Naidunia
    Saturday, November 25, 2017
    PreviousNext

    भावांतर : पहले दिन मंडी में नहीं हुए किसानों के पंजीयन, इंटरनेट के कारण आई परेशानी

    Published: Wed, 15 Nov 2017 06:26 PM (IST) | Updated: Wed, 15 Nov 2017 06:26 PM (IST)
    By: Editorial Team

    आलीराजपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

    मुख्यमंत्री की सबसे महत्वपूर्ण योजना भावांतर के तहत पूरे प्रदेश में दूसरे चरण के लिए किसानों का पंजीयन बुधवार से शुरू हो गया। आलीराजपुर जिला मुख्यालय पर इंटरनेट कनेक्टिविटी में समस्या के कारण किसानों को पंजीयन करवाने में पहले ही दिन परेशानी उठानी पड़ी। सुबह से किसान परेशान होते रहे और दोपहर बाद मंडी में पूरा काम ठप हो गया। इतना ही नहीं मंडी में देर शाम पंजीयन की प्रक्रिया भी रोक दी गई। अफसरों ने किसानों को सोसायटी में जाकर पंजीयन करवाने के निर्देश दे दिए। अफसरों के मुताबिक नवीन आदेश के तहत मंडी में अब किसानों के पंजीयन नहीं होंगे।

    उल्लेखनीय है कि किसानों को खरीफ फसल का उचित मूल्य दिलाने के लिए लागू की गई भावांतर भुगतान योजना में जिले से लगभग 29 हजार किसानों ने ही पंजीयन करवाया था। पंजीयन कराने से छूट गए किसानों को सरकार ने एक और मौका दिया गया है। किसान 15 से 22 नवंबर तक योजना के तहत पंजीयन करवा सकते हैं। द्वितीय चरण के पंजीयन के पहले ही दिन बीएसएनएल इंटरनेट कनेक्टिविटी किसानों के लिए रोड़ा बन गई है।

    आलीराजपुर कृषि उपज मंडी प्रांगण में किसानों के पंजीयन के लिए व्यवस्था की गई थी, लेकिन इंटरनेट सुचारू रूप से नहीं चलने के कारण किसानों को परेशानी उठाना पड़ी। सुबह से ही कनेक्टिविटी में दिक्कतों का सामना करना पड़ा। इंटरनेट के कारण किसानों से सिर्फ आवेदन ही लिए गए, लेकिन दोपहर बाद पूरी प्रक्रिया पर ही विराम लगा दिया गया। किसानों को आवेदन लौटाकर पंजीयन के लिए सोसायटी में जाने के निर्देश दे दिए गए।

    पहले चरण में मात्र 539

    का हुआ था पंजीयन

    जिले में भावांतर योजना फेल हो गई है। इसके पीछे वजह अफसरों की लापरवाही और प्रचार-प्रसार बताई जा रही है। अधिकारियों ने शुरुआत में योजना में रुचि नहीं ली। इसके कारण मंडी में सिर्फ योजना के तहत 539 किसानों के ही पंजीयन हुए, जबकि जिले में बड़ी संख्या में किसान हैं। वहीं जिले के पंजीयन का आंकड़ा भी संतोषजनक नहीं रहा। ऊपर से दबाव आया, तब अफसरों की नींद टूटी और ताबड़तोड़ किसान और व्यापारियों से समन्वय कर योजना को अमलीजामा पहनाने की असफल कोशिश की गई।

    शासन के निर्देश के तहत बुधवार से भावांतर योजना के तहत पंजीयन प्रक्रिया पुनः शुरू की गई, लेकिन इंटरनेट कनेक्टिविटी की समस्या के कारण पंजीयन नहीं हो सके। बाद में आदेश के तहत किसानों को पंजीयन के लिए सोसायटी भिजवाया गया है। मंडी में अब योजना के तहत किसानों का पंजीयन नहीं होगा।

    -मांगीलाल बसोड़, मंडी सचिव, आलीराजपुर

    और जानें :  # alirajpur news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें