने आए कलेक्टर और डीआईजी को देखकर बच्चे काफी खुश हुए।

    और जानें :  # aerodrum
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      अटपटी-चटपटी