Naidunia
    Saturday, November 25, 2017
    PreviousNext

    ठेका निरस्त होने के डर से ठेकेदार अस्पताल लेकर आया एंबुलेंस

    Published: Wed, 15 Nov 2017 06:45 PM (IST) | Updated: Wed, 15 Nov 2017 06:45 PM (IST)
    By: Editorial Team

    24 घंटे का अल्टीमेटम दिया था, जल्द होगी अस्पताल के सुपुर्द

    खबर का नजर

    सारणी। नवदुनिया प्रतिनिधि

    वेस्टर्न कोल फिल्डस लिमिटेड पाथाखेड़ा के एरिया अस्पताल में तीन महीने से एंबुलेंस नहीं थी। मरीजों की परेशानी को देखते हुए ठेकेदार को 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया था। इसके बाद ठेकेदार ने ठेका निरस्त होने के डर से बुधवार को एंबुलेंस अस्पताल लेकर पहुंचा। हालांकि अभी एंबुलेंस अस्पताल प्रबंधन के सुपुर्द नहीं की है।

    बुधवार को नवदुनिया में समाचार प्रकाशित होने के बाद डब्ल्यूसीएल प्रबंधन हरकत में आया और आनन-फानन में ठेकेदार प्रदीप चौकीकर कर नोटिस जारी कर तत्काल एंबुलेंस देने का कह। इसके बाद ठेकेदार एंबुलेंस तो ले आया पर अस्पताल प्रबंधन के सुपुर्द नहीं किया। बताया जा रहा है कि एरिया अस्पताल में दो एंबुलेंस की आवश्यकता है। जिसमें एक एंबुलेंस एरिया अस्पताल में और दूसरी सारणी माइंस में अटैच होकर क्षेत्रीय अस्पताल की देखरेख में रहती है।

    मजदूर हितैषी संगठन मौन-

    भूमिगत खदानों में काम करने वाले श्रमिकों के सत्यापन के लिए श्रमिक संगठन पूरी ताकत झोंक देती है, लेकिन मजदूरों की सुविधा की जब बात आती है तो श्रमिक संगठन हाथ खड़े कर लेती है। इसी बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि तीन महीने से ज्यादा का समय बीत जाने के बाद भी क्षेत्र की पांचों श्रमिक संगठनों ने एंबुलेंस जैसी मूलभूत सुविधा के लिए आवाज नहीं उठाई है। आने वाले महीने में तीन श्रमिक संगठन सदस्यता अभियान की दौड़ में रहेगी। ऐसी परिस्थिति में श्रमिक संगठनों को मजदूरों के माध्यम से कैसे सहयोग किया जा सकता है।

    कंडम गाड़िया दौड़ रही सड़कों पर

    डब्ल्यूसीएल के माध्यम से ठेके पर गाड़ी चलाने का कार्य किया जाता है। आधा दर्जन से अधिक ठेकेदारों की समयावधि बीत जाने के कारण ठेकेदारों ने अपने वाहनों को चलाना बंद कर दिया है। ऐसी स्थिति में डब्ल्यूसीएल प्रबंधन पाथाखेड़ा 15 से 18 वर्ष पुरानी हो चुके वाहनों को मुख्य मार्गों पर दौड़ा रही है। जिससे डब्ल्यूसीएल के कर्मचारी भी चलाने से परहेज कर रहे है। ऐसा भी नही कि इसकी जानकारी जीएम को नहीं है, लेकिन जीएम के माध्यम से समस्या का निराकरण करने के बजाए सभी चीजों को जानकार अनजान बने हुए है। जिसके दुखत्व परिणाम सामने आने की संभावना से इंकार नही ंकिया जा सकता है।

    और जानें :  # Betul News
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें