Naidunia
    Tuesday, November 21, 2017
    PreviousNext

    शराब कारोबारी समूह के 40 ठिकानों पर आयकर का छापा

    Published: Tue, 14 Nov 2017 09:42 PM (IST) | Updated: Wed, 15 Nov 2017 07:49 AM (IST)
    By: Editorial Team
    income tax 14 11 2017

    भोपाल। आयकर विभाग की इन्वेस्टीगेशन विंग ने मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ के शराब एवं रियल एस्टेट कारोबारी केडिया समूह के 40 ठिकानों पर मंगलवार को एक साथ छापामारी शुरू की है। एक दर्जन कंपनियों की प्रारंभिक छानबीन में करोड़ों रुपए की टैक्स चोरी का खुलासा होने की संभावना जताई गई है। छह राज्यों में 12 शहरों में हुई इस छापामारी को इस साल की सबसे बड़ी कार्रवाई बताया जा रहा है। केडिया के दोनों समूह का कुल कारोबार करीब 800 से 1000 करोड़ रुपए आंका गया है।

    विंग के सूत्रों का कहना है कि केडिया के दोनों समूहों को छापे की कार्रवाई में शामिल किया गया है। दोनों समूहों के सभी दस्तावेज, अकाउंट बुक्स, कम्प्यूटर, लैपटॉप और डिजिटल डाटा कब्जे में ले लिए गए हैं। अपुष्य सूत्रों के अनुसार छानबीन में देर रात तक करीब पांच करोड़ रुपए नकद, तीन किलो ग्राम स्वर्ण एवं हीरे-जवाहरात के आभूषण बरामद होने की सूचना है। बताया जाता है कि शराब कारोबारी ने नोटबंदी के दौरान 15 करोड़ रुपए बैंकों में जमा कराए थे। एक करोड़ रुपए पीएम गरीब कल्याण योजना में जमा कराए थे। आयकर अफसरों को छानबीन के दौरान देर रात तक 350 एकड़ जमीन के दस्तावेज भी मिले हैं।

    विभागीय सूत्रों का कहना है कि समूह के संचालकों एवं कंपनियों के प्रमुख अफसरों से पूछताछ चल रही है। उनके बैंक खाते सील कर दिए गए हैं। बैंक लॉकर्स के बारे में पूछताछ की जा रही है। विभाग के पास जो सूचनाएं हैं, उसके अनुसार दोनों समूह में शराब का कारोबार नंबर दो में भी किया जा रहा था। नकदी में विक्रय और दो तरह के दस्तावेज होने के सुबूत मिले हैं।

    छह राज्य, 12 शहर

    मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, दिल्ली, उत्तर प्रदेश एवं झारखंड में छापे की कार्रवाई की गई। इन राज्यों के इंदौर, धार, रीवा, भिलाई, रायपुर, कोलकाता, जमशेदपुर एवं नोएडा सहित कुछ अन्य शहरों में भी कार्रवाई जारी है। केडिया समूह की कंपनियों के कोलकाता कनेक्शन की भी छानबीन चल रही है। विंग के प्रधान निदेशक आरके पालीवाल का कहना है कि यह इस साल की सबसे बड़ी कार्रवाई है। छापामारी में मप्र-छग के अलावा अन्य राज्यों के करीब 200 आयकर अफसर एवं करीब 125 सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है।

    इसलिए पड़ा छापा

    - दोनों समूहों के कुल टर्नओवर के मान से बहुत कम आयकर देना।

    - डबल अकाउंट में हिसाब-किताब रखना।

    - बिना लिखा-पढ़ी के शराब की सप्लाई।

    - दस्तावेजों में बोगस खर्च और आमदनी कम दिखाना।

    इन कंपनियों पर छापा

    - एसोसिएटेड अल्कोहल एंड ब्रेवरीज लिमिटेड, संचालक- आनंद एवं प्रसन्ना केडिया

    - ग्रेट गेलियन लिमिटेड कंपनी, संचालक- विनय एवं रतन केडिया

    - दोनों समूह की एक दर्जन कंपनियों सहित धार, रीवा एवं भिलाई में स्थित शराब फैक्टरियों को भी जांच के दायरे में लिया गया है।

    टैक्स चोरी की छानबीन जारी

    विभाग ने शराब एवं रियल एस्टेट कारोबारी केडिया समूह के करीब 40 ठिकानों पर छापे की कार्रवाई शुरू की है। इसमें छह राज्य और 12 शहरों में छानबीन चल रही है। टैक्स चोरी की जांच अभी एक-दो दिन और चलेगी।

    - पीके दास, प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त मप्र-छग

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें