Naidunia
    Sunday, September 24, 2017
    PreviousNext

    अंधेरे में डूबे नक्सल प्रभावित तीन गांव

    Published: Mon, 18 Sep 2017 12:24 AM (IST) | Updated: Mon, 18 Sep 2017 12:24 AM (IST)
    By: Editorial Team

    बालाघाट। नईदुनिया प्रतिनिधि

    आदिवासी वनांचल क्षेत्र के हाल बेहाल हैं। ग्रामीणों को बिजली आपूर्ति करने के लिए दो साल पूर्व ट्रांसफार्मर तो लगा दिया गया है लेकिन अब तक बिजली नहीं मिल सकी है। इससे करीब दो हजार से अधिक की आबादी अंधेरे में रात गुजारने को मजबूर है। यह आलम जिले के नक्सल प्रभावित कट्टीपार, सीतापाला, टाटीहल का है। ग्रामीणों ने कलेक्टर से शिकायत कर जल्द की गांव को रोशन करने की मांग की है। तीनों ग्राम राजस्व व नक्सल प्रभावित क्षेत्र में आते हैं। ये गांव जंगलों के बीच बसे होने के बाद भी इन गांवों में बिजली नहीं है। इसके कारण ग्रामीणों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

    पांच साल पहले शुरू हुई थी आपूर्ति

    ग्रामीणों ने बताया कि पांच साल पूर्व ग्राम में विद्युत आपूर्ति शुरू की गई थी। लेकिन दो साल पूर्व से यह विद्युत सेवा पूरी तरह से बाधित है। जंगल में गांव बसा होने से जहरीले जीव व वन्यप्राणियों का भय बना रहता है। इसके चलते शाम होते ही वे अपने-अपने घरों में दुबकने लगते हैं।

    ग्रामीणों ने किया था आंदोलन

    16 जून को ग्रामीणों ने चक्काजाम और धरना प्रदर्शन भी किया था। इस दौरान विद्युत विभाग के अधिकारियों ने जल्द ही समस्या निवारण करने का आश्वासन दिया था। लेकिन अब तक इस समस्या का समाधान नहीं हो पाया है।

    सड़क, पानी और स्वास्थ्य सेवाएं नदारद

    इन तीनों गांवों में सड़क, पानी के अलावा स्वास्थ्य सुविधाओं की समस्या बनी हुई है। गांव में पर्याप्त रूप से पेयजल की सुविधा नहीं है। हालांकि यहां पर हर साल फरवरी तक ठीक तरह की स्थिति रहती है। इसके बाद पानी के लिए लोगों को काफी दिक्कतें उठानी पड़ती है। रतन मंडले, लांजी ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष समेत ग्रामीणों ने जल्द ही समस्या का निवारण करने की मांग की है।

    और जानें :  # Balaghat News
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें