Naidunia
    Saturday, November 25, 2017
    PreviousNext

    मांगों को लेकर प्रधानमंत्री से मिलेगा अतिथि शिक्षक संघ

    Published: Wed, 15 Nov 2017 06:29 PM (IST) | Updated: Wed, 15 Nov 2017 06:29 PM (IST)
    By: Editorial Team

    आलीराजपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

    अतिथि शिक्षक संघ ने मंगलवार को फतेह क्लब मैदान में बैठक का आयोजन किया। इसमें शिक्षकों की समस्या और आगामी रणनीति पर चर्चा की गई।

    बैठक में पदाधिकारियों ने कहा कि सन 2013 में रायसेन जिले में मुख्यमंत्री ने घोषणा की गई थी कि मध्यप्रदेश के सभी अतिथि शिक्षकों को संविदा शिक्षक बनाया जाएगा, लेकिन तब से आज तक हर सभा और हर मंच से केवल घोषणाएं ही की गई हैं, अमल कभी किया ही नहीं गया। भाजपा सरकार ने अतिथि शिक्षकों की उन्नति के तौर पर केवल अतिथि शिक्षकों का भविष्य ही बर्बाद किया है। अतिथि शिक्षक पहले भी परेशान थे और आज भी अपने भविष्य को लेकर परेशान ही हैं।

    बैठक में उपस्थित संघ के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष महेश भूरिया ने कहा कि एक तरफ तो मप्र के हर जिले में शालाओं में पद खाली होने की वजह से लाखों बच्चे शिक्षा से वंचित हैं, दूसरी ओर भाजपा सरकार द्वारा अतिथि शिक्षकों के हाथ काट दिए गए हैं। अतिथियों से लिखवाया गया था कि अतिथि शिक्षक अपने पद पर कार्य करते रहें और उसके बदले यदि हमें मानदेय नहीं मिल रहा है तो भी हमें किसी भी प्रकार की आपत्ति नहीं होगी।

    इस प्रकार का दबाव होने के बावजूद गांव और जिले के सभी बच्चों के भविष्य को देखते हुए अपने मानदेय की चिंता नहीं करते हुए शपथ-पत्र भरने में देर नहीं की व विद्यालय में अतिथि शिक्षकों ने अपने पद और भविष्य को सुरक्षित रखने के डर से भाजपा सरकार के निर्देश अनुसार बिना मानदेय और आवंटन आने तक का इंतजार करते हुए अध्यापन कार्य प्रारंभ कर दिया। इसमें शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों और प्रशासन की कोई गलती नहीं हैं। अधिकारी ने संगठन को बताया कि आगे से हमारे पास किसी प्रकार का आदेश भाजपा सरकार द्वारा नहीं दिया गया इसलिए हम अतिथि शिक्षकों को कोई आदेश सबूत के तौर पर नहीं दे सकते है।

    भाजपा सरकारी की इस मनमानी को लेकर संगठन ने आक्रोशित होकर यह निर्णय लिया है कि 17 नवंबर 2017 को दिल्ली जाकर अपनी बात प्रधानमंत्री के समक्ष रखेंगे। 3 दिसंबर 2017 को राजधानी भोपाल में महापंचायत का आयोजन संयुक्त अतिथि शिक्षक संघ के द्वारा किया जा रहा हैं।

    मजदूर संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष केपी सिंह व मुख्य अतिथि के रूप में मुख्यमंत्री, केन्द्रीय शिक्षा मंत्री तथा राज्य शिक्षा मंत्री और अन्य दो मंत्रीगण मंच पर उपस्थित रहेंगे। इसमें जिले के सभी अतिथि शिक्षकों ने 100 प्रतिशत उपस्थिति देने की शपथ ली और अपनी मांग गुरुजी की तरह पात्रता परीक्षा लेकर संविदा शिक्षक बनाने की बात उनके समक्ष रखने का निर्णय लिया। बैठक में महेश भूरिया, लोंगसिंह चौहान, अमित कनेश, कैलाश मण्डलोई, हरसिंह धाकड़, जगन बघेल, कैलाश मंडलोई और जिले के सभी अतिथि शिक्षक उपस्थित थे।

    और जानें :  # alirajpur news
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें